बिहार में बाढ़ का कहर, आठ नदियां खतरे के निशान से ऊपर, 71 लाख से अधिक लोग प्रभावित

पटना : नेपाल और बिहार के जलग्रहण क्षेत्रों में हो रही बारिश के कारण राज्य की आठ नदियों में उफान के कारण आई बाढ़ से 16 जिलों की 71 लाख से अधिक आबादी प्रभावित है वहीं 23 लोगों की मौत हो चुकी है। केंद्रीय जल आयोग की ओर से बुधवार को नदियों के दैनिक जलस्तर और बाढ़ पूर्वानुमान के जारी आंकड़े के अनुसार, बिहार में बूढ़ी गंडक और बागमती नदी का जलस्तर चार-चार स्थान पर, घाघरा, अधवारा समूह, कमला-बलान और कोसी दो-दो स्थान पर तथा गंगा और गंडक नदी एक-एक स्थान पर खतरे के निशान से ऊपर रिकॉर्ड किया गया है। बिहार में बूढ़ी गंडक नदी का जलस्तर मुजफ्फरपुर के सिकंदरपुर में 68 सेंटीमीटर, समस्तीपुर में 183 सेंटीमीटर, रोसड़ा में 320 सेंटीमीटर और खगड़िया में 129 सेंटीमीटर वहीं घाघरा नदी सीवान के दरौली में 63 सेंटीमीटर एवं गंगपुरसिसवन में 78 सेंटीमीटर, गंगा नदी भागलपुर के कहलगांव में सात सेंटीमीटर तथा गंडक गोपालगंज के डुमरियाघाट में 97 सेंटीमीटर ऊपर है। इसी तरह बागमती नदी का जलस्तर सीतामढ़ी जिले के ढेंग ब्रिज में 25 सेंटीमीटर, मुजफ्फरपुर जिले के रुन्नीसैदपुर में 207 सेंटीमीटर एवं बेनीबाद में 94 सेंटीमीटर, दरभंगा के हायाघाट में 227 सेंटीमीटर तथा अधवारा समूह दरभंगा के कमतौल में 115 सेंटीमीटर एवं एकमीघाट में 210 सेंटीमीटर, कमला बलान नदी मधुबनी के जयनगर में 10 सेंटीमीटर एवं झंझारपुर में 19 सेंटीमीटर, कोसी नदी खगड़िया के बलतारा में 192 सेंटीमीटर, कटिहार के कुरसेला में 25 सेंटीमीटर ऊपर बह रही है।

शेयर करें

मुख्य समाचार

फीस नहीं देने के कारण कोई बोर्ड परीक्षा से वंचित नहीं होगा : हाई कोर्ट

कोलकाता : किसी भी छात्र व छात्रा को बोर्ड की परीक्षा में बैठने से सिर्फ इस आधार पर वंचित नहीं किया जा सकता है कि आगे पढ़ें »

व्यापक सुधारों के अभाव में संयुक्त राष्ट्र पर मंडरा रहा ‘भरोसे की कमी’ का संकट : मोदी

संयुक्त राष्ट्र: प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने कहा कि व्यापक सुधारों के अभाव में संयुक्त राष्ट्र पर ‘भरोसे की कमी का संकट’ मंडरा रहा है। उन्होंने आगे पढ़ें »

ऊपर