बिहार के बाहर फंसे राज्य के लोगों से बात कर उनकी परेशानियां करें दूर : नीतीश

पटना : कोरोना वायरस संक्रमण से देश के बचाव के लिए लागू लॉकडाउन की वजह से दूसरे राज्य में फंसे बिहार के निवासियों की परेशानियां दूर करने के लिए बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने मुख्य सचिव को बाहर फंसे राज्य के लोगों से जानकारियां लेकर उनकी परेशानियों को अविलंब दूर करने का निर्देश दिया। कुमार ने यहां एक, अणे मार्ग में हुई उच्चस्तरीय बैठक में बाहर फंसे बिहार के लोगों को हो रही समस्याओं तथा मुख्यमंत्री आवास के दूरभाष, स्थानिक आयुक्त के हेल्पलाइन नंबर, आपदा प्रबंधन विभाग के हेल्पलाइन नम्बर पर फंसे हुए लोगों से प्राप्त सूचनाओं के संबंध में गहन समीक्षा के बाद मुख्य सचिव को निर्देश देते हुए कहा कि ऐसे लोगों को फोन कर उनकी समस्याओं और उन्हें प्राप्त होने वाली सुविधाओं के बारे में जानकारी ली जाए तथा उन्हें जो भी समस्याएं हो रही हैं उनके समाधान के लिए अविलंब कार्रवाई करते हुए उन्हें सहायता उपलब्ध कराई जाए।
सूचना के आधार पर करें परेशानियां दूर
मुख्यमंत्री ने कहा कि सभी सूचना देने वालों से उनका हाल जाना जाए तथा उनसे मिली जानकारी के आधार पर त्वरित कार्रवाई करते हुए बाहर फंसे लोगों की परेशानियों को अविलंब दूर करना सुनिश्चित किया जाए। कुमार ने कहा कि जो लोग बाहर से बिहार आए हैं उनकी स्क्रीनिंग, भोजन, आवासन की व्यवस्था के साथ-साथ उन्हें चिकित्सीय सुविधा उपलब्ध करायी जाए तथा इस क्रम में निर्धारित प्रोटोकॉल का पालन किया जाए। उन्होंने निर्देश दिया कि यह सुनिश्चित किया जाए कि उन्हें किसी तरह की समस्या न हो।
संदिग्ध लोगों की गहन ट्रैकिंग कराए
मुख्यमंत्री ने निर्देश दिया कि कोरोना वायरस से संक्रमित मरीजों के सम्पर्क में आने वाले संदिग्ध लोगों की गहन ट्रैकिंग कराए जाने के साथ ही उनकी जांच कराई जाए। इसके लिये टेसि्टंग किट एवं अन्य आवश्यक उपकरण की उपलब्धता सुनिश्चित कराई जाए।
बर्ड फ्लू एवं स्वाइन फ्लू के लिए उठाये आवश्यक कदम
बैठक में बर्ड फ्लू एवं स्वाईन फ्लू को लेकर भी समीक्षा की गयी। मुख्यमंत्री ने मुख्य सचिव को निर्देश दिया कि बर्ड फ्लू एवं स्वाइन फ्लू की स्थिति की भी लगातार निगरानी करते हुए आवश्यक कदम उठाना सुनिश्चित करें। कुमार ने एक्यूट इंसेफेलाइटिस सिंड्रोम (एईएस) की समीक्षा के क्रम में निर्देश दिया कि इस बीमारी के संदर्भ में अभी से ही पूरी तैयारी रखी जाए। एईएस प्रभावित संभावित क्षेत्रों में सभी प्रकार के सुरक्षात्मक उपाय करें एवं जागरूकता फैलाना सुनिश्चित करें तथा वहां सम्पूर्ण स्वच्छता का ध्यान रखें।
पैनिक न हो निवासी
मुख्यमंत्री ने कोरोना संक्रमण की गंभीरता को देखते हुए लोगों से सचेत रहने की अपील करते हुए कहा, ‘पैनिक होने की जरूरत नहीं है। इसके लिये जो जहां हैं, सोशल डिस्टेंसिंग को अपनायें। आप सब लोग अपने घर के अंदर रहें, अनावश्यक रूप से बाहर न निकलें। किसी को भी समस्या नहीं होने दी जायेगी। मुझे पूरा विश्वास है कि आप सभी के सहयोग से हम सब मिलकर इस चुनौती का सफलतापूर्वक सामना करने में सक्षम होंगे।’

शेयर करें

मुख्य समाचार

बंगाल में कोरोना वायरस संक्रमण के 2752 नये आये मामले

कोलकाता : वेस्ट बंगाल कोविड-19 हेल्थ बुलेटिन के अनुसार पश्चिम बंगाल में कोरोना वायरस संक्रमण के पिछले 24 घंटे में 2752 नये मामले आये है आगे पढ़ें »

राममंदिर के शिलान्यास के अवसर पर अपने घरों में दीपावाली मनाएं : रावत

देहरादून : उत्तराखंड के मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत ने पांच अगस्त को अयोध्या में राममंदिर निर्माण हेतु भूमिपूजन के अवसर पर प्रदेश की जनता से आगे पढ़ें »

ऊपर