मोदी ने वीर सावरकर को किया नमन, वीडियो भी शेयर किया

नयी दिल्ली : स्वतंत्रता सेनानी वीर सावरकर (विनायक दामोदर सावरकर) की 136वीं जयंती पर प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने मंगलवार को उनको नमन किया। मोदी ने ट्वीट किया, ‘‘वीर सावरकर को हम उनकी जयंती पर नमन करते हैं। वीर सावरकर ने भारत को मजबूत बनाने के लिए असाधारण साहस, देशभक्ति और असीम प्रतिबद्धता का परिचय दिया। उन्होंने देशवासियों को राष्ट्र के निर्माण के प्रति खुद को समर्पित करने के लिए प्रेरित किया।’’
सावरकर माने तीर, सावरकर माने तलवार
प्रधानमंत्री ने टि्वटर पर एक वीडियो भी शेयर किया है जिसमें उन्होंने वीर सावरकर के व्यक्तित्व पर प्रकाश डाला है। मोदी ने इस वीडियो में कहा, ‘‘सावरकर जी का व्यक्तित्व विशेषताओं से भरा था। वह शस्त्र और शास्त्र दोनों के उपासक थे। सावरकर माने तेज, सावरकर माने त्याग, सावरकर माने तप, सावरकर माने तत्व, सावरकर माने तर्क, सावरकर माने तारुण्य, सावरकर माने तीर, सावरकर माने तलवार।’’
सद्भावना और एकता पर बल दिया
प्रधानमंत्री ने वीडियो में कहा, ‘‘आमतौर पर वीर सावरकर को उनकी बहादुरी और ब्रिटिश राज के खिलाफ उनके संघर्ष के लिए जानते हैं। लेकिन इन सबके अलावा वे ओजस्वी कवि और समाज सुधारक भी थे, जिन्होंने हमेशा सद्भावना और एकता पर बल दिया। सावरकर कविता और क्रांति, दोनों को साथ लेकर चले। संवेदनशील कवि होने के साथ-साथ वह साहसिक क्रांतिकारी भी थे।’’
सावरकर ने हिन्दुत्व शब्द के प्रचलन को बढ़ाया
बता दें कि वीर सावरकर का जन्म 28 मई 1883 को हुआ था और उनका निधन 26 फरवरी 1966 को 82 वर्ष की आयु में हुआ था। इतिहासकारों के मुताबिक वीर सावरकर मुस्लिम लीग के जवाब में हिन्दू महासभा में शामिल हुए और बाद में हिन्दुत्व शब्द के प्रचलन को बढ़ाया।

गौरतलब है कि ब्रिटिश शासन के दौरान वीर सावरकर को दोहरे आजीवन कारावास की सजा सुनाई गयी थी और उन्हें अंडमान एवं निकोबार द्वीप समूह की सेलुलर जेल में कैद किया गया। बाद में उन्हें 1921 में रिहा कर दिया गया था।

शेयर करें

मुख्य समाचार

बंगाल में तीसरे दिन भी कोरोना के 800 से ज्यादा मामले, 25 की हुई मौत

कोलकाता : वेस्ट बंगाल कोविड-19 हेल्थ बुलेटिन के अनुसार पश्चिम बंगाल में पिछले 24 घंटे में कोरोना वायरस संक्रमण के 850 नये मामले आये है आगे पढ़ें »

कोरोना की वजह से 9वीं-12वीं के पाठ्यक्रम 30 फीसदी घटे

नयी दिल्ली : कोविड-19 के बढ़ते मामलों के बीच स्कूलों के ना खुल पाने के कारण शिक्षा व्यवस्था पर असर और कक्षाओं के समय में आगे पढ़ें »

ऊपर