राममंदिर भूमि पूजन के पूजाचार्य ने मोदी से मांगी ये बड़ी दक्षिणा

मथुरा : अयोध्या में राम मंदिर निर्माण प्रारंभ करने के लिए कराए गए भूमि पूजन समारोह के मुख्य पूजाचार्य गंगाधर पाठक ने अपने यजमान प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से मीडिया के माध्यम से दक्षिणा में देश में गौहत्या पर पूर्ण प्रतिबंध लगाने एवं काशी तथा मथुरा के शिव व कृष्ण मंदिरों को अन्य धर्मावलंबियों के साए से मुक्त कराकर उक्त स्थलों पर भी अयोध्या के समान भव्य-दिव्य मंदिर बनाए जाने की मांग की है। गौरतलब है कि वृन्दावन के कैलाश नगर निवासी पं गंगाधर पाठक ने ही प्रधानमंत्री के हाथों भूमिपूजन कार्यक्रम से समय अभिजीत मुहूर्त में गणेश पूजा, शिलापूजा, नाग पूजा आदि सभी कार्य सम्पन्न कराए थे, लेकिन वह उस समय राम मंदिर ट्रस्ट के पदाधिकारियों द्वारा लगाई गई बंदिशों के चलते चाहकर भी अपने यजमान प्रधानमंत्री से दक्षिणा नहीं मांग सके थे। इसलिए गुरुवार को मथुरा पहुंचते ही वृन्दावन में ब्राह्मण सभा द्वारा आयोजित अपने सम्मान समारोह के मौके पर उन्होंने अपनी यह मांग रखी।
ब्राह्मण का यजमान से दक्षिणा मांगना हक
उन्होंने कहा, ‘किसी भी धर्म कार्य के पश्चात ब्राह्मण का यजमान से दक्षिणा मांगना उसका हक है। यह कोई पारिश्रमिक नहीं, बल्कि उससे इतर शुभ कार्य के भली प्रकार से सम्पन्न होने के परिणामस्वरूप पंडित को दिए जाने वाले दान के समान है। जो स्वयं में एक धर्म कार्य है।’
इन वचनों की मांग की
पाठक ने कहा, ‘यजमान की भूमिका में रहे प्रधानमंत्री ने पता नहीं, उनसे दक्षिणा मांगने का मौका क्यों नहीं दिया। किंतु यदि वे मुझे दक्षिणा प्राप्त करने का अवसर देते तो मैं उनसे तीन वचन मांगता। उन्होंने कहा, ‘पहले वचन में देश को गौहत्या के कलंक से मुक्त कराने के लिए इस पर पूर्ण प्रतिबंध लगाना, वाराणसी में काशी विश्वनाथ व मथुरा के श्रीकृष्ण जन्मस्थान स्थित मंदिर को अयोध्या के राम मंदिर के समान ही उन पर लगे संक्रमण से पूरी तरह मुक्त कराकर भव्य मंदिर निर्माण कराने की मांग करता।’ उन्होंने कहा, ‘देश में विद्वान लोग बहुत हैं, लेकिन उन्हें इस राष्ट्रीय अनुष्ठान में यह मौका मिला, जो उनके किसी पूर्व जन्म का संस्कार रहा होगा। उन्होंने कहा कि राजा, महाराजाओं ने मंदिर तो बहुत बनवाए हैं लेकिन लोकतांत्रिक व्यवस्था में किसी शासक ने इस प्रकार मंदिर की नींव नहीं रखी। प्रधानमंत्री सनातनियों के प्राण हैं और नए भारत की नींव रख रहे हैं।’ उन्होंने कहा, ‘ये दोनों मंदिर भी अब मुक्त होने चाहिए। इनके मामले में अन्यान्य से चल रहे विवाद समाप्त होने चाहिए। जिसके बाद अयोध्या के समान ही काशी व मथुरा में भी सर्वसम्मति से विशालकाय भव्य एवं दिव्य मंदिरों का निर्माण होना चाहिए।’

शेयर करें

मुख्य समाचार

हैदराबाद ने राजस्थान को 8 विकेट से हराया, मनीष-शंकर की आकर्षक बल्‍लेबाजी, टॉप-5 में पहुंची हैदराबाद

दुबई : मनीष पांडे की आकर्षक पारी और विजय शंकर के साथ उनकी अटूट शतकीय साझेदारी से सनराइजर्स हैदराबाद ने गुरुवार को यहां राजस्थान रॉयल्स आगे पढ़ें »

भारतीय महिला दल टी20 चैलेंज के लिये संयुक्त अरब अमीरात पहुंचा

दुबई : भारत की 30 शीर्ष महिला क्रिकेटर टी20 चैलेंज में भाग लेने के लिये गुरूवार को यहां पहुंची जो ‘मिनी महिला आईपीएल’ के नाम आगे पढ़ें »

ऊपर