राजस्थान में अशोक गहलोत के नेतृत्व वाली सरकार ने जीता विश्वास मत

जयपुर : राजस्थान में करीब एक महीने चली सियासी खींचतान के बाद अशोक गहलोत के नेतृत्व वाली कांग्रेस सरकार ने शुक्रवार को विधानसभा में विश्वास मत जीत लिया। सदन ने सरकार द्वारा लाए गए विश्वास मत प्रस्ताव को ध्वनिमत से पारित कर दिया। प्रस्ताव पर अपना जवाब देते हुए गहलोत ने विपक्ष द्वारा लगाए गए तमाम आरोपों को खारिज कर दिया। उन्होंने कहा,‘तमाम आरोपों को मैं अस्वीकार करता हूं। कोरोना वायरस महामारी की स्थिति से निपटने में राजस्थान की सराहना देश-दुनिया ने की है।’ गहलोत ने आरोप लगाया, ‘भाजपा व केंद्र की सरकार ने उनकी सरकार को गिराने का षडंत्र रचा लेकिन कांग्रेस के कुनबे में फूट डालने के उनके सपने कभी पूरे नहीं होंगे।’ विपक्षी भाजपा की ओर इशारा करते हुए गहलोत ने कहा, ‘ आपके आलाकमान ने तय कर रखा है कि राजस्थान सरकार को गिरा के रहेंगे और मैंने तय कर रखा है किसी भी कीमत पर गिरने नहीं दूंगा।’

हमारे यहां कोई फोन टैप नहीं होता

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी व केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह पर निशाना साधते हुए कहा कि देश में दो लोग ही राज कर रहे हैं। गहलोत ने कहा, ‘देश में लोकतंत्र खतरे में है जिसकी चिंता हम सभी को होनी चाहिए।’ प्रस्ताव पर बहस के दौरान विपक्षी नेताओं द्वारा कई बार मुख्यमंत्री और सचिन पायलट के बीच चली खींचतान पर कटाक्ष किए जाने का जिक्र करते हुए गहलोत ने इसे पार्टी का अंदरूनी मामला बताया। उन्होंने कहा, ‘भाजपा वाले कौन होते हैं हमारी पार्टी के बारे में बोलने वाले। ये हमारी पार्टी का अंदरूनी मामला है।’ विधायकों के फोन टैप के आरोपों को खारिज करते हुए गहलोत ने कहा,‘हमारे यहां कोई फोन टैप नहीं होता। मैं आपको विश्वास दिलाना चाहता हूं।’ मुख्यमंत्री के जवाब के बाद सदन ने सरकार के विश्वास मत प्रस्ताव को ध्वनिमत से स्वीकार कर लिया। विधानसभा अध्यक्ष सीपी जोशी ने सदन द्वारा मंत्रिपरिषद में विश्वास व्यक्त करने का प्रस्ताव स्वीकार किए जाने की घोषणा की। इसके बाद सदन की कार्रवाई 21 अगस्त तक के लिए स्थगित कर दी गयी। इससे पहले संसदीय कार्यमंत्री शांति धारीवाल ने सरकार की ओर से विश्वास मत प्रस्ताव पेश किया और कहा कि राजस्थान में ‘न किसी शाह की चलती है न तानाशाह की।’

शेयर करें

मुख्य समाचार

विपक्षी सदस्यों के आचरण से आहत हैं उपसभापति हरिवंश, करेंगे 24 घंटे का उपवास

नई दिल्ली: राज्यसभा के उप सभापति हरिवंश ने विपक्षी सदस्यों के आपत्तिजनक आचरण पर गहरी पीड़ा जताते हुए मंगलवार को घोषणा की कि वह 24 आगे पढ़ें »

इम्युनिटी बढ़ाने की दवाओं की मांग में 100 फीसदी का इजाफा

कोलकाता : कोरोना वायरस की वैक्सीन अभी तक बाजारों में उपलब्ध नहीं हो पायी है। उम्मीद जतायी जा रही है कि अगले साल के शुरू आगे पढ़ें »

ऊपर