प्रज्ञा ठाकुर अस्पताल में भर्ती, एनआईए अदालत में नहीं हुईं पेश

भोपाल : मुंबई के मालेगांव धमाका मामले में आरोपी और भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) सांसद प्रज्ञा सिंह ठाकुर की तबीयत बुधवार रात अचानक बिगड़ गई, जिसके बाद उन्हें भोपाल के एक निजी अस्पताल में भर्ती कराया गया। 3 जून को प्रज्ञा ने मुंबई की राष्ट्रीय जांच एजेंसी (एनआईए) अदालत में हर हफ्ते पेशी से छूट का आवेदन भी दिया था जिसे एनआईए के विशेष न्यायाधीश वी एस पडालकर ने ठुकरा दिया था। प्रज्ञा को 7 जून तक अदालत के सामने पेश होना था।

आंतों में सूजन और उच्च रक्तचाप

सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार प्रज्ञा को आंतों में संक्रमण, कमर दर्द और उच्च रक्तचाप की वजह से अस्पताल में भर्ती कराया गया। अस्पताल के डॉक्टर अजय मेहता के अनुसार प्रज्ञा की आंतों में सूजन है साथ ही उनका रक्तचाप भी काफी बढ़ा हुआ था। डॉक्टर ने उन्हें  और एक-दो दिन निगरानी में रखे जाने की बात भी कही।

हर हफ्ते एक बार पेश होने का आदेश 
3 जून को हुई सुनवाई में एनआईए अदालत ने प्रज्ञा को इस सप्ताह पेश होने का आदेश दिया था। अदालत ने कहा था कि ‘‘छूट के लिए आवेदन में बताए गए,कारणों को स्वीकार नहीं किया जा सकता।’’ अदालत ने कहा ‌था कि अभियोजन पक्ष आरोपियों के खिलाफ अपना मामला साबित करने के लिए सबूत पुख्ता करने की खातिर गवाहों को बुला रहा है। इसलिए आरोपी की मौजूदगी आवश्यक है। मालूम हो कि साध्वी प्रज्ञा को 9 साल कैद में रहने के बाद अप्रैल 2017 में सशर्त जमानत मिल गई थी।

गौरतलब है कि मुंबई के मालेगांव में हुए बम धमाके में 7 लोगों की मौत हो गई थी और 100 से ज्यादा लोग घायल हुए थे। तत्कालीन सरकार ने मामले की जांच आतंकवाद निरोधी दस्ते (एटीएस) को सौंपी थी। इस मामले में प्रज्ञा सिंह ठाकुर, स्वामी असीमानंद और कर्नल पुरोहित को गिरफ्तार किया गया था। बाद में मामले की जांच एनआईए को सौंप दी गई थी।

शेयर करें

मुख्य समाचार

क्या सच में आज रात आ रहा है विजय माल्या भारत ?

नयी दिल्ली : देश के 17 बैंकों का 9 हजार करोड़ रुपये गबन कर भागे विजय माल्या के आज रात किसी भी वक्त भारत में आगे पढ़ें »

corona

बंगाल में कल से आज कुछ कम आए संक्रमण के मामले

कोलकाता : बंगाल में पिछले 24 घंटे में कोरोना वायरस संक्रमण के मंगलवार की तुलना में आज (बुधवार) को 340 मामले आए है जबकि मंगलवार आगे पढ़ें »

ऊपर