यह आखिरी इच्‍छा लेकर ही चले गए ऋषि कपूर, नहीं हो पाई पूरी

ऋषि कपूर के निधन पर गमगीन बॉलीवुड

मुंबई : बॉलीवुड के रोमांस किंग और सदाबहार अभिनेता ऋषि कपूर के निधन पर पूरा बॉलीवुड सन्न है। बॉलीवुड की पहचान कपूर खानदान की तीसरी पीढ़ी के अंश ऋषि की असमय चिरविदायी से गमगीन सिने जगत का कहना है कि दुख सहना उनके लिए बहुत मुश्किल है। ऋषि कपूर की ख्वाहिश थी कि उनके जीवित रहते उनके बेटे रणबीर कपूर की शादी हो जाये जो उनके निधन के बाद अधूरी रह गयी। कई बार ये खबर भी आई कि रणबीर की शादी की तारीख निकलने वाली है। फिल्म ‘ब्रह्मास्त्र’ की शूटिंग के चलते रणबीर के शादी की डेट आगे बढ़ती रही और फिर कोरोना संकट के चलते देशभर में लॉकडाउन हो गया। बताया जा रहा है कि ऋषि कपूर ने अपनी होने वाली बहू आलिया भट्ट से कई बार मुलाकात की। साथ डिनर भी किया लेकिन बेटे को दूल्हा बने देखने की ऋषि की अंतिम ख्वाहिश अधूरी ही रह गयी। ऋषि कपूर ने एक बार कहा था कि बेटे की शादी देखना बाकी रह गया है।

ऋषि की एक और ख्‍वाहिश थी – मौत से पहले पाकिस्‍तान जाकर आना। बताते चलें कि ऋषि कपूर की पुश्‍तैनी हवेली अब पाकिस्‍तान में ही है, इसे देखने के लिए ही वे वहां जाना चाहते थे, लेकिन उनकी यह इच्‍छा भी अधूरी ही रह गई।

परिवार ने ऋषि के निधन के बाद एक बयान जारी करते हुए कहा कि दो साल तक ल्यूकेमिया से जंग लड़ने के बाद हमारे प्यारे ऋषि आज सुबह पौने नौ बजे इस दुनिया को अलविदा कह गये। डॉक्टरों और अस्पताल कर्मियों का कहना है कि उन्होंने आखिरी सांस तक जंग जारी रखी। दो महाद्वीपों में दो साल तक इलाज के दौरान उनके भीतर जिंदादिली कायम रही और लगातार खुश रहे। वे हमेशा परिवार, दोस्तों, खाने पीने और फिल्मों की ही बातें करते रहते थे। और इस दौरान जो भी उनसे मिला वह हैरान होता था कि कैसे इस बीमारी को उन्होंने खुद पर हावी नहीं होने दिया। परिवार ने कहा कि वह अभिनेता को ‘आंसुओं से नहीं मुस्कुराहट के साथ याद’ किया जाना पसंद करेंगे।

ऋषि को छोटा भाई मानते थे अमिताभबॉलीवुड के मंगास्टार अमिताभ बच्चन सदाबहार ऋषि कपूर को अपना छोटा भाई मानते थे। अमिताभ ने अपने ट्वीट में भावुकता भरे शब्दों में लिखा- वो गया। ऋषि कपूर गये। अभी उनका निधन हुआ। मैं टूट गया हूं। ऋषि कपूर और अमिताभ का रिश्ता काफी पुराना था और दोनों ने ही साथ में कई सुपरहिट फिल्मों में काम किया था। वर्ष 1977 में प्रदर्शित मनमोहन देसाई की सुपरहिट फिल्म ‘अमर अकबर ऐंथनी’ में ऋषि कपूर ने अमिताभ के छोटे भाई अकबर इलाहबादी का किरदार निभाया था जिसे काफी पसंद किया गया था। इसके बाद ऋषि और अमिताभ ने वर्ष 1981 में प्रदर्शित फिल्म ‘नसीब’ वर्ष 1983 में फिल्म ‘कुली’ और वर्ष 1991 में फिल्म ‘अजूबा’ में काम किया था।

