भारत-चीन सैनिकों के बीच इस वजह से हुई थी हिंसक झड़प

नयी दिल्ली : भारत-चीन के सैनिकों के बीच 15 जून की रात में गलवान घाटी में हिंसक झड़प एक रहस्यमय आग लगने की वजह से हुई थी। पूर्व सेनाध्यक्ष वीके सिंह ने कहा कि गलवान घाटी में भारत-चीन सैनिकों के बीच एक रहस्यमय आग की वजह से हिंसक झड़प हुई थी। ये आग चीनी सैनिकों के टेंटों में लग गई थी। सिंह ने कहा ​कि भारत और चीन के बीच लेफ्टिनेंट जनरल स्तर पर हुई बैठक में यह ​निर्णय लिया गया था कि सीमा के समीप एक भी सैनिक नहीं रहेगा। परन्तु जब 15 जून की शाम कमांडिंग ऑफिसर बॉर्डर पर चेक करने गए तो देखा कि चीन के सभी लोग वापस नहीं गए थे। वहां चीनी सैनिकों का तंबू मौजूद था। कमांडिंग ऑफिसर ने तंबू हटाने के लिए कहा इस बीच जब चीनी सैनिक तंबू हटा रहे थे, तभी अचानक आग लग गई। आग लगने के बाद दोनों देशों के सैनिकों के बीच झड़प हो गई। भारतीय सैनिक चीनियों पर हावी हो गए।

चीन के 40 से ज्यादा सैनिक मारे गए थे

दोनों देशों ने अपने और लोग बुलाए। हिंसक झड़प के दौरान चीन के 40 से ज्यादा सैनिक मारे गए। ये बात सही है। 15-16 जून की दरम्यानी रात भारत-चीन सैनिकों के बीच हिंसक झड़प में कर्नल संतोष समेत भारत के 20 जवान शहीद हुए थे, जबकि 43 चीनी सैनिकों की भी मौत हुई थी। जनरल वीके सिंह का ये बयान इसलिए अहम है क्योंकि अब तक ये दावा किया जा रहा था कि कर्नल संतोष की धोखे से हत्या की गई, जिसके बाद भारतीय सैनिकों ने चीनियों के टैंट में आग लगा दी थी।

शेयर करें

मुख्य समाचार

अरुणाचल में हुआ भारी भूस्खलन, एक परिवार के चार लोगों की हुई मौत

ईटानगर : अरुणाचल प्रदेश के पापुम पारे जिले के टिगडो गांव में लगातार बारिश के कारण शुक्रवार को हुए भूस्खलन में एक ही परिवार के आगे पढ़ें »

विद्या बालन शंकुतला देवी के बाद शेरनी बनकर आएंगी

मुंबई : दूसरी अन्य कई अभिनेत्रियों की तरह विद्या बालन ने भी इस लॉकडाउन का पूरा सदुपयोग किया है। उनके मुताबिक मौके का फायदा उठाकर आगे पढ़ें »

ऊपर