भारतीय बैंकों से 10 हजार करोड़ रुपये का केस हारे माल्या, ब्रिटेन में कोर्ट ने दिया आदेश

नई दिल्लीः भारत में एक दर्जन से अधिक बैंकों को चूना लगाने के मामले में भगौड़े और कारोबारी विजय माल्या को ब्रिटेन की एक अदालत ने करारा झटका दिया है। वह लंदन में भारतीय बैंकों की ओर से दायर किए गए करीब 10 हजार करोड़ रुपये का मुकदमा हार गए। इस मामले शराब कारोबारी विजय माल्या पर बड़े पैमाने पर धोखाधड़ी करने का आरोप है। इससे पहले कोर्ट ने माल्या की वह याचिका खारिज कर दी, जिसमें उसने दुनिया भर में फैली अपनी संपत्ति को फ्रीज करने के आदेश को वापस लेने की गुहार लगाई थी। कोर्ट के आदेशानुसार अब बैंकों को अनुमति दी गयी है कि वे ब्रिटेन में माल्‍या की संपत्‍ति बेचकर अपनी राशि की वसूली कर सकते हैं। ब्रिटेन की अदालत में माल्या के प्रत्यर्पण को लेकर भी मुकदमा चल रहा है। माल्या पर आरोप है कि उसने किंगफिशर एयरलाइंस के लिए गए लगभग दस हजार करोड़ रुपये के कर्ज को जानबूझकर नहीं चुकाया।
जज एंड्र्यू हेनशॉ ने कहा कि आईडीबीआई बैंक सहित सभी लेंडर्स भारतीय कोर्ट द्वारा दिए गए आदेश को लागू कर सकते हैं, जो माल्या पर उनकी दिवालिया किंगफिशर एयरलाइंस के 1.5 अरब डॉलर करीब दस हजार करोड़ रुपये का कर्ज का जानबूझकर डिफॉल्ट करने के आरोपों से संबंधित था। जज हेनशॉ ने माल्या की संपत्‍तियों को जब्त करने संबंधी वैश्विक आदेश को पलटने से इंकार कर दिया। लंदन की कोर्ट ने भारतीय अदालत के उस आदेश को सही बताया है।
सुनवाई के बाद माल्‍या के वकीलों ने बयान देने से इंकार कर दिया। जज हेनशॉ ने माल्या को अपने फैसले के खिलाफ अपील करने की मंजूरी देने से भी इंकार कर दिया। इसका मतलब है कि माल्या के वकीलों को अब सीधे कोर्ट ऑफ अपील में ही याचिका दाखिल करनी होगी

शेयर करें

मुख्य समाचार

raut

सावरकर के विरोधियों को भेज दो अंडमान जेल, तभी होगा बलिदान का एहसासः राउत

मुंबई : वीर सावरकर को लेकर सियासी गलियारों में बयानबाजी का दौर थमता नहीं दिख रहा। इसी कड़ी में शिवसेना के प्रवक्ता और सांसद संजय आगे पढ़ें »

usmania

माओवादियों से संबंध रखने के आरोप में उस्मानिया विश्वविद्यालय का प्राध्यापक गिरफ्तार

हैदराबाद : उस्मानिया विश्वविद्यालय के एक प्राध्यापक को पुलिस ने शनिवार को गिरफ्तार कर लिया। आरोप है कि प्राध्यापक के माओवादियों से संबंध है। पुलिस आगे पढ़ें »

ऊपर