फॉरेन्सिक विज्ञान और रक्षा विश्वविद्यालय विधेयकों को मिली ध्वनिमत मंजूरी

नई दिल्ली: राज्यसभा ने देश में कानून व्यवस्था तथा आंतरिक सुरक्षा को मजबूत बनाने के लिए जरूरी ढांचागत सुविधा और संसाधन जुटाने से संबंधित राष्ट्रीय फॉरेन्सिक विज्ञान विश्वविद्यालय 2020 और राष्ट्रीय रक्षा विश्वविद्यालय विधेयक, 2020 को आज बेहद संक्षिप्त चर्चा के बाद ध्वनिमत से पारित कर दिया।

विपक्षी दल थे राज्यसभा में अनुपस्थित
ये दोनों विधेयक पारित किये जाने के दौरान मुख्य विपक्षी दल कांग्रेस के साथ साथ तृणमूल कांग्रेस, समाजवादी पार्टी, वाम दल और आम आदमी पार्टी जैसे विपक्षी दलों के सदस्य सदन में मौजूद नहीं थे। इन दलों के सदस्यों ने आठ विपक्षी सदस्यों के निलंबन को रद्द करने की मांग करते हुए सुबह ही सदन से बहिर्गमन किया था। इसके बाद ये सदन में वापस नहीं लौटे थे।

विधेयकों से आपराधिक मामलों में जांच की क्षमता बढ़ेगी
सरकार ने आज विपक्ष की गैर मौजूदगी में लगभग साढे तीन घंटे में सात विधेयक पारित कराये। गृह राज्य मंत्री जी किशन रेड्डी ने फॉरेन्सिक विज्ञान विश्वविद्यालय और रक्षा विश्वविद्यालय विधेयक पारित किये जाने से पहले कहा कि बढ़ते आपराधिक मामलों और उनमें प्रौद्योगिकी के इस्तेमाल से उत्पन्न समस्या से निपटने के लिए सुरक्षा एजेन्सियों को हर संभव सुविधा और संसाधन से लैस कराना जरूरी है।

इससे आपराधिक मामलों विशेष रूप से फॉरेन्सिक मामलों से संबंधित अपराधों की जांच आसान तथा सरल बनेगी। उन्होंने कहा कि इन विश्वविद्यालयों में प्रशिक्षित और कुशल अधिकारी तैयार किये जायेंगे जिससे देश में मामलों की जांच की क्षमता बढ़ेगी। उन्होंने कहा कि प्रशिक्षित जनशक्ति नहीं होने के कारण देश में बड़ी संख्या में पद खाली थे जिन्हें कुशल और प्रशिक्षित अधिकारियों से भरा जा सकेगा।

साइबर अपराधों से निपटने में होगी सहूलियत
रेड्डी ने कहा कि वैश्विक आतंकवादी और संगठित अपराध के बढ़ते मामलों के बीच विशेष रूप से पुलिस को कुशल और प्रशिक्षित किये जाने की जरूरत महसूस की जा रही थी। इन विश्वविद्यालयों के बनने से देश में आंतरिक सुरक्षा और आतंकवाद तथा साइबर अपराध के मामलों से निपटने में मदद मिलेगी। फॉरेन्सिक विश्वविद्यालय विधेयक में गुजरात के गांधीनगर स्थित गुजरात फॉरेंसिक विज्ञान विश्वविद्यालय को राष्ट्रीय महत्त्व का दर्जा देने का प्रावधान है।

राष्ट्रीय रक्षा विश्वविद्यालय विधेयक 2020 में गुजरात के गांधीनगर स्थित रक्षा शक्ति विश्वविद्यालय को राष्ट्रीय रक्षा विश्वविद्यालय के रूप में अपग्रेड किया जायेगा। यह एक बहु-विधा विश्वविद्यालय होगा। रेड्डी के संक्षिप्त जवाब के बाद सदन ने दोनों विधेयकों को ध्वनिमत से पारित कर दिया। इसके साथ ही इन पर संसद की मुहर लग गयी। लोकसभा इन विधेयकों को पहले की पारित कर चुकी है।

शेयर करें

मुख्य समाचार

हैदराबाद ने राजस्थान को 8 विकेट से हराया, मनीष-शंकर की आकर्षक बल्‍लेबाजी, टॉप-5 में पहुंची हैदराबाद

दुबई : मनीष पांडे की आकर्षक पारी और विजय शंकर के साथ उनकी अटूट शतकीय साझेदारी से सनराइजर्स हैदराबाद ने गुरुवार को यहां राजस्थान रॉयल्स आगे पढ़ें »

भारतीय महिला दल टी20 चैलेंज के लिये संयुक्त अरब अमीरात पहुंचा

दुबई : भारत की 30 शीर्ष महिला क्रिकेटर टी20 चैलेंज में भाग लेने के लिये गुरूवार को यहां पहुंची जो ‘मिनी महिला आईपीएल’ के नाम आगे पढ़ें »

ऊपर