हिंदुओं की भावना को नजरअंदाज न करें बंगाल सरकार, 5 को लॉकडाउन वापस लें : भाजपा

कोलकाता :  पश्चिम बंगाल भाजपा ने आरोप लगाया कि राज्य की तृणमूल कांग्रेस सरकार ने पांच अगस्त को लॉकडाउन के लिए चुना है क्योंकि उसी दिन अयोध्या में राम मंदिर निर्माण के लिए भूमिपूजन होना निर्धारित है। पार्टी ने मांग की कि तृणमूल कांग्रेस मंत्रिमंडल लॉकडाउन की इस तिथि को बदल दे जैसा उसने ईद त्योहार के लिए किया था। बंगाल भाजपा अध्यक्ष दिलीप घोष ने कहा कि यह निर्णय (लॉकडाउन के लिए पांच अगस्त का चयन) सत्ताधारी पार्टी की पश्चिम बंगाल को बांग्लादेश में तब्दील करने की रणनीति दिखाता है। उन्होंने तिथि में बदलाव की मांग की जिस तरह से एक अगस्त को ईद त्योहार को ध्यान में रखते हुए किया गया था ताकि राज्य के लोग देशवासियों के साथ राम मंदिर भूमि पूजन का जश्न मना सकें।

भावना नजरअंदाज न करें

घोष ने कहा, ‘हमें ईद के चलते लॉकडाउन की तिथि बदलने के राज्य सरकार के निर्णय से कोई समस्या नहीं हुई। इसी तरह से राम मंदिर निर्माण को लेकर हिंदुओं की भावना को नजरंदाज नहीं किया जाना चाहिए।’ राज्य सरकार ने पहले कोविड-19 संक्रमण की श्रृंखला को तोड़ने के लिए पूर्ण बंदी के लिए महीने में अन्य तारीखों के साथ दो अगस्त का भी चयन किया था, लेकिन इसे (रविवार को) बाद में त्योहार को ध्यान में रखते हुए इस सूची से बाहर कर दिया गया था। अब पांच अगस्त, आठ, 20, 21, 27, 28 और 31 तारीखें हैं। जब पश्चिम बंगाल में वायरस के तेजी से प्रसार पर रोक पूर्ण लॉकडाउन रहेगा।
बंगाल को बांग्लादेश में बदलने की रणनीति
भाजपा नेता ने कहा, ‘पांच अगस्त को लॉकडाउन के चलते उन लोगों के लिए उपयुक्त माहौल नहीं मिल पाएगा जो अयोध्या में राम मंदिर के भूमि पूजन के ऐतिहासिक दिन को मनाना चाहते हैं। तृणमूल कांग्रेस सरकार की यह मानसिकता पश्चिम बंगाल को बांग्लादेश में बदलने की उसकी रणनीति को प्रतिबिंबित करती है।’ तृणमूल कांग्रेस नेतृत्व ने भाजपा के कथनों को ‘आधारहीन’ करार दिया और उससे कोविड-19 महामारी के बीच सांप्रदायिक राजनीति से दूर रहने का आग्रह किया।
सांप्रदायिक राजनीति को आगे बढ़ाने का समय नहीं : फिरहाद
तृणमूल कांग्रेस के वरिष्ठ नेता एवं मंत्री फिरहाद हकीम ने कहा, ‘सभी को यह ध्यान रखना चाहिए कि कोविड-19 महामारी ने बंगाल और पूरे देश को प्रभावित किया है। यह सांप्रदायिक राजनीति को आगे बढ़ाने का समय नहीं है। बंगाल में, हमने सभी धर्मों और संस्कृतियों के बीच दशकों से सद्भाव और भाईचारे को देखा है, हमें इसे खराब नहीं करना चाहिए।’

‘झूठी’ सूचना

पश्चिम बंगाल भाजपा में आंतरिक कलह की खबरों के बीच पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष दिलीप घोष ने सोमवार को कहा कि संगठन में सब कुछ ठीक है और तृणमूल कांग्रेस अफवाह फैला रही है। वरिष्ठ भाजपा नेता ने यह भी कहा कि मीडिया का एक तबका उनकी पार्टी के बारे में ‘झूठी’ सूचना फैलाकर राज्य के लोगों को गुमराह करने की कोशिश कर रहा है।

पार्टी में विवाद की खबरें असत्य

घोष ने कहा, ‘तृणमूल कांग्रेस और मीडिया का एक तबका भाजपा कार्यकर्ताओं को गुमराह करने और पार्टी की छवि खराब करने के लिए प्रदेश इकाई के खिलाफ अफवाह फैला रहा है।’ उन्होंने कहा, ‘मैं यह स्पष्ट करना चाहता हूं कि पार्टी में विवाद की खबरें असत्य हैं। हम एक हैं और आगामी चुनाव में तृणमूल कांग्रेस को हराने के लिए मिलकर लड़ेंगे।’ अटकलें हैं कि भाजपा के कुछ नेता 2021 के विधानसभा चुनाव से पहले तृणमूल कांग्रेस में जा सकते हैं। पिछले सप्ताह, पूर्व विधायक बिप्लव मित्रा ने राज्य की सत्तारूढ़ पार्टी में वापसी के लिए भाजपा छोड़ दी थी।

पूरी तरह ‘निराधार’ तथा ‘असत्य’

मीडिया में ऐसी भी खबरें हैं कि भाजपा की पश्चिम बंगाल इकाई के कुछ नेता पार्टी के प्रदेश नेतृत्व से प्रसन्न नहीं हैं। खबरों में दावा किया गया कि नयी दिल्ली में संगठन की एक बैठक के दौरान घोष और पिछले वर्षों में तृणमूल कांग्रेस छोड़कर भाजपा में आए नेताओं के एक तबके के बीच मतभेद सामने आ गए थे। घोष ने हालांकि खबरों को खारिज किया और इन्हें पूरी तरह ‘निराधार’ तथा ‘असत्य’ करार दिया।

शेयर करें

मुख्य समाचार

विपक्षी सदस्यों के आचरण से आहत हैं उपसभापति हरिवंश, करेंगे 24 घंटे का उपवास

नई दिल्ली: राज्यसभा के उप सभापति हरिवंश ने विपक्षी सदस्यों के आपत्तिजनक आचरण पर गहरी पीड़ा जताते हुए मंगलवार को घोषणा की कि वह 24 आगे पढ़ें »

इम्युनिटी बढ़ाने की दवाओं की मांग में 100 फीसदी का इजाफा

कोलकाता : कोरोना वायरस की वैक्सीन अभी तक बाजारों में उपलब्ध नहीं हो पायी है। उम्मीद जतायी जा रही है कि अगले साल के शुरू आगे पढ़ें »

ऊपर