भारत में ऑनलाइन बाल पोर्नोग्राफी पर लगेगी लगाम, अमेरिका करेगा मदद

नई दिल्ली : भारत में ऑनलाइन बाल (चाइल्‍ड) पोर्नोग्राफी और बाल यौन उत्पीड़न से संबंधित किसी भी विषय या सामग्री के प्रसार पर अंकुश लगने वाला है। अमेरिका इस काम में भारत की मदद करेगा। अधिकारियों के अनुसार दोनों देशों के बीच बुधवार को एक समझौते के तहत इस पर सहमति बनी है।
टिपलाइन रिपोर्ट हासिल करने में भारत की मदद करेगा
इस संबंध में भारत के राष्ट्रीय अपराध रिकॉर्ड ब्यूरो (एनसीआरबी) और अमेरिका के गुमशुदा एवं शोषित बच्चों के लिए राष्ट्रीय केंद्र (एनसीएमईसी) ने सहमति पत्र पर हस्ताक्षर किये हैं। गृह मंत्रालय के एक अधिकारी ने बताया कि समझौते पर हस्ताक्षर के साथ अब अमेरिका एनसीएमईसी से बाल यौन शोषण संबंधी विषयों या सामग्री और ऑनलाइन चाइल्ड पोर्नोग्राफी टिपलाइन रिपोर्ट प्राप्त करने में मदद करेगा। यह सहमति पत्र एनसीएमईसी के पास उपलब्ध एक लाख से अधिक टिपलाइन रिपोर्ट हासिल करने में भारत की मदद करेगा।
बाल पोर्नोग्राफी हटा सकेंगीं एजेंसियां
अधिकारी के मुताबिक यह समझौता बाल पोर्नोग्राफी एवं बाल यौन शोषण संबंधी सामग्रियों के संबंध में सूचनाएं साझा करने के लिए नया तंत्र स्थापित करने और अपराधियों के खिलाफ कानूनी कार्रवाई की खातिर राह निकालेगा। साथ ही उन्होंने बताया कि इसके अलावा कानून प्रवर्तन एजेंसियां साइबर जगत से बाल पोर्नोग्राफी एवं बाल यौन शोषण सामग्री को भी हटा पाएंगी।

शेयर करें

मुख्य समाचार

वेस्टइंडीज जीत के करीब, इंग्लैंड ने दूसरी पारी में 313 रन बनाए

साउथैम्पटन : इंग्लैंड के खिलाफ टेस्ट में वेस्टइंडीज जीत की ओर है। मैच के पांचवें दिन टी ब्रेक तक मेहमान टीम ने 4 विकेट के आगे पढ़ें »

पगबाधा का फैसला सिर्फ और सिर्फ डीआरएस से हो : तेंदुलकर

नयी दिल्ली : महान बल्लेबाज सचिन तेंदुलकर ने अंपायरों के फैसलों की समीक्षा प्रणाली (डीआरएस) से अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट परिषद (आईसीसी) को ‘अंपायर्स कॉल’ को हटाने आगे पढ़ें »

ऊपर