योगी ने भारतीय सेना को मोदी जी की सेना बताया

सेना को बयान पर आपत्ति नहीं, प्रतिक्रिया भी नहीं की।। कांग्रेस सहित कुछ विपक्षों दलों ने इसे बताया सेना का अपमान।।
गाजियाबाद/नयी दिल्ली : यूपी के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने यहां एक चुनावी सभा में भाजपा के लिए प्रचार करते हुए भारतीय सेना को ‘मोदी जी की सेना’ करार दिया। विपक्षी दलों पर प्रहार करते हुए रविवार को योगी ने कहा कि कांग्रेस, समाजवादी पार्टी और बहुजन समाज पार्टी के लिए जो ‘असंभव’ था, वह अब भाजपा के शासन में संभव हो गया है। कांग्रेस के लोग आतंकवादियों को बिरयानी खिलाते थे। मोदी जी की सेना आतंकियों को गोली और गोला देती है। कांग्रेस के लोग मसूद अजहर के नाम के आगे ‘जी’ लगाते हैं, ताकि आतंकवाद को बढ़ावा मिले। कांग्रेस के लिए जो नामुमकिन था, वह अब मोदी के लिए मुमकिन है। जहां मोदी जी हैं, वहां नामुमकिन भी मुमकिन बन जाता है। योगी ने मौजूदा सांसद और केंद्रीय मंत्री वीके सिंह के लिए चुनाव प्रचार की सभा के दौरान यह बात कही।नयी दिल्ली से मिली खबरों के अनुसर सेना ने स्पष्ट शब्दों में कहा है कि उसने उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी के ‘मोदीजी की सेना’ संबंधी बयान पर कोई प्रतिक्रिया नहीं की है और न ही उसकी ऐसा करने की मंशा है। एक मीडिया रिपोर्ट में सेना के सूत्रों के हवाले से कहा गया था कि सेना ने योगी आदित्यनाथ के इस बयान पर आपत्ति जतायी है और रक्षा मंत्रालय को इससे अवगत कराया है। सेना के अनुसार मीडिया में आयी यह रिपोर्ट गलत है।
कांग्रेस सहित कुछ विपक्षी दलों ने योगी के इस बयान की आलोचना करते हुए इसे सेना का अपमान करार दिया है। कांग्रेस नेता प्रियंका चतुर्वेदी ने ट्वीट किया है, ‘अब भारतीय सेना का नामकरण करके मोदी की सेना रख दिया योगी आदित्यनाथ ने। यह हमारी सेनाओं का अपमान है। यह भारत की सेना है किसी प्रचार मंत्री की निजी सेना नहीं है। आदित्यनाथ को माफी मांगनी चाहिए।’

शेयर करें

मुख्य समाचार

मैच फीट के लिए चार चरण में अभ्यास करेंगे भारतीय क्रिकेटर : कोच श्रीधर

नयी दिल्ली : भारत के क्षेत्ररक्षण कोच आर श्रीधर का कहना है कि देश के शीर्ष क्रिकेटरों के लिए चार चरण का अभ्यास कार्यक्रम तैयार आगे पढ़ें »

नस्लभेद के खिलाफ आवाज बुलंद करे आईसीसी : सैमी

नयी दिल्ली : वेस्टइंडीज के पूर्व टी-20 कप्तान डेरेन सैमी ने अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट परिषद (आईसीसी) और अन्य क्रिकेट बोर्डों से नस्लभेद के खिलाफ आवाज बुलंद आगे पढ़ें »

ऊपर