प्रधानमंत्री मोदी आज कर रहे कोरोना वैक्सीन की तैयारियों की समीक्षा

अहमदाबादः कोरोना वैक्सीन का भारत समेत पूरी दुनिया में बेसब्री से इंतजार हो रहा है। इसी बीच कोरोना वायरस के खिलाफ भारत में बन रही वैक्सीन का जायजा लेने के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी शनिवार को देश की तीन प्रयोगशालाओं के दौरे पर हैं। सबसे पहले मोदी अहमदाबाद गए। यहां सुबह करीब 10 बजे वे जायडस बायोटेक पार्क पहुंचे। यहां करीब एक घंटा रुके और वैज्ञानिकों से वैक्सीन के बारे में जानकारी ली। पीपीई किट पहनकर उन्होंने रिसर्च सेंटर में वैक्सीन की डेवलपमेंट प्रोसेस देखी। प्रधानमंत्री ने कंपनी के प्रमोटर्स और एक्जीक्यूटिव से भी बात की। इसके बाद वह एयरपोर्ट के लिए निकल गए। अहमदाबाद से मोदी हैदराबाद जाएंगे। वहां करीब 1.30 बजे वे भारत बायोटेक के प्लांट और फिर 4.30 बजे पुणे के सीरम इंस्टिट्यूट ऑफ इंडिया जाएंगे।
बैठक के दौरान कहा था

24 नवंबर को 9 राज्यों के मुख्यमंत्रियों के साथ बैठक के बाद प्रधानमंत्री मोदी ने कहा था कि अभी यह तय नहीं है कि कोरोना वैक्सीन की एक डोज देनी होगी या दो। उसकी कीमत क्या होगी, यह भी तय नहीं है। अभी ऐसे किसी भी सवाल का जवाब हमारे पास नहीं हैं। माना जा रहा है कि इस दौरे के बाद इन सवालों के जवाब सामने आ जाएंगे।

कौन सी वैक्सीन इस ट्रायल के कौन से चरण में?

