प्रधानमंत्री मोदी ने कहा-72 घंटे की नीति अपनायें राज्य, बंगाल समेत इन राज्यों में टेस्ट बढ़ाने की बहुत जरूरत

नयी दिल्ली : देशभर में महामारी का रूप धारण कर चुके कोरोना वायरस संक्रमण से बचाव के लिए आज 10 राज्यों के साथ प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बैठक के दौरान कहा कि सभी राज्यों को 72 घंटे जांच नीति अपनाने की जरूरत है। उन्होंने कहा कि खास तौर पर पश्चिम बंगाल, बिहार, गुजरात, यूपी और तेलंगाना में जांच को बढ़ाने की आवश्यकता है। यहां टेस्टिंग बढ़ाने पर खास बल देने की बात इस समीक्षा में निकली है।मोदी कहा कि जैसे-जैसे समय निकल रहा है, महामारी अपना स्वरूप बदल रही है और कई तरह की परिस्थिति पैदा हो रही हैं। विशेषज्ञ भी इस बात को सामने रख रहे हैं कि अगर 72 घंटे में संक्रमण व्यक्ति की पहचान हो जाए तो जान बचाई जा सकती है।
72 घंटे की नीति अपनायें
मोदी ने कहा कि अब 72 घंटे के फॉर्मूले पर ध्यान देना होगा, जो भी व्यक्ति कोरोना संक्रमित निकले उसके 72 घंटे में सभी संपर्क में आए लोगों की जांच आवश्यक है। दिल्ली-यूपी में हालात डराने वाले थे, लेकिन अब जांच बढ़ाने के बाद हालात सुधरे हैं।
लगातार मिलना जरूरी
प्रधानमंत्री ने कहा कि लगातार मिलना जरूरी है, क्योंकि महामारी का वक्त बीतते हुए नई बातें पता लग रही हैं। अब अस्पतालों पर दबाव, स्वास्थ्यकर्मियों पर दबाव, आम लोगों पर दबाव बन रहा है। हर राज्य अपने-अपने स्तर पर महामारी के खिलाफ लड़ाई लड़ रहा है, केंद्र और राज्य आज टीम बनकर काम कर रहे हैं।
सभी का साथ काम करना बड़ी बात
प्रधानमंत्री ने मुख्यमंत्रियों से कहा कि इतने बड़े संकट के दौरान सभी का साथ काम करना बड़ी बात है, आज 80 फीसदी कोरोना संक्रमित सक्रिय मामले सिर्फ दस राज्यों में हैं। देश में सक्रिय मामले 6 लाख से ज्यादा हैं, अधिकतर मामले दस राज्यों में है इसलिए इन राज्यों से चर्चा आवश्यक है। पीएम ने कहा कि अगर सभी राज्य मिलकर अपने अनुभवों को बांटेंगे, जांच की संख्या बढ़ रही है।
देश में मृत्यु दर व संक्रमित रेट हुआ कम 
प्रधानमंत्री ने कहा कि देश में मृत्यु दर, संक्रमित रेट कम हुआ है और रिकवरी रेट बढ़ता जा रहा है। पीएम बोले कि टेस्टिंग को लगातार बढ़ाना होगा और मृत्यु दर को 1 फीसदी से भी कम पर रखना होगा। आपको बता दें कि इस बैठक में महाराष्ट्र, गुजरात, उत्तर प्रदेश, बिहार समेत कुल दस राज्यों के मुख्यमंत्री शामिल हुए जहां पर कोरोना वायरस के केस सबसे अधिक हैं।

शेयर करें

मुख्य समाचार

फीस नहीं देने के कारण कोई बोर्ड परीक्षा से वंचित नहीं होगा : हाई कोर्ट

कोलकाता : किसी भी छात्र व छात्रा को बोर्ड की परीक्षा में बैठने से सिर्फ इस आधार पर वंचित नहीं किया जा सकता है कि आगे पढ़ें »

व्यापक सुधारों के अभाव में संयुक्त राष्ट्र पर मंडरा रहा ‘भरोसे की कमी’ का संकट : मोदी

संयुक्त राष्ट्र: प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने कहा कि व्यापक सुधारों के अभाव में संयुक्त राष्ट्र पर ‘भरोसे की कमी का संकट’ मंडरा रहा है। उन्होंने आगे पढ़ें »

ऊपर