फिल्म उद्योग को भारी हानि

स्वर कोकिला लता मंगेशकर ने कहा कि ऋषि के जाने से फिल्म इंडस्ट्री की बहुत हानि हुई है। दक्षिण भारतीय फिल्मों के महानायक रजनीकांत ने ट्वीट किया- दिल टूट गया…मेरे अज़ीज दोस्त। बॉलीवुड अभिनेता और भाजपा सांसद सनी देओल ने ऋषि कपूर के निधन पर एक तस्वीर साझा करते हुए उन्हें श्रद्धांजलि दी। उन्होंने लिखा कि ऋषि के जाने के गहरा सदमा लगा है, वो शानदार अभिनेता और इंसान थे। अक्षय कुमार ने कहा ऐसा लगता है कि हम एक बुरे सपने के बीच में हैं। ऋषि कपूर के जाने से बड़ा झटका लगा है। ये दिल तोड़ने वाला है। वो महान थे। एक शानदार दोस्त थे। शत्रुघ्न सिन्हा, फिल्मकार करण मल्हौत्रा, निर्देशक इम्तियाज अली, हबीब फैसल,अनुभव सिन्हा, गीतकार जावेद अख्तर, अदाकार सिम्मी ग्रेवाल, प्रियंका चोपड़ा, तापसी पन्नू, उर्मिला मातोंडकर, लेखक अपूर्व असरानी सहित कई बॉलीवुड हस्तियों ने उनके निधन पर शोक जताते हुए परिवार के प्रति संवेदना व्यक्त की।

ऋषि के साथ कई अभिनेत्रियों ने किया था डेब्यू

बॉलीवुड में ऋषि कपूर का नाम एक ऐसे अभिनेता के तौर पर भी याद किया जायेगा जिनके साथ कई अभिनेत्रियों ने सिर्फ बॉलीवुड में अपने कॅरियर की शुरूआत की बल्कि सफलता के सिंहासन पर भी विराजमान रहीं। हिंदी फिल्म इंडस्ट्री की फिल्में हीरो के इर्दगिर्द घूमती है और हीरोइन का काम गानों के समय हीरो के इर्दगिर्द नाचने तक सीमित हो जाता है। ऋषि उन गिने चुने सितारो में शुमार किये जाते हैं जिनकी फिल्मों में अभिनेत्रियों ने न सिर्फ अपने कॅरियर की शुरूआत की बल्कि सफलता का परचम लहराते हुये शीर्ष पर भी पहुंची। डिंपल कपाड़िया, काजल किरण, रंजीता,शोमा आनंद, जयाप्रदा, पद्मिनी कोल्हापुरी, राधिका, सोनम कपूर, जेबा बख्तियार, अश्विनी भावे, तापसी पन्नू सहित अभिनेत्रियों की एक लंबी फेहरिश्त है जिन्हें ऋषि के साथ हिंदी रजत पटल पर पर पहली बार आने का मौका मिला। ऋषि ने बतौर मुख्य अभिनेता ने अपने कॅरियर की शुरुआत 1973 में प्रदर्शित राजकपूर निर्मित बॉबी से की थी। बतौर अभिनेत्री डिंपल कपाड़िया की भी यह पहली ही फिल्म थी।

शेयर करें

मुख्य समाचार

खुद बनेंगे किंगमेकर, सभी 294 सीटों पर लड़ेंगे पीरजादा

पीरजादा अब्बास सिद्दीकी ने बनाया इंडियन सेक्युलर फ्रंट बंगाल की राजनीति में 'भाईजान' की एंट्री ममता को नसीहत : भाजपा के प्रभाव को रोकने के लिए मुख्यमंत्री आगे पढ़ें »

अब मास्टर मोशाय के बेटे ने किया भाजपा का रुख

रवींद्रनाथ भट्टाचार्य ने कहा : बेटा चाहे तो जा सकता है, जरूरी नहीं बाप भी साथ जाये सन्मार्ग संवाददाता कोलकाता : तृणमूल कांग्रेस में अपनी धाक रखने आगे पढ़ें »

ऊपर