रोबोट बसा सकते हैं शहर: अध्ययन

लंदन : ‘साइंस रोबोटिक्स’ मैग्जीन में प्रकाशित अध्ययन में दावा किया गया है कि रोबोट और ड्रोन प्रकृति की युक्तियों की नकल उतार भविष्य के शहरों को बसाने में मदद कर सकते हैं। ब्रिटेन के इंपीरियल कॉलेज लंदन के मिर्को कोवाक ने कहा ‘भविष्य के शहरों का निर्माण एवं रख-रखाव जमीन पर काम करने वाले एवं हवा में उड़ सकने वाले रोबोटों के जरिए संभव होगा जो इमारतों के शहरी पारिस्थितिक तंत्र एवं अवसंरचना के निर्माण, आकलन एवं मरम्मत के लिए साथ काम करेंगे।’
सपने को हकीकत में बदल सकते हैं
कोवाक ने एक बयान में कहा ‘प्रकृति से ऐसे कई उदाहरण मिलते हैं कि इस तरह का सामूहिक निर्माण संभव है और इनमें से कुछ विचारों को सहयोग करने वाले ड्रोन बनाने और उनको संचालित करने के लिए लागू कर हम इस सपने को हकीकत में बदल सकते हैं।’
मानवीय जोखिम को भी कम करेगा
उन्होंने कहा कि रोबोट के इस्तेमाल से काम जल्दी पूरा होगा और निर्माण के साथ-साथ इन कार्यों की निगरानी भी की जा सकेगी। साथ ही यह मानवीय जोखिम को भी कम करेगा। अध्ययन के मुताबिक रोबोट जो कुछ वे करते हैं उन सबका डेटा इकठ्ठा कर सकते हैं और इसके जरिए वे अपने काम में सुधार कर सकते हैं।
कोवाक ने कहा कि अनुसंधानकर्ता इस तालमेल के तरीकों का विश्लेषण कर अल्गोरिद्म तैयार कर सकते हैं जिससे रोबोट एवं ड्रोन के समूह, निर्माण कार्य के दौरान स्वत: ही एक साथ काम करें।  बता दें कि टीम ने प्रकृति से ऐसे उदाहरण लिए जहां जीवों के समूह अपने घरौंदे बनाने में साथ काम करने के लिए विभिन्न युक्तियों का इस्तेमाल करते हैं।

शेयर करें

मुख्य समाचार

ममता ने विद्यासागर की प्रतिमा के अपमान का मुद्दा उठाया

  कोलकाता : मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने ईश्वर चंद्र विद्यासागर की 200वीं जयंती पर उन्हें श्रद्धांजलि अर्पित की। साथ ही उन्होंने​ विद्यासागर की प्रतिमा के अपमान आगे पढ़ें »

भाजपा में बड़ा उलटफेर, मुकुल बने राष्ट्रीय उपाध्यक्ष

नयी दिल्ली/ कोलकाता : भाजपा में शामिल होने के 3 वर्षों के अंदर भाजपा के वरिष्ठ नेता मुकुल राय को बड़ा पद देते हुए पार्टी आगे पढ़ें »

ऊपर