महाराष्ट्र के अलीबाग से टकराया निसर्ग तूफान, गुजरात के 16 व महाराष्ट्र के 21 जिले प्रभावित

नयी दिल्ली : सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार गुजरात के 16 व महाराष्ट्र के 21 जिले निसर्ग तूफान की वजह से प्रभावित होने की सूचना मिली है।

इससे पहले 

सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार निसर्ग महाराष्ट्र के रायगढ़ जिले के अलीबाग में समुद्र तट से टकरा गया है। इलाके में करीब 120 किमी प्रति घंटे की रफ्तार से तेज हवाएं चल रही हैं। इसे तट से गुजरने में करीब 3 घंटे का समय लगेगा। इस बीच, मुंबई के बांद्रा-वर्ली सी लिंक पर वाहनों की आवाजाही बंद कर दी गई है।

इससे पहले 

भीषण चक्रवाती तूफान ‘निसर्ग’ के बुधवार अपराह्न महाराष्ट्र और गुजरात के तट से टकराने का अनुमान है, जिसका सामना करने के लिए दोनों राज्यों में पूरी तैयारी कर ली गयी है। मौसम विभाग ने मुंबई, ठाणे और पालघर के लिए रेड अलर्ट जारी किया है जिसके बाद अधिकारियों ने मुंबई में समुद्र के पास से सैकड़ों लोगों और इसके आसपास के तटीय जिलों से हजारों निवासियों को सुरक्षित स्थानों पर पहुंचाना शुरू कर दिया है। उधर, महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने आज से लॉकडाउन में ढील देने की योजना ‘मिशन बिगिन अगेन ’ को दो दिन के लिए स्थगित कर दिया है और शहर तथा तटीय जिलों के नागरिकों को बुधवार और गुरुवार को अपने-अपने घरों में ही रहने के लिए कहा है। प्रधानमंत्री नरेंद, मोदी और राष्ट्रीय संकट प्रबंधन समिति (एनसीएमसी) ने मंगलवार को महाराष्ट्र और गुजरात में आपदा से निपटने की तैयारियों का जायजा लिया और तटीय राज्यों को हरसंभव मदद का आश्वासन दिया। मौसम विभाग ने भारी बारिश, 100-110 किलो मीटर प्रति घंटे की रफ्तार से तेज हवाएं चलने और लगभग।2 मीटर ऊंची लहरें उठने की चेतावनी जारी की है।
निसर्ग के मद्देनजर गुजरात में 50 हजार से अधिक का स्थानांतरण
गुजरात में निसर्ग तूफान के प्रभाव को कम करने के लिए राज्य सरकार ने कोविड संबंधी दिशानिर्देशों का पालन करते हुए समुद्र तटीय क्षेत्रों से 50 हजार से अधिक लोगों का सुरक्षित स्थानों पर स्थानांतरण किया है। इसके अलावा राज्य सरकार ने कई और एहतियाती कदम उठाये हैं। मौसम विभाग की ताजा जानकारी के अनुसार अरब सागर में गंभीर किस्म के तूफान में तब्दील हो चुके निसर्ग के उत्तर महाराष्ट्र में रायगढ़ जिले के अलीबाग के आसपास से आज दोपहर गुजरने की संभावना है। इसका असर सीमावर्ती दक्षिण गुजरात में भी होने के मद्देनजर राज्य सरकार ने व्यापक एहतियाती उपाय किये हैं।
50 हजार लोगों को सुरक्षित स्थानों पर किया गया स्थानांतरित
राज्य सरकार के राजस्व विभाग के अतिरिक्त मुख्य सचिव पंकज कुमार ने आज बताया कि प्रशासनिक तंत्र पूरी तरह तैयार है। विशेष रूप से दक्षिण गुजरात के वलसाड और नवसारी जिलों में खासा एहतियात बरता जा रहा है। तूफान के असर से इन जिलों के तटीय विस्तारों में 110 किमी प्रति घंटे तक की गति से और भरूच और आसपास में 80 किमी प्रतिघंटे की गति से हवाएं चलने की संभावना है। इन क्षेत्रों में भारी से अति भारी वर्षा की भी संभावना है। दक्षिण गुजरात में तटीय इलाकों से 50 हजार लोगों को सुरक्षित स्थानों पर स्थानांतरित किया गया है और इस दौरान तथा बनाये गये आश्रय स्थलों पर कोरोना संबंधी दिशा निर्देशों का भी पूरी तरह पालन किया जा रहा है। कुमार ने कहा कि इन इलाकों में अस्पतालों में भर्ती कोरोना मरीजों को कोई तकलीफ न हो इसके लिए तूफान के असर के बावजूद अस्पतालों में बिजली की आपूर्ति सुचारू रखने के लिए भी विशेष इंतजाम किये गये हैं। राहत एवं बचाव के लिए तटीय इलाकों में एनडीआरएफ की 15 तथा एसडीआरएनऊ की छह टीमें तैनात की गयी हैं। तेज हवा की आशंका के चलते वापी तथा सूरत के केमिकल उद्योगों ने भी विशेष एहतियाती उपाय किये हैं। इसके तहत वापी में अधिकतर ऐसे उद्योगों को आज बंद रखने का सुझाव प्रशासन ने दिया है।

