माल्या ने नरेश गोयल के प्रति जताई सहानुभूति

लंदन: शराब कारोबारी विजय माल्या ने जेट एयरवेज के संस्थापक नरेश गोयल के प्रति अपनी सहानुभूति जताई है। इसके साथ ही उन्होंने भारतीय बैंकों से लिए गए ऋण को लौटाने की अपनी पेशकश भी दोहरायी। करीब 9000 करोड़ रुपये की वित्तीय धोखाखड़ी एवं धनशोधन के आरोपों का सामना कर रहे कारोबारी ने दावा किया कि भारत सरकार निजी विमानन कंपनियों के साथ भेदभाव कर रही है। उन्होंने कहा कि भारत सरकार ने सरकारी एयरलाइन एयर इंडिया को सहायता राशि दी, जबकि किंगफिशर एयरलाइन एवं अब जेट एयरवेज को संकट से उबारने में सरकार ने मदद नहीं की।


सरकार कर रही है भेदभाव

माल्या ने ट्वीट किया, ”हालांकि एक समय में जेट, किंगफिशर की बड़ी प्रतिद्वंद्वी हुआ करती थी लेकिन इस समय एक बड़ी एयरलाइन को विफलता के कगार पर पहुंचता देख मुझे दुख हो रहा है। सरकार ने एयर इंडिया को संकट से उबारने के लिए 35,000 करोड़ रुपये की सहायता राशि दी। पीएसयू होना भेदभाव का आधार नहीं हो सकता।” उन्होंने कहा, ”मैंने किंगफिशर में काफी अधिक निवेश किया। वह एयरलाइन तेजी से बढ़ी और भारत की सबसे बड़ी और सबसे अधिक पुरस्कृत एयरलाइन बन गयी। ये सच है कि किंगफिशर ने सार्वजनिक क्षेत्रों के बैंकों से भी कर्ज लिया। मैंने 100 प्रतिशत कर्ज लौटाने की पेशकश की, इसके बावजूद मुझ पर आपराधिक आरोप लगाये जा रहे हैं…”


मैं रुपये लौटाने को तैयार हूं, तो बैंक क्यों नहीं स्वीकार रही पेशकश

माल्या ने मीडिया पर भी हमला बोलते हुए दावा किया कि वह जब भी सरकारी बैंकों को पैसा लौटाने की बात करते हैं तो मीडिया में ऐसी खबरें चलने लगती हैं कि वह ब्रिटेन से भारत में प्रत्यर्पित किये जाने से ‘डर’ गए हैं। उन्होंने सवाल किया, ”मैं लंदन में रहूं या भारत की किसी जेल में, मैं रुपये लौटाने को तैयार हूं। बैंक मेरी पेशकश के बावजूद रुपये क्यों नहीं ले रहे हैं।”

शेयर करें

मुख्य समाचार

thakre

वीर सावरकर देश के पहले प्रधानमंत्री होते तो नहीं होता पाकिस्तान का जन्म : उद्धव ठाकरे

मुंबई : शिवसेना अध्यक्ष उद्धव ठाकरे ने मंगलवार को कहा कि ‌अगर वीर सावरकर इस देश के प्रधानमंत्री होते तो पाकिस्तान का जन्म भी नहीं आगे पढ़ें »

नई कारों को चलाने के शौकीन हैं तो अब यहां मिलेगी लीज पर कार

नई दिल्लीा : भारत में प्रीमियम कारों की अग्रणी विनिर्माता होंडा कार्स इंडिया लिमिटेड (एचसीआईएल) ने अपनी नई कार लीजिंग सर्विस को लॉन्च करने की आगे पढ़ें »

ऊपर