विजयवर्गीय ने कहा-बंगाल में लग सकता है राष्ट्रपति शासन, राज्यपाल ने की मोदी-शाह से मुलाकात

नई दिल्ली : आंतरिक सुरक्षा और बंगाल हिंसा के मामले पर गृह मंत्री अमित शाह ने सोमवार को बैठक बुलाई। इस बैठक को लेकर भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के महासचिव और पश्चिम बंगाल प्रभारी कैलाश विजयवर्गीय ने कहा है कि राज्य में राष्ट्रपति शासन लग सकता है। बंगाल के राज्यपाल केशरीनाथ त्रिपाठी ने भी दिल्ली पहुंचकर प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी और अमित शाह से मुलाकात की है। हालांकि उन्होंने इसे शिष्टाचार भेंट बताया है। मालूम हो कि बंगाल में पार्टी कार्यकर्ताओं की हत्या के विरोध में भाजपा ने काला दिवस मना रही है और उसने 12 घंटे का बंद बुलाया है। शाह की बैठक में राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार (एनएसए) अजीत डोभाल भी शामिल हुए।

लोगों को भड़काने का आरोप

विजयवर्गीय ने मुख्यमंत्री ममता बनर्जी पर निशाना साधते हुए कहा कि “बंगाल में हिंसा की जिम्मेदारी ममता बनर्जी की है।” उन्होंने तृणमूल प्रमुख पर बदले की भावना से लोगों को भड़काने का आरोप लगाते हुए कहा “ममता अपने कार्यकर्ताओं से कह रही हैं कि जहां से उनकी पार्टी हार रही है, वहां भाजपा कार्यकर्ताओं को निशाना बनाया जाए।”

ममता बोलीं- मेरी आवाज कुचलने की कोशिश

राज्‍य सरकार पर लगाए जा रहे आरोपों के बीच ममता बनर्जी ने एक प्रेस वार्ता कर कहा कि “वे (भाजपा) जानते हैं कि जिस हिम्मत से मैं उनके खिलाफ बोलती हूं, इस तरह कोई नहीं बोल सकता और इसी लिए वे मेरी आवाज कुचलने की कोशिश कर रहे हैं।”

राष्ट्रपति शासन लागू हो सकता है

उन्होंने यह भी कहा कि “सारे गुंडे सत्ताधारी तृणमूल के पास ही हैं, उनके पास पिस्तौल और बम हैं। हमारे कार्यकर्ताओं के पास कोई हथियार नहीं है।” विजयवर्गीय ने कहा कि “बंगाल में ऐसे ही हिंसा होती रही तो केंद्र को हस्तक्षेप करना पड़ेगा।” साथ ही यह भी कहा “जरूरी हुआ तो बंगाल में राष्ट्रपति शासन लागू हो सकता है।” विजयवर्गीय ने कहा कि “मुझे विश्वास है कि बंगाल में हिंसा की घटना को केंद्र सरकार गंभीरता से लेगी।” उन्होंने कहा कि “लोगों के बीच हिंसा को लेकर गुस्सा है।”

राज्य में हालात नियंत्रण में

गृह मंत्रालय ने बंगाल में जारी हिंसा पर रविवार को जारी परामर्श में ममता सरकार को नागरिकों में विश्वास बनाए रखने में विफल बताया था। इसके जवाब में बंगाल के मुख्य सचिव मलय कुमार ने सोमवार दावा करते हुए कहा कि राज्य में हालात नियंत्रण में हैं। कुमार केंद्र को लिखे पत्र में चुनाव के बाद असमाजिक तत्वों द्वारा हिंसा किए जाने की बात कही है।” साथ ही उन्होंने यह भी लिखा कि “इस प्रकार के मामलों को रोकने के लिए अधिकारियों द्वारा बिना किसी देरी के कार्रवाई की गई।”

बम, गोली और बारूद की राजनीति

भाजपा प्रवक्ता शहनवाज हुसैन ने भी बंगाल हिंसा पर तृणमूल प्रमुख को निशाने पर लिया है। उन्होंने ममता बनर्जी पर मां, माटी और मानुष की जगह बम, गोली और बारूद की राजनीति करने का आरोप लगाया है। वहीं प्रदेश भाजपा के वरिष्ठ नेता मुकुल रॉय ने कहा कि तृणमूल समर्थकों ने शनिवार रात 4 पार्टी कार्यकर्ताओं की गोली मारकर हत्या कर दी।

बता दें कि राज्य सरकार पर लगाए जा रहे आरोपों को लेकर तृणमूल कांग्रेस के वरिष्ठ राज्य मंत्री ज्योतिप्रियो मलिक ने पलटवार करते हुए भाजपा पर टीएमसी कार्यकर्ता कयूम मुल्ला की हत्या का आरोप लगाया।

शेयर करें

मुख्य समाचार

सन्मार्ग एक्सक्लूसिव :आर्थिक पैकेज से हर वर्ग को राहत, न अन्न की कमी, न धन की : ठाकुर

 विशेष संवाददाता, कोलकाता : कोविड-19 संकट के आघात से देश और देश की अर्थव्यवस्था को उबारने के लिए केंद्र सरकार हरसंभव कोशिश कर रही है। आगे पढ़ें »

जार्ज फ्लायड की मौत पर आईसीसी ने कहा, विविधता के बिना क्रिकेट कुछ नहीं

दुबई : अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट परिषद (आईसीसी) ने शुक्रवार को कहा कि ‘क्रिकेट विविधता के बिना कुछ भी नहीं है।’ उसने यह बयान अफ्रीकी मूल के आगे पढ़ें »

टेस्ट मैच में लागू होगा कोरोना सब्स्टीट्यूट, जल्द मिलेगी आईसीसी की मंजूरी

विश्व पर्यावरण दिवस विशेष : तीन दशक से पर्यावरण-जंगल की रक्षा कर रहे रामगढ़ के वीरू महतो

स्थिति ठीक होने पर ही टूर्नामेंट्स हो, आज यूएस ओपन होता है तो मैं नहीं खेलूंगा : नडाल

ट्रेडिंग के आखिरी के घंटों में गंवाया लाभ, निफ्टी 0.32% और सेंसेक्स 128.84 अंक नीचे हुआ बंद

आईडब्ल्यूएफ से मुआवजे की मांग करेंगी भारोत्तोलक संजीता चानू

दर्शकों के बिना कैसे होगा विश्व कप, उचित समय का इंतजार करे आईसीसी : अकरम

बंगाल में तूफान से भी तेज हुई कोरोना मामलों की गति, अब तक के सबसे अधिक आए मामले

पश्चिम बंगाल में बेरोजगारी की दर देश की तुलना में कम: सीएमआईई आंकड़े

एसबीआई ने 2019-20 की चौथी तिमाही में 3,581 करोड़ रुपये का शुद्ध लाभ दर्ज किया

ऊपर