भारत में फिर नहीं हो सकता 26/11 जैसा हमला

नई दिल्लीः रक्षामंत्री राजनाथ सिंह ने कहा कि 26 नवंबर राष्ट्रीय सुरक्षा की दृष्टि से अहम है क्योंकि 12 साल पहले मुंबई में ऐसा हमला हुआ था, जिससे राष्ट्रीय सुरक्षा पर नीति को बदलना पड़ा। 26/11 की घटना को भुलाया नहीं जा सकता क्योंकि राष्ट्रीय संप्रभुता को चुनौती दी गई थी। 166 जिंदगियां जो भारत ने खोई थी उसकी याद केवल उन परिवारों के मन में नहीं, राष्ट्र के मन में है। एक कार्यक्रम में राजनाथ सिंह ने पाकिस्तान को करार जवाब दिया। उन्होंने कहा कि देश की सुरक्षा को लेकर कई बदलाव किए गए हैं। उससे हम देशवासियों को विश्वास दिलाते हैं कि भारत ने आंतरिक और बाहरी सुरक्षा को इतना मजबूत कर लिया है कि एक और 26/11 भारत में होना नामुमकिन हो गया है। अभी आपने देखा होगा कि चार आतंकवादियों को उसी तरह के हमले के लिए भेजा गया था, लेकिन उन्हें मार गिराकर पाकिस्तान की नापाक साजिश को नाकाम कर दिया गया।

भारतीय सेना ने आतंकवाद के खिलाफ ऐसी कठोर कार्रवाई की है

उन्होंने कहा कि भारतीय सेना ने आतंकवाद के खिलाफ ऐसी कठोर कार्रवाई की है, जो भारत के इतिहास में नहीं मिलता। पाकिस्तान को आतंकवाद के खात्मे को लेकर खिसियाहट है कि लगातार सीजफायर उल्लंघन किया जा रहा है। इसका मुंहतोड़ जवाब दिया जा रहा है। समुद्र और आसमान में भी हमारी तैयारी पहले से पुख्ता है। 26/11 हमले के आतंकी समुद्र के रास्ते से आए थे, इसके बाद कोस्ट गार्ड में व्यापक बदलाव किया गया। त्रिस्तरीय सुरक्षा तैयार की गई है। रक्षा मंत्री ने कहा कि भारत अब सॉफ्ट टारगेट नहीं रहा, आतंकवाद फैलाने वाले पाकिस्तान को भारी कीमत चुकानी पड़ रही है। आतंकी ढांचे को नष्ट किया जा रहा है। फाइनेंशल नेटवर्क को तोड़ा जा रहा है। भारत ने दुनिया में कूटनीतिक दबाव बनाया है। पाकिस्तान एक्सपोज हो चुका है। आए दिन पाकिस्तान पर एफएटीएफ की तलवार लटकती नजर आती है।

 

शेयर करें

मुख्य समाचार

beaten

ब्रेकिंग : तृणमूल कांग्रेस के बूथ सभापति की पीट-पीटकर हत्या

बर्दवान : मंगलकोट विधानसभा क्षेत्र के बूथ नंबर 197 में भाजपा समर्थित उपद्रवियों ने तृणमूल कांग्रेस के बूथ सभापति की पीट-पीटकर हत्या कर दी।घटना की आगे पढ़ें »

ममता बनर्जी पर तंज – बंगाल के लोग अब चप्पल नहीं जूते पहनना चाहते हैं

कोलकाता : बंगाल के भाजपा प्रमुख दिलीप घोष ने तृणमूल कांग्रेस सुप्रीमो ममता बनर्जी पर तंज कसते हुए कहा कि राज्य के लोग हवाई चप्पल नहीं आगे पढ़ें »

ऊपर