कोरोना को रोकने में 90% तक कारगर है ऑक्‍सफर्ड की वैक्‍सीन

ऑक्‍सफर्ड की वैक्‍सीन ‘कोविशील्‍ड’ से भारत को खासी उम्‍मीदें हैं क्‍योंकि इसके लिए सीरम इंस्टिट्यूट ऑफ इंडिया (एसआईआई) पुणे ने एस्‍ट्राजेनेका से डील की है। एसआईआई कोविशील्‍ड की 100 करोड़ डोज तैयार करेगा। भारत सरकार सीरम इंस्टिट्यूट के संपर्क में है और वैक्‍सीन खरीदने को लेकर बातचीत जारी है। सूत्रों के मुताबिक, यह वैक्‍सीन करीब 500-600 रुपये में मिलेगी, लेकिन सरकार के लिए इसकी कीमत आधी हो जाएगी। ‘कोविशील्‍ड’ न सिर्फ ऑक्‍सफर्ड यूनिवर्सिटी जैसी प्रतिष्ठित रिसर्च संस्‍था ने बनाई है, बल्कि यह 90% तक असरदार भी है। इसको स्‍टोर करने के लिए बहुत कम तापमान की जरूरत नहीं और दाम भी बाकी वैक्‍सीन से कम हैं।
वैक्‍सीन के फेज 3 ट्रायल का जो डेटा सामने आया है उसका अंतरिम विश्लेषण बताता है कि ओवरऑल इसकी प्रभावोत्‍पादकता 70.4% रही है। खास बात यह है कि अनुसंधानकर्ता कह रहे हैं कि डोज की मात्रा बदलने पर वैक्‍सीन और असरदार साबित हो रही है। जब वैक्‍सीन की पहली डोज आधी और दूसरी डोज पूरी रखी गई तब वैक्‍सीन 90% तक असरदार रही।
‘कोवैक्सीन’ के तीसरे चरण का ट्रायल एम्स में शुरू
भारत बायोटेक की ओर से बनाई जा रही स्वदेशी कोरोना वैक्सीन ‘कोवैक्सीन’ के अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान (एम्स) में इंसानों पर क्लिनिकल ट्रायल के तीसरे चरण की शुरुआत हो गई। एम्स के तंत्रिका विज्ञान केंद्र की प्रमुख एमवी पद्मा श्रीवास्तव और तीन अन्य स्वयंसेवकों ने इस वैक्सीन की पहली डोज ली है। भारतीय आयुर्विज्ञान अनुसंधान परिषद (आईसीएमआर) के साथ मिलकर भारत बायोटेक ‘कोवैक्सिन’ को विकसित कर रहा है। सूत्रों ने कहा कि डॉ. श्रीवास्तव को पहला टीका लगाया गया और अगले कुछ दिनों में एम्स में 15 हजार से ज्यादा स्वयंसेवकों को टीका लगाया जाएगा। सूत्रों ने कहा कि परीक्षण के तहत 0.5 मिलीलीटर की पहली खुराक देने के 28 दिन बाद 0.5 मिलीलीटर की दूसरी खुराक दी जाएगी। तीसरे चरण के तहत 18 वर्ष और उससे ज्यादा की आयु के 28,500 लोगों को विभिन्न केंद्रों पर परीक्षण टीका लगाया जाएगा।
जाइडस कैडिला की कोरोना वैक्सीन भी है रेस में
दवा कम्पनी ‘जाइडस कैडिला’ भी कोरोना वैक्सीन का निर्माण कर रही है और इसने वैक्सीन को ‘जायकोव-डी’ नाम दिया है। कंपनी ने पहले घोषणा की थी कि कोविड-19 के संभावित टीके का पहले फेज का ट्रायल पूरा हो गया है और दूसरे फेज का ट्रायल अगस्त में शुरू किया गया था। जानकारी के मुताबिक, जाइडस कैडिला का वैक्सीन अगले साल मार्च तक इस्तेमाल के लिए तैयार हो सकता है। बताया जा रहा है कि जाइडस कैडिला 17 करोड़ वैक्सीन बनाने की तैयारी कर रहा है। पीएम मोदी ने शनिवार को जायडस बायोटेक पार्क पहुंचकर वैक्सीन की तैयारियों की समीक्षा भी की।
कोरोना वैक्सीन लोगों तक पहुंचाने के लिए चुनाव जैसी महातैयारी
भारत में लोगों को वैक्सीन दिए जाने की तैयारी की जा रही है। वैसे तो हर देशवासी को कोरोना से बचाव के लिए टीका लगाए जाने की योजना है, लेकिन सबसे पहले 30 करोड़ लोगों को टीका लगेगा। प्राथमिकता के आधार पर सबसे पहले हेल्‍थ वर्कर्स, फ्रंटलाइन वर्कर्स और सीनियर सिटिजंस को वैक्‍सीन देने की तैयारी है। वैक्सीनेशन के लिए नीति आयोग की तरफ सुझाए गए प्‍लान के तहत चुनावों में जिस तरह पोलिंग बूथ बनाए जाते हैं, वैसे ही वैक्सीन बूथ बनाकर लोगों को वैक्सीन मुहैया कराई जाएगी। भारत ने कोरोनावायरस वैक्‍सीन की 60 करोड़ डोज का प्री-ऑर्डर कर दिया है। इसके अलावा एक अरब डोज और पाने के लिए बातचीत चल रही है। भारत में 40 लाख डॉक्टर और नर्स वैक्सीन के काम में लगे हुए हैं। वैक्सीनेशन को पूरा करने के लिए 300 करोड़ डिस्पोजेबल सीरिंज की आवश्कता पड़ेगी।
वैक्सीन बनाने में दुनिया में नंबर 1 है भारत
भारत विश्व में सबसे ज्यादा वैक्सीन मैन्युफैक्चर करता है। मेडिकल एक्सपर्ट्स का कहना है कि अगर किसी वैक्सिनेशन प्रोग्राम को पूरी दुनिया में चलाना है तो यह भारत के बिना संभव नहीं है। यह क्षमता भारत में ही है कि इतने बड़े स्तर पर वैक्सीन तैयार कर सके। जरूरत और आबादी के कारण भारत अमूमन 3 अरब वैक्सीन हर साल तैयार करता है। इसमें से वह 2 अरब वैक्सीन डोज हर साल निर्यात करता है। वैक्सीन मैन्युफैक्चरिंग में भारत कितना आगे हैं, इसका अंदाजा इसी बात से लगाया जा सकता है हर 3 में एक वैक्सीन मेड इन इंडिया होती है। भारत में वैक्सीन के मास प्रॉडक्शन के कारण यह दूसरे देशों के मुकाबले सस्ता होता है। सीरम इंस्टिट्यूट ऑफ इंडिया (एसआईआई) विश्व में सबसे ज्यादा वैक्सीन तैयार करती है। हर साल यह 1.5 अरब डोज वैक्सीन तैयार करती है। आपको बता दें कि एसआईआई ऑक्सफर्ड के साथ मिलकर कोरोना वैक्सीन ‘कोविशील्ड’ तैयार कर रहा है जो तीन फेज के ट्रायल के बाद करीब 90 फीसदी कारगर पाया गया है।

 

शेयर करें

मुख्य समाचार

तृणमूल का इंजन हैं ममता, सबको साथ लेकर चलती हैं : पार्थ

कहा : कौन किस स्टेशन पर उतरेगा उससे पार्टी को फर्क नहीं पड़ता तृणमूल की संपदा कार्यकर्ता है जो हमारे साथ है सन्मार्ग संवाददाता कोलकाता : पार्टी से आगे पढ़ें »

इस बार खास, सारे पोलिंग बूथ होंगे अंडरग्राउंड

80 साल से अधिक उम्र व दिव्यांग मतदाताओं को होगी सहूलियत सी-विजिल एप पर कर सकेंगे किसी प्रकार की शिकायत सन्मार्ग संवाददाता कोलकाताः आगामी विधानसभा चुनाव को लेकर आगे पढ़ें »

ऊपर