‘मन की बात’ में बोले पीएम मोदी- किसानों के जीवन में आए कई बदलाव

 

नई दिल्ली : प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने रविवार को 69वीं बार ‘मन की बात’ कार्यक्रम के जरिए देश को संबोधित किया। इस दौरान कोरोना काल के बीच सावधानियां रखने, बच्चों का ख्याल रखने त‌था किसान बिलों पर प्रधानमंत्री का फोकस रहा। साथ ही उन्होंने भरोसा दिया कि नए किसान बिलों से किसानों को लाभ होगा। उन्हें जहां ज्यादा कीमत मिलेगी अपनी फसल और फल वहीं बेंच सकेंगे।

पीएम मोदी के भाषण की कुछ प्रमुख बातें : 

कोरोना के इस कालखंड में, मैं, फिर एक बार आपको याद कराऊंगा, मास्क अवश्य रखें, फेस कवर के बिना बाहर ना जाएं। हम ना भूलें, जब तक दवाई नहीं, तब तक ढ़िलाई नहीं। इस दौरान कई परिवारों को दिक्कतें भी आईं। परिवार के बुजुर्गों ने बच्चों को कहानियां सुनाकर समय बिताया। कहानियां संवेदनशील पक्षों को सामने लाती हैं। जब मां बच्चे को खाना खिलाने के लिए कहानी सुनाती है, उसे देखना दिलचस्प होता है। मां का प्यार क्या होता है, वात्सल्य क्या होता है, उस घटना को मैं कभी नहीं भूल सकता हूं।

इस 12 अक्टूबर को राजमाता विजयाराजे सिंधिया जी की भी जयंती है, उन्होंने, अपना पूरा जीवन, लोगों की सेवा में समर्पित कर दिया। वे एक राज परिवार से थीं, उनके पास संपत्ति, शक्ति, और दूसरे संसाधनों की कोई कमी नहीं थी। लेकिन फिर भी उन्होंने, अपना जीवन, एक माँ की तरह, वात्सल्य भाव से, जन-सेवा के लिए खपा दिया।

परिवार में हर हफ्ते कहानियों के लिए समय निकालिए। इसके लिए करुणा, वीरता, प्रेम जैसे विषय भी निर्धारित कीजिए। मैं हर स्टोरी टेलर से कहना चाहता हूं कि हम आजादी का 75वां साल मनाने जा रहे हैं। आजादी से लेकर अब तक की घटनाओं को कहानियों में गढ़ सकते हैं क्या?’

गांधी जी के आर्थिक चिंतन में भारत की नस-नस की समझ थी, भारत की खुशबू थी। पूज्य बापू का जीवन हमें याद दिलाता है कि हम ये सुनिश्चित करें कि हमारा हर कार्य ऐसा हो, जिससे, गरीब से गरीब व्यक्ति का भला हो। चार साल पहले, लगभग यही समय था, जब सर्जिकल स्ट्राइक के दौरान दुनिया ने हमारे जवानों के साहस, शौर्य और निर्भीकता को देखा था । हमारे बहादुर सैनिकों का एक ही मकसद और एक ही लक्ष्य था, हर कीमत पर, भारत मां के गौरव और सम्मान की रक्षा करना।

– हम भले ही भगत सिंह न बन पाएं, लेकिन उनके पदचिह्नों पर चलने की कोशिश कर सकते हैं। चार साल पहले सितंबर में भारत ने पीओके में जाकर सर्जिकल स्ट्राइक की थी। हमारे जवानों ने अपने प्राणों की परवाह किए बिना अदम्य साहस का परिचय दिया था।

इस 12 अक्टूबर को राजमाता विजयाराजे सिंधिया जी की भी जयंती है, उन्होंने, अपना पूरा जीवन, लोगों की सेवा में समर्पित कर दिया। वे एक राज परिवार से थीं, उनके पास संपत्ति, शक्ति, और दूसरे संसाधनों की कोई कमी नहीं थी। लेकिन फिर भी उन्होंने, अपना जीवन, एक माँ की तरह, वात्सल्य भाव से, जन-सेवा के लिए खपा दिया।

शेयर करें

मुख्य समाचार

कोरोना काल में देश के नाम 7वां संबोधन, जानें पीएम के भाषण की बड़ी बातें

नई दिल्ली : प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने मंगलवार को देश के नाम संदेश दिया। कोरोना काल में ये उनका 7वां संबोधन था। पीएम मोदी ने आगे पढ़ें »

मंदिर की चौखट पर युवक की गला रेतकर हत्या

मिर्जापुर : यूपी के मिर्जापुर में एक मंदिर की चौखट पर एक युवक की गला रेतकर हत्या कर दी गई। मृतक का नाम मुन्ना पासी आगे पढ़ें »

ऊपर