भारत-चीन के बीच लेफ्टिनेंट जनरल स्तर की हो रही है तीसरी बैठक

लद्दाख : भारत-चीन के बीच बढ़ते गतिरोध के बीच आज दोनों देशों के बीच लेफ्टिनेंट जनरल स्तर की यह तीसरी बैठक हो रही है। बैठक में भारत की तरफ से14 कॉर्प्स के कमांडर लेफ्टिनेंट जनरल हरिंदर सिंह मौजूद हैं। यह मीटिंग लाइन ऑफ एक्चुअल कंट्रोल (एलएसी) पर चुशूल सेक्टर में भारतीय इलाके में रखी गई है। इसमें पूर्वी लद्दाख की विवाद वाली जगहों से सैनिक हटाने के मुद्दे पर चर्चा की उम्मीद है। न्यूज एजेंसी ने सूत्रों के हवाले से यह जानकारी दी। दोनों देशों के बीच लेफ्टिनेंट जनरल लेवल की इस महीने तीसरी और 15 जून को गलवान में हुई झड़प के बाद दूसरी मीटिंग है। पिछली 2 बैठकों में भी तनाव कम करने और विवादित इलाकों से सैनिक हटाने पर चर्चा हुई थी। बता दें कि पहली मीटिंग 6 जून को एलएसी पर चीन की तरफ मोल्डो में जबकि दूसरी बैठक 22 जून को एलएसी पर हुई थी। भारत-चीन के बीच पूर्वी लद्दाख में पिछले 7 हफ्ते से तनाव की स्थिति है। इस बीच 15 जून को गलवान वैली में दोनों देशों के सैनिकों में हुई झड़प में भारत के 20 जवान शहीद हो गए थे। चीन के भी 40 सैनिक मारे जाने की रिपोर्ट थी
पूर्व सेनाध्यक्ष ने आग लगने की वजह से झड़प होनो बताया था
भारत-चीन के सैनिकों के बीच 15 जून की रात में गलवान घाटी में हिंसक झड़प एक रहस्यमय आग लगने की वजह से हुई थी। पूर्व सेनाध्यक्ष वीके सिंह ने कहा कि गलवान घाटी में भारत-चीन सैनिकों के बीच एक रहस्यमय आग की वजह से हिंसक झड़प हुई थी। ये आग चीनी सैनिकों के टेंटों में लग गई थी। सिंह ने कहा ​कि भारत और चीन के बीच लेफ्टिनेंट जनरल स्तर पर हुई बैठक में यह ​निर्णय लिया गया था कि सीमा के समीप एक भी सैनिक नहीं रहेगा। परन्तु जब 15 जून की शाम कमांडिंग ऑफिसर बॉर्डर पर चेक करने गए तो देखा कि चीन के सभी लोग वापस नहीं गए थे। वहां चीनी सैनिकों का तंबू मौजूद था। कमांडिंग ऑफिसर ने तंबू हटाने के लिए कहा इस बीच जब चीनी सैनिक तंबू हटा रहे थे, तभी अचानक आग लग गई। आग लगने के बाद दोनों देशों के सैनिकों के बीच झड़प हो गई। भारतीय सैनिक चीनियों पर हावी हो गए। दोनों देशों ने अपने और लोग बुलाए। हिंसक झड़प के दौरान चीन के 40 से ज्यादा सैनिक मारे गए। ये बात सही है। 15-16 जून की दरम्यानी रात भारत-चीन सैनिकों के बीच हिंसक झड़प में कर्नल संतोष समेत भारत के 20 जवान शहीद हुए थे, जबकि 43 चीनी सैनिकों की भी मौत हुई थी। जनरल वीके सिंह का ये बयान इसलिए अहम है क्योंकि अब तक ये दावा किया जा रहा था कि कर्नल संतोष की धोखे से हत्या की गई, जिसके बाद भारतीय सैनिकों ने चीनियों के टैंट में आग लगा दी थी।

शेयर करें

मुख्य समाचार

दो बार के ओलंपिक चैम्पियन लिन डैन ने अंतरराष्ट्रीय बैडमिंटन को अलविदा कहा

बीजिंग : बैडमिंटन के इतिहास में महानतम खिलाड़ियों में शुमार दो बार के ओलंपिक चैम्पियन चीन के लिन डैन ने शनिवार को अंतरराष्ट्रीय बैडमिंटन को आगे पढ़ें »

प्रधानमंत्री ने युवाओं की दी देशी ऐप बनाने की चुनौती, मिलेगा इतने लाख रुपये इनाम

नयी दिल्ली : चीन के साथ सीमा पर चल रहे तनाव और चीन की 59 मोबाइल ऐप पर प्रतिबंध लगाये जाने के बीच प्रधानमंत्री नरेन्द्र आगे पढ़ें »

ऊपर