बड़ी कामयाबी : होम्योपैथी दवा के हमले से ढेर हुआ कोराेना, 42 संक्रमित मरीज हुए स्वस्थ

नयी दिल्ली: देशभर में कोरोना वायरस संक्रमण से बचाव के लिए कई तरह के उपाय किये जा रहे है। इस बीच जयपुर से बड़ी कामयाबी की अच्छी खबर आई जिसमें सभी उम्र के कुल 42 कोरोना वायरस संक्रमण से संक्रमित मरीजों को होम्योपैथी दवा से कुछ दिनों में ठीक कर दिया गया है। सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार होम्‍योपैथी विश्वविद्यालय, जयपुर के 5 डॉक्टरों की टीम ने ‘एसएमएस महिला अस्‍पताल’ में भर्ती 55 मरीजों का अध्ययन किया। इनमें से सभी उम्र के 42 कोरोना संक्रमितों को दवा दी गई और वो ठीक होकर अपने घर चले गए।
विश्वविद्यालय के चेयरपर्सन ने कहा
होम्योपैथी विश्वविद्यालय के चेयरपर्सन डॉ गिरेन्द्र पाल ने कहा कि होम्योपैथी दवाई कारगर रही और 3 से 5 दिन में ही कोरोना वायरस से संक्रमित मरीज ठीक होकर घर चल गये। उन्होंने बताया कि पहले दोनों अस्पतालों और टेलीमेडिसिन के माध्यम से 55 संक्रमितों से बातचीत किया गया। एसएमएस मेडिकल कॉलेज से अनुमति लेकर इनमें से 42 संक्रमित मरीजो को होम्योपैथी दवा दी गई। संक्रमण से बचाव के लिए संबंधित चिकित्सकों को भी होम्योपैथी दवा दी गई।
5 डॉक्टरों की बनायी गयी थी कमेटी
विश्‍वविद्यालय ने इस शोध के लिए 5 डॉक्टरों की एक कमेटी बनाई थी। एक कमेटी सदस्य डॉ. शीना पाल ने कहा कि होम्‍योपैथी दवा कोरोना से संक्रमित सभी उम्र के मरीजों को दी गई। 31 संक्रमित मरीजो को आर्सेनिक और शेष 11 संक्रमित मरीजो को जेल्सेमियम, इगन्शिया, काली कार्ब, लाइको पोडियम, ब्रायोनिया, नक्स वोम, नेट्रम म्यूर, कोलीकुम, वेलाडोना, लेकेसिस आदि होम्योपैथिक दवा दी गई। डॉ शीना पाल ने कहा कि 42 संक्रमितों संबंधी विश्लेषण में पता चला कि अधिकांश रोगियों में मृत्यु का डर, बेचैनी, चिंता, अस्थिरता, कमजोरी, बार-बार प्यास लगना आदि लक्षण पाए गए। इनमें से दो रोगी आईसीयू के थे।
चौथे दिन लिया गया फॉलोअप
पाल ने कहा कि इलाज के चौथे दिन फॉलोअप लिया गया और ज्यादातर रोगियों को 3 से 5 दिन में घर भेज दिया गया। अध्ययन करने वाली टीम में डॉ. तारकेश्वर जैन, डॉ. कमलेन्द्र त्यागी, डॉ. विरेन्द्र चौहान, डॉ. वाणिजा गौतम, डॉ. शीना पाल शामिल थे जिनकी मेहनत रंग लायी।
रोग निरोधक क्षमता बढ़ाती है दवा
होम्योपैथिक की आर्सेनिक दवा को चिकित्सा विभाग भी कोरोना संक्रमित मरीजो को दे रहा है। कर्मचारी को भी यह दवाई दी जा रही है। सीएमएचओ डॉ नरोत्तम शर्मा का कहना है कि होम्‍योपैथिक दवा आर्सेनिक रोग निरोधक क्षमता बढ़ाती है। अभी तक डेड लाख लोगों को आर्सेनिक दवा दी जा चुकी है।

शेयर करें

मुख्य समाचार

बंगाल में तीसरे दिन भी कोरोना के 800 से ज्यादा मामले, 25 की हुई मौत

कोलकाता : वेस्ट बंगाल कोविड-19 हेल्थ बुलेटिन के अनुसार पश्चिम बंगाल में पिछले 24 घंटे में कोरोना वायरस संक्रमण के 850 नये मामले आये है आगे पढ़ें »

कोरोना की वजह से 9वीं-12वीं के पाठ्यक्रम 30 फीसदी घटे

नयी दिल्ली : कोविड-19 के बढ़ते मामलों के बीच स्कूलों के ना खुल पाने के कारण शिक्षा व्यवस्था पर असर और कक्षाओं के समय में आगे पढ़ें »

ऊपर