लॉकडाउन में सबसे ज्यादा ट्रेंड में रहीं ये डिश!

नई दिल्लीः 2020 खत्म होने को है। साल का आखिरी महीना दिसंबर शुरू हो चुका है। इसी के साथ ही साल के खत्म होने का काउंटडाउन भी शुरू हो चुका है। इस साल ने कई लोगों की जिंदगी बदल ली। कई लोगों ने नया हुनर सिखा तो कई लोगों को जिंदगी नई सीख देकर गई। इस साल तो केवल लॉकडाउन की यादें ही दिमाग में बसी है। जब सभी घरों में रहने को मजबूर हो गए थे। कोरोना वायरस के महामारी बनते ही पूरे देश ठप पड़ गया था। लॉकडाउन लगाकर इसे नियंत्रित करने की कोशिश की गई। जिसके बाद स्कूल, मॉल से लेकर ऑफिस तक और लोगों की आवाजाही पर भी रोक लगा दी गई थी। लॉकडाउन ने वैसे तो बहुत सारे लोगों की आमदनी को प्रभावित किया। वहीं घर बैठे लोग तरह तरह की रेसिपी ट्राई करने से भी पीछे नहीं रहे।
हर दिन नई रेसिपी
स्ट्रीट फूड से लेकर रेस्त्रां तक के बंद होने से लोग घर का खाने को मजबूर हो गए। लेकिन खाने-पीने के शौकीन लोगों ने इसका भी रास्ता निकाल लिया। हर दिन नई रेसिपी ट्राई करने के लिए गूगल पर इसे सर्च किया गया और हाथ आजमाया। तो चलिए जानें कि इस साल कौन-कौन सी वो रेसिपी है जिसे सबसे ज्यादा लोगों ने घर में बनाने के लिए खोजा।

गूगल में अपनी एक रिपोर्ट में बताया था कि सबसे ज्यादा सर्च की गई रेसिपी जो इंडिया में थी वो डैलेगोना कॉफी थी। वहीं चिकन मोमोज और मैंगो आइसक्रीम को भी लोगों ने जमकर खोजा। यहां तक की सोशल मीडिया पर डैलेगोना कॉफी को लेकर चैलेंज भी चला।
समोसा से लेकर जलेबी तक


इसके अलावा रसोई में अपना हाथ आजमाने के लिए बहुत सारे लोगों ने स्ट्रीट फूड को चुना। जिसमें समोसा, जलेबी से लेकर मोमोज शामिल है। पानी पूरी, ढोकला, डोसा के साथ पनीर भी लोगों ने जमकर खोजा और बनाया। वहीं जन्मदिन और सालगिरह पर केक और वो भी चॉकलेट केक सबसे ज्यादा लोगों ने खोजे और बनाए।

शेयर करें

मुख्य समाचार

SIT constituted in body trade case

हरिश्चंद्रपुर से 32 किलोग्राम गांजा सहित 5 तस्कर गिरफ्तार

कूचबिहार के दिनहाटा से मालदह के हरिश्चंद्रपुर आये थे तस्कर मालदहः मालदह के हरिश्चंद्रपुर थानांतर्गत अंगारमनी क्षेत्र से पुलिस ने 32 किलोग्राम गांजा सहित 5 तस्करों आगे पढ़ें »

घर में मौजूद ये तीन चीजें हैं बड़े काम की, जो खोलती हैं तरक्की के दरवाजे

कोलकाता : कभी-कभी जीवन में आने वाली बड़ी-बड़ी समस्याओं का हल घर में ही मौजूद होता है लेकिन हमें जानकारी नहीं होने के कारण हम आगे पढ़ें »

ऊपर