गुर्जर आंदोलन हिंसक हुआ, पुलिस के 3 वाहनों में आग, 4 पुलिसकर्मी घायल

जयपुर : राजस्थान में आरक्षण को लेकर चल रहा आंदोलन हिंसक रूप ले रहा है, आखिर हो भी क्‍यो न जब इस आंदोलन को सत्‍ताधारी दल ही समर्थन कर रहा है। रविवार को गुर्जरों का यह हिंसक हो गया। गुर्जर नेता दिल्ली-मुंबई रेल मार्ग पर पटरियों पर बैठे हैं जिससे कई प्रमुख ट्रेनों को रद्द कर दिया गया हैं या उनके मार्ग में बदलाव कर दिया गया है। आंदोलनकारियों ने धौलपुर जिले में आगरा-मुरैना राजमार्ग को बंद करने की कोशिश की। इस दौरान उनकी पुलिस के साथ झड़प हुई। उग्र प्रदर्शनकारियों ने पुलिस के तीन वाहनों को आग के हवाले कर दिया। धौलपुर के पुलिस अधीक्षक अजय सिंह ने बताया कि कुछ असामाजिक तत्वों ने आगरा-मुरैना राजमार्ग को बाधित कर दिया तथा हुड़दंगियों ने हवा में गोलियां चलाईं। इन लोगों ने पुलिस की एक बस सहित तीन वाहनों को आग के हवाले कर दिया। इस दौरान हुए पथराव में चार जवान भी घायल हो गये। पुलिस ने आंदोलनकारियों को खदेड़ने के लिए हवा में गोलियां चलाईं। लगभग एक घंटे बाद इस राजमार्ग पर यातायात बहाल कर दिया गया। भरतपुर रेंज के आईजी भूपेंद्र साहू ने गुर्जर समुदाय से कानून व्‍यवस्‍था बनाए रखने की अपील की है। वही दूसरी ओर, गुर्जर नेता किरोड़ी सिंह बैंसला ने भी प्रदर्शनकारियों से शांति बरतने की अपील की है। बैंसला ने कहा कि प्रदेश सरकार को हमारी मांग पूरी करनी चाहिए। उन्‍होंने एक बार फिर दोहराया कि जब तक गुर्जर समुदाय को पांच प्रतिशत आरक्षण नहीं मिल जाता, आंदोलन जारी रहेगा। गौरतलब है कि आंदोलनकारियों और सरकारी प्रतिनिधिमंडल के बीच शनिवार को हुई बातचीत बेनतीजा रही थी। उल्‍लेखनीय है कि सवाईमाधोपुर-बयाना के बीच गुर्जर आंदोलन के कारण ज्यादा भीड़ हो गई है। इसलिए, पश्चिम रेलवे ने बांद्रा टर्मिनस से सवाईमाधोपुर के बीच 10-14 फरवरी के बीच रात 8:15 पर स्पेशल ट्रेन चलाई जाएगी। वहीं, पश्चिम मध्य रेलवे ने जानकारी दी है कि 10 ट्रेनें प्रभावित हैं। गौरतलब है कि वर्तमान में अन्‍य पिछड़ा वर्ग के आरक्षण के अतिरिक्‍त 50 प्रतिशत की कानूनी सीमा में गुर्जरों को अति पिछड़ा श्रेणी के तहत एक प्रतिशत आरक्षण अलग से मिल रहा है। बैंसला ने कहा है कि जब तक उनकी आरक्षण की मांग पूरी नहीं हो जाती, वह आंदोलन जारी रखेंगे।

शेयर करें

मुख्य समाचार

शतरंज पर नहीं पड़ा कोविड-19 का असर, अन्य खेल ठप पड़े

चेन्नई : ऐसे समय में जब कोविड-19 महामारी के चलते दुनिया भर में खेल गतिविधियां ठप्प पड़ी हैं, तो शतरंज एक ऐसा खेल है जो आगे पढ़ें »

भारत को दो विश्व कप जिताने वाले कप्तान ने कहा, पद्म श्री नहीं, सरकारी नौकरी चाहिए

नई दिल्ली : भारत को दो बार ब्लाइंड वर्ल्ड कप क्रिकेट जिताने वाले कप्तान शेखर नाइक इस समय वित्तीय संकट से जूझ रहे हैं। यही आगे पढ़ें »

ऊपर