भारतीय मुसलमान घुसपैठिये व शरणार्थी नहीं, डरना नहीं चाहिए :  सैयद गैयरुल हसन रिजवी 

 अल्पसंख्यकों को नागरिकता देने का विरोध नहीं, मजहब को बुनियाद बनाने की मुखालफत : मौलाना अरशद मदनी
नयी दिल्ली : नागरिकता संशोधन कानून को लेकर खड़े हुए सियासी बवाल के बीच राष्ट्रीय अल्पसंख्यक आयोग के प्रमुख सैयद गैयरुल हसन रिजवी ने शनिवार को कहा कि यह मुस्लिम विरोधी नहीं है और भारतीय मुसलमानों को डरने की जरूरत नहीं है क्योंकि वे घुसपैठिये या शरणार्थी नहीं हैं।
सैयद गैयरुल हसन रिजवी ने कहा कि सरकार से अपेक्षा है कि राष्ट्रीय नागरिक पंजी (एनआरसी) लाने पर वह इस बात का ध्यान रखेगी कि भारतीय मुसलमानों को कोई परेशानी नहीं हो। रिजवी ने कहा, ‘यह कानून अल्पसंख्यक विरोधी नहीं है। पारसी, ईसाई, सिख, जैन और बौद्ध भी अल्पसंख्यक हैं। कुछ राजनीतिक लोग कह रहे हैं कि यह मुस्लिम विरोधी है लेकिन यह मुस्लिम विरोधी नहीं है। भारत के मुसलमानों के बारे में इस विधेयक में कुछ नहीं कहा गया है।’ उन्होंने कहा, ‘यहां के मुसलमानों को पाकिस्तान, बांग्लादेश और अफगानिस्तान के मुसलमानों से क्या लेना देना है? भारतीय मुसलमान को डरने और घबराने की जरूरत नहीं है।’ अल्पसंख्यक आयोग के प्रमुख ने कहा, ‘यहां के मुसलमान घुसपैठिये नहीं हैं। यहां का मुसलमान सम्मानित नागरिक है और इसको यहां से निकालने का कोई सवाल नहीं है। गृहमंत्री ने भी यही बात कही है।’

कानून के अल्फाज को दुरुस्त किया जा सकता था

मौलाना सैयद अरशद मदनी (फाइल फोटो)

वहीं, देश में मुसलमानों के प्रमुख संगठन जमीयत उलेमा-ए-हिंद के अध्यक्ष मौलाना सैयद अरशद मदनी ने कहा है कि संशोधित नागरिकता कानून की मुखालफत कुछ पड़ोसी मुल्कों के अल्पसंख्यकों को नागरिकता देने के लिए नहीं, बल्कि इस कानून में धार्मिक आधार पर नागरिकता देने और इसमें एक समुदाय (मुसलमानों) को शामिल नहीं करने के लिए की जा रही है। मौलाना मदनी ने कहा, ‘कानून के अल्फाज को दुरुस्त किया जा सकता था और सिर्फ यह कानून बना दिया जाता कि अगर कोई भी शख्स मजहब की बुनियाद पर सताए जाने की वजह से इस देश में आएगा, हम उसे अपने देश में जगह देंगे, क्योंकि पाकिस्तान, बांग्लादेश और अफगानिस्तान से कोई मुसलमान मजहब की बुनियाद पर प्रताड़ना का शिकार होकर भारत नहीं आएगा।’ जमीयत प्रमुख ने रोहिंग्या मुसलमानों को भी भारतीय नागरिकता देने की मांग करते हुए कहा, ‘बर्मा (म्यांमार) भी पहले भारत का ही हिस्सा था और अगर आप इन तीन मुल्कों के गैर मुस्लिमों को भारत में रहने की इजाजत दे सकते हैं तो आप रोहिंग्या को भी इजाजत दे सकते हैं। मगर आप ऐसा नहीं कर रहे हैं, क्योंकि आपकी नागरिकता देने की बुनियाद मजहब पर आधारित है।’ मुसलमानों से सड़कों पर प्रदर्शन नहीं करने की अपील करते हुए मौलाना मदनी ने कहा, ‘हम मुसलमानों से सड़कों पर उतर कर प्रदर्शन नहीं करने को कहते हैं। यह हमारी रिवायत नहीं है। हम चाहते हैं मुल्क में चैन-ओ-अमन बना रहे। हम इसे कानूनी तौर पर लड़ेंगे और हमारा मानना है कि देश में मुसलमान हजारों साल से रह रहा है।’

शेयर करें

मुख्य समाचार

ऊपर