मी टू मामले में नाना पाटेकर को मिली क्लीनचिट

मुंबईः पिछले साल अभिनेत्री तनुश्री दत्ता ने अभिनेता नाना पाटेकर पर यौन उत्पीड़न का आरोप लगाया था। जिसके बाद पूरी फिल्म इंडस्ट्री में मी टू अभियान की शुरुआत हो गई थी। नाना पर आरोप था कि उन्होंने 2008 में एक फिल्म “हॉर्न ओके प्लीज” के सेट पर शूटिंग के दौरान तनुश्री को गलत तरीके से छुआ है। अब इस मामले ने नया मोड़ लिया है। नाना के खिलाफ इस मामले में कोई सबूत नहीं मिलने के कारण पुलिस ने इस मामले को आधारहीन माना है। जिसके बाद नाना को इस मामले में क्लीनचिट मिली गई है। हालांकि तनुश्री का कहना है कि वो इस मामले में आगे लड़ाई लड़ेगी। पिछले दिनों जब क्लीनचिट की खबरें आई थी तो तनुश्री ने इन खबरों को अफवाह बताकर खारिज कर दिया था और कहा था कि उनके वकील ने कंफर्म किया है कि मी टू मामले पर अभी भी जांच चल रही है।

नहीं मिली आधिकारिक जानकारी

इस मामले को तनुश्री ने ओशिवाड़ा पुलिस थाने में दर्ज कराया था। तनुश्री के वकील नितिन सतपुते ने कहा है कि पुलिस की ओर से अभी कोई भी आधिकारिक जानकारी नहीं मिली है। उन्होंने कहा कि अगर पुलिस बी क्लासिफिकेशन फाइल करती है तो हम उसके खिलाफ कोर्ट में जाकर दोबारा जांच के लिए मांग कर सकते हैं। बताते चलें कि बी क्लासिफिकेशन फाइल करने का मतलब होता है कि पुलिस को आरोपी के खिलाफ कोई सबूत नहीं मिल रहे हैं। ऐसे में केस की जांच को आगे नहीं बढ़ाया जा सकता।

गवाहों के बयान नहीं हुए दर्ज

नाना को क्लीन‌च‌िट मिलने पर तनुश्री ने यह आरोप लगाया है कि पुलिस ने इस मामले में ठीक से कार्रवाई नहीं की है। गवाहों के बयानों को भी दर्ज नहीं किया गया। सिर्फ एक शाइनी शेट्टी का बयान दर्ज किया गया वो भी आधा-अधूरा। तनुश्री ने कहा कि नाना पाटेकर के लोग गवाहों को डरा धमका रहे हैैं जिससे गवाह अपना बयान दर्ज नहीं करा पा रहे हैैं।

बता दें कि तनुश्री के फिल्म “हॉर्न ओके प्लीज” को छोड़ने के बाद इस फिल्म में राखी सावंत को लिया गया था।

शेयर करें

मुख्य समाचार

assam

नागरिकता कानून : असम में अबतक 6 लोगों की मौत, बंगाल में उग्र प्रदर्शन जारी

गुवाहाटी : नागरिकता संशोधन कानून विरोध में प्रदर्शनों के चलते हिंसा की चपेट में आए असम में रविवार को तीसरे दिन भी कर्फ्यू में ढील आगे पढ़ें »

अपना कर्तव्य नहीं निभा रही हैं सीएम – मुकुल

कोलकाता : भाजपा के वरिष्ठ नेता व राष्ट्रीय कार्यकारिणी के सदस्य मुकुल राय ने बंगाल में कैब के विरोध में हो रहे प्रदर्शन पर कहा आगे पढ़ें »

ऊपर