पैकेज की घोषणा के पहले किया गया विभिन्न देशों के पैकेज का अध्ययन : वित्तमंत्री

नयी दिल्ली : कोरोना वायरस संक्रमण से बचाव के लिए लागू लाॅकडाउन के 61वें दिन आयोजित प्रेस कांफ्रेंस में वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने कहा कि कोविड-19 की वजह से हुई तकलीफ के लिए घोषित किये गये 20 लाख करोड़ रुपए के आत्मनिर्भर भारत पैकेज की घोषणा के पहले विभिन्न देशों के पैकेज का अध्ययन किया गया था।

प्रौद्योगिकी के मामले में भारत को बहुत फायदा

सीतारमण ने कहा कि पैकेज की घोषणा से पहले विभिन्न देशों द्वारा की गई हर घोषणा की तुलना करने से पहले यह देखा कि उनके राहत पैकेज में क्या है? सभी के पैकेजों का अध्ययन किया गया। हर देश अपने राहत पैकेज में राजकोषीय घाटा, मौद्रिक, गारंटी, केंद्रीय तरलता को ध्यान में रखकर घोषणा की। हम उनसे भिन्न नहीं हैं, अनुपात अलग हो सकते हैं। जब विकसित देशों में कुछ संस्थाएं होती हैं, तो उनके लिए एक मार्ग से जाना और दूसरे मार्ग पर कम खेलना संभव होता है।
प्रौद्योगिकी के मामले में भारत को बहुत फायदा है, नकदी और अन्य चीजों का हस्तांतरण संभव है।

जन धन खातों से पहुंचा सकते हैं नकदी
पीएम गरीब कल्याण के तहत हम जन धन खातों के माध्यम से लोगों के हाथों में नकदी पहुंचा सकते हैं। हम ऐसे उपाय लेकर आए हैं, जिससे अर्थव्यवस्था में अधिक तरलता आएगी। यह सोचने के लिए कि अन्य सभी देश केवल बजट से ही आगे निकले हैं और ऐसा नहीं है जैसे उन्होंने सब कुछ किया है। इसके विपरीत वे केंद्रीय बैंक के माध्यम से और अपनी गारंटी और अन्य चीजों के माध्यम से दोनों तरह से तरलता में चले गए हैं।

शेयर करें

मुख्य समाचार

मोदी ने बिहार में 14,000 करोड़ रुपये की राजमार्ग परियोजनाओं की आधारशिला रखी

    नयी दिल्ली : बिहार विधानसभा चुनाव 2020 से पहले प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने एक बार फिर राज्य को बड़ी सौगात दी। प्रधानमंत्री ने सोमवार को आगे पढ़ें »

अल्पसंख्यकों काे अपनी ओर जोड़ने के लिए भाजपा ने बनायी रणनीति

  कोलकाता : भाजपा बंगाल में अपनी पैठ और मजबूत करने के लिए सदस्यता अभियान तो चला रही है, लेकिन जहां तक अल्पसंख्यकों की बात है आगे पढ़ें »

ऊपर