मुम्बई में ट्रेनों के मार्ग एवं समय में बदलाव
चक्रवात तूफान ‘निसर्ग’ के आज दोपहर महाराष्ट्र के रायगढ़ जिले के अलीबाग पहुचंने की संभावना है। यह तूफान आज सुबह यहां से 215 किलोमीटर दक्षिण पश्चिम तथा रायगढ़ से करीब 165 किलोमीटर दक्षिण- दक्षिणपूर्व में अरब सागर के ऊपर फैला हुआ था। मौसम विभाग ने इसकी जानकारी दी। भारतीय मौसम विज्ञान विभाग की मुम्बई इकाई के उप महानिदेशक के। एस। होसालिकर ने बताया कि चक्रवात अलिबाग के दक्षिण के पास से 100-110 किलोमीटर प्रति घंटा की रफ्तार से गुजरेगा और इस दौरान 120 किलोमीटर प्रति घंटा की गति से हवाएं चलेंगी। उन्होंने ट्वीट किया कि ‘निसर्ग’ आज तीन जून को सुबह साढ़े पांच बजे अलीबाग से 165 किलोमीटर दक्षिण-दक्षिण पश्चिम में और मुम्बई से 215 किलोमीटर दक्षिण-दक्षिण पश्चिम में अरब सागर पहुंचेगा। आज तीन जून दोपहर को यह महाराष्ट्र के रायगढ़ जिले के अलीबाग के दक्षिण से 100-110 किलोमीटर प्रति घंटा की रफ्तार से गुजरेगा और इस दौरान 120 किलोमीटर प्रति घंटा की रफ्तार से हवाएं चलेंगी। एक अन्य ट्वीट में उन्होंने कहा कि मुम्बई में 20 से 40 मिलीमीटर बारिश हुई जबकि पिछले 12 घंटे में कई स्थानों पर हल्की बारिश हुई है। उन्होंने एक बार फिर मुम्बई और ठाणे, रायगढ़ तथा पालघर जैसे पड़ोसी जिलों में भारी बारिश की चेतावनी दी।

तेज हवाएं चलेंगी, समुद्र में काफी तेज लहरें उठेंगी
उन्होंने सोशल मीडिया पर कहा, ‘ चक्रवात के मद्देनजर आज तीन जून को मुम्बई, ठाणे, रायगढ़ और पालघर में भारी बारिश की चेतावनी दी गई है। तेज हवाएं चलेंगी, समुद्र में काफी तेज लहरें उठेंगी।’ इस बीच, मध्य रेलवे ने मुम्बई से कुछ ट्रेनों के मार्गों को बदला और कुछ के समय में परिवर्तन किया गया है। मध्य रेलवे (सीआर) ने एक प्रेस विज्ञप्ति में कहा कि मुम्बई से चलने वाली पांच विशेष ट्रनों का समय बदला गया है और तीन विशेष ट्रेनों के मार्ग को बदला जाएगा। उसने कहा कि बलाव के बाद एलटीटी-गोरखपुर विशेष अब सुबह 11 बजकर 10 मिनट की बजाय रात आठ बजे रवाना होगी। एलटीटी- तिरुवनंतपुरम विशेष सुबह 11 बजकर 40 की बजाय शाम छह बजे और एलटीटी-दरभंगा विशेष दोपरह सवा 12 की बजाय रात साढ़े आठ बजे रवाना होगी। इसके अलावा एलटीटी-वाराणसी विशेष दोपहर 12 बजकर 40 मिनट की बजाय रात नौ बजे और सीएसएमटी-भुवनेश्वर विशेष दोपहर तीन बजकर पांच मिनट की बजाय रात आठ बजे छत्रपति शिवाजी महाराज टर्मिनस रवाना होगी।
एनडीआरएफ तैनात
सीआर ने कहा कि बुधवार को सुबह साढ़े 11 बजे आने वाली पटना-एलटीटी विशेष और दोपहर सवा दो बजे आने वाली वाराणसी-सीएसएमटी विशेष के मार्ग को बदला जाएगा और वे समय से पहले यहां पहुंचेंगी। उसने कहा कि चार बजकर 40 मिनट पर आने वाली तिरुवनंतपुरम-एलटीटी विशेष का मार्ग पुणे से परिवर्तित किया जाएगा और वह लोकमान्य तिलक टर्मिनस (एलटीटी) पर समय से पहले पहुंचेगी। मौसम विभाग (आईएमडी) ने मंगलवार को बताया था कि अरब सागर में कम दबाब के क्षेत्र के कारण चक्रवाती तूफान निसर्ग के और प्रबल होने की संभावना है जो बुधवार दोपहर उत्तर महाराष्ट्र और दक्षिण गुजरात के तट पर पहुंचेगा और इसे पार कर जाएगा। महारार्ष्ट्र और गुजरात ने आपदा से मुकाबले के लिए राष्ट्रीय आपदा मोचन बल (एनडीआरएफ) के दलों को तैनात कर दिया है और जिन क्षेत्रों के चक्रवात से प्रभावित होने की आशंका है वहां से लोगों को सुरक्षित निकाला जा रहा है। कोविड-19 महामारी के संकट से पहले से जूझ रहे दोनों पश्चिमी राज्यों ने चक्रवात से मुकाबले के लिए कमर कस ली है। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने मंगलवार को इन दोनों राज्यों के मुख्यमंत्रियों से बातचीत कर उन्हें केंद्र द्वारा हर संभव सहायता प्रदान करने का आश्वासन दिया था।

शेयर करें

मुख्य समाचार

दिल्ली की अदालत ने अब इन देशों के तबलीगी जमात को दी जमानत

 नयी दिल्ली : दिल्ली की एक अदालत ने थाईलैंड और नेपाल के 75 नागरिकों को शनिवार को जमानत दे दी। इनके खिलाफ वीजा के नियमों, आगे पढ़ें »

बीएसडीयू छात्रों ने थ्री-इन-वन कोविड-19 सेफ्टी डिवाइस का किया आविष्कार

जयपुर : वैश्विक महामारी कोरोना वायरस (कोविड-19) ने देश भर को संकट में डाल रखा है, इसी दौर में भारतीय स्किल डेवलपमेंट यूनिवर्सिटी (बीएसडीयू) में आगे पढ़ें »

ऊपर