पुलवामा में मुठभेड़, जैश के तीन आतंकवादी ढेर, एक जवान शहीद

Fallback Image

श्रीनगर : जम्मू-कश्मीर में सुरक्षाबल के जवान लगातार आतंकियों का सफाया कर रहे हैं। राज्य के पुलवामा जिले में गुरुवार को सुरक्षाबलों ने आतंकवादियों के खिलाफ कार्रवाई करते हुए घेराबंदी एवं तलाशी अभियान (कासो) चलाया। इस दौरान खुद को ‌घिरता देख आतंकियों ने फायरिंग शुरू कर दी सुरक्षाबलों ने जवाबी फायरिंग करते हुये जैश-ए-मोहम्मद के तीन आतंकियों को ढेर कर दिया। इस मुठभेड़ में एक जवान शहीद हो गया जबकि दो जवान घायल हो गये। वहीं एक आम नागरिक की भी मौत हो गई।

आतंकवादियों ने अंधाधुंध गोलीबारी आरंभ कर दी

पुलिस के एक प्रवक्ता ने बताया कि मुठभेड़ स्थल से गोला-बारूद समेत आपत्तिजनक सामग्री बरामद हुई है। उन्होंने कहा, ‘‘पुलिस और सुरक्षा बलों ने विश्वसनीय सूचना के आधार पर सुबह पुलवामा जिले में डेलीपुरा इलाके की घेराबंदी करके तलाशी अभियान शुरू किया।’’ उन्होंने बताया कि जब सुरक्षा बल एक मकान और उसके आसपास से आम नागरिकों को बाहर निकाल रहे थे तभी वहां छिपे आतंकवादियों ने अंधाधुंध गोलीबारी आरंभ कर दी। उन्होंने कहा, ‘‘इस दौरान सेना के एक जवान संदीप शहीद हो गए और एक आम नागरिक रईस डार की भी मौत हो गई।’’
आतंकवादियों के शव बरामद कर किए गए

प्रवक्ता ने बताया कि इसके बाद सुरक्षा बलों ने भी जवाबी कार्रवाई की और मुठभेड़ शुरू हो गई। मुठभेड़ में तीन आतंकवादी मारे गए। मारे गए आतंकवादियों के शव बरामद कर लिए गए हैं। उन्होंने कहा, ‘‘आतंकवादियों की पहचान करीमाबाद पुलवामा निवासी नसीर पंडित, शोपियां निवासी उमर मीर और पाकिस्तान के खालिद के रूप में की गई है।’’ उन्होंने बताया कि खालिद जैश-ए- मोहम्मद के कमांडर के रूप में काम कर रहा था । प्रवक्ता ने बताया कि पुलिस रिकॉर्ड के अनुसार मारे गए आतंकवादी प्रतिबंधित आतंकवादी संगठन जैश-ए-मोहम्मद से संबंधित थे। वे सुरक्षा प्रतिष्ठानों पर हमला एवं आम नागरिकों पर ज्यादतियां करने समेत कई आतंकवादी अपराधों में संलिप्तता को लेकर वांछित थे।

मारा गया आतंकी पुलिसकर्मी की हत्या में शामिल था

उन्होंने कहा, ‘‘नसीर पंडित का आतंकवादी संगठन में शामिल होने से पहले आतंकवादी गतिविधियों का पुराना रिकॉर्ड था और जैश में शामिल होने के बाद इलाके में आतंकवादी हमले करने और उनका षडंत्र रचने के संबंध में उसके खिलाफ कई आतंकवादी आपराधिक मामले दर्ज हैं।’’प्रवक्ता ने बताया कि नसीर 2018 में ईद की पूर्व संध्या पर पुलवामा के पुलिसकर्मी मोहम्मद याकूब शाह की हत्या में भी शामिल था। वह आतंकवादी इलाके में दर्ज की गई हथियार छीनने की कई घटनाओं में भी शामिल था।

मोबाइल इंटरनेट सेवा पर प्रतिबंध

इसी बीच, प्रशासन ने एहतियातन पुलवामा और आस-पास के क्षेत्रों में मोबाइल इंटरनेट सेवा पर प्रतिबंध लगा दिया है। सूत्रों ने बताया कि किसी तरह के प्रदर्शन को रोकने के लिए मुठभेड़ वाली जगह के आसपास वाले क्षेत्रों में अतिरिक्त सुरक्षा बलों तथा राज्य पुलिस के जवानों को तैनात कर दिया गया है। लोगों को उनके घरों के भीतर ही रहने की सलाह दी गयी है।

गांव के सभी निकास मार्गों को बंद कर दिया

सूत्रों के अनुसार आतंकवादियों की मौजूदगी के बारे में खुफिया जानकारी के आधार पर राष्ट्रीय राइफल्स (आरआर), केन्द्रीय रिजर्व पुलिस बल (सीआरपीएफ) तथा जम्मू-कश्मीर पुलिस के विशेष अभियान दल ने गुरुवार तड़के पुलवामा के दलिपोरा गांव में एक संयुक्त तलाशी अभियान शुरू किया। सुरक्षा बलों के जवानों ने गांव के सभी निकास मार्गों को बंद कर दिया। इसके बाद सुरक्षा बलों के जवान जब गांव में एक विशेष क्षेत्र की ओर बढ़ रहे थे, तो वहां छिपे हुए आतंकवादियों ने स्वचालित हथियारों से उन पर गोलीबारी शुरू कर दी। सुरक्षा बलों के जवानों ने भी जवाबी कार्रवाई करते हुए गोलियां चलायीं जिसके बाद मुठभेड़ शुरू हो गयी। इस मुठभेड़ में तीन आतंकवादी मारे गए।

शेयर करें

मुख्य समाचार

Dhoni in tennis court

धोनी दिखे नए लुक के साथ टेनिस कोर्ट में

रांची : टीम इंडिया के पूर्व कप्तान क्रिकेटर महेंद्र सिंह धोनी आजकल छुट्टी मनाने के मुड़ में ही नजर आ रहे है। वह जब कभी आगे पढ़ें »

bjp

कोलकाता : बाबुल सुप्रियो के साथ हुए दुर्व्यहार के खिलाफ भाजपा ने किया प्रदर्शन

कोलकाता : केंद्रीय मंत्री बाबुल सुप्रियो के साथ यादवपुर विश्वविद्यालय में हुए दुर्व्यहार ‌के खिलाफ भाजपा ने शुक्रवार को कोलकाता में प्रदर्शन ‌किया। वरिष्ठ भाजपा आगे पढ़ें »

ऊपर