भारत में टिड्डियों का सबसे भयंकर हमला

नयी दिल्ली : देश में जहां एक तरफ लोगों पर कोरोना वायरस संक्रमण का कहर बरस रहा है वहीं दूसरी तरफ टिड्डी दल ने खेतों में हमला कर दिया है जिस वजह से बड़ी मात्रा में किसानों के खेत उजड़ गये है। यह टिड्डियों द्वारा देश में पिछले 26 वर्ष में किये गये हमलों में सबसे भयंकर हमला  है। टिड्डिया राजस्थान से होते हुए दिल्ली तक पहुंचने लगी है। यूपी ने 21 जिलों में टिड्डियों को लेकर अलर्ट जारी किया है।टिड्डी दल से निपटने के लिए राष्ट्रीय आपदा प्रबंधन कोष से राजस्थान को 68.65 लाख रुपये दिये गए है। सूत्रों के मुताबिक बढ़ता तापमान, कम वर्षा के कारण टिड्डी दल देशभर में लगातार हमला कर रहे हैं।

दक्षिण- पूर्वी हवा के कारण बढ़ रहे 

दक्षिण- पूर्वी हवा के रूख के कारण मध्य प्रदेश महाराष्ट्र की तरफ ​टिड्डियों का दल बढ़ा है। टिड्डी दल नियंत्रण कार्यालय ने कहा कि 27 मई तक पांच बड़े टिड्डी दलों पर काबू पाया गया है। एक टिड्डी की खुराक 2 ग्राम प्रतिदिन है। टिड्डिया हवा के रूख के साथ एक दिन में लगभग 150 किलोमीटर का सफर तय करती है। दिन में उड़ती है और रात में फसलें, फल खाती है।

जयपुर में ड्रोन के जरिये कीटनाशक का छिड़काव
राजस्थान के कृषि विभाग ने जयपुर जिले में टिड्डियों को नियंत्रित करने के लिये कीटनाशक के छिड़काव के लिये एक ड्रोन की मदद ली है। जयपुर जिले के चौमू के पास सामोद में ड्रोन का उपयोग किया गया। कृषि विभाग के आयुक्त ओमप्रकाश ने  बताया, ‘हमने किराये पर लिये गये ड्रोन का उपयोग करना शुरू किया है और आने वाले कुछ दिनों के आवश्यकतानुसार और ड्रोन इस्तेमाल किए जाने की संभावना है।’ उन्होंने बताया कि ड्रोन ऊंचाई से कीटनाशक का छिड़काव करने में उपयोगी होते हैं और पहाड़ी इलाकों में ट्रैक्टर में लगे छिड़काव यंत्रों (माउंटेड स्प्रेयर) के जरिये कीटनाशक छिड़का जाता है, क्योंकि वहां अन्य वाहन नहीं जा सकते। ड्रोन से 15 मिनट की उड़ान में लगभग 2.5 एकड़ क्षेत्र में कीटनाशक दवाइयों का छिड़काव किया जा रहा है। राज्य में टिड्डी नियंत्रण के लिये ड्रोन और छिड़काव यंत्र वाले ट्रैक्टरों के अलावा दमकल के वाहनों का इस्तेमाल किया जा रहा है। पाकिस्तान से 11 अप्रैल को भारत में घुसे टिड्डियों के दल राज्य के छह जिलों में प्रवेश कर चुके हैं।

छत्तीसगढ़ में अलर्ट जारी
पड़ोसी मध्यप्रदेश और महाराष्ट्र में फसलों पर टिड्डी दल के हमले के मद्देनजर छत्तीसगढ़ में कृषि विभाग और किसानों को सचेत किया गया है। राज्य के वरिष्ठ अधिकारियों ने बुधवार को बताया कि राजनांदगांव जिले में लाखों की संख्या में टिड्डियों के आने की आशंका व्यक्त की जा रही है। टिड्डी दल अमरावती (महाराष्ट्र) और मंडला (मध्यप्रदेश) आ चुका है। टिड्डी दल के संभावित हमले को लेकर प्रशासन ने अलर्ट जारी कर दिया है। किसानों को अपनी फसलों को टिड्डी दल के हमले से बचाने का उपाय बताया जा रहा है तथा कृषि वैज्ञानिक सलाह दे रहे हैं।
जिला स्तरीय दल का गठन
अधिकारियों ने बताया कि राजनांदगांव जिले में टिड्डी दल के प्रकोप से बचाव के लिए कलेक्टर ने जिला स्तरीय दल का गठन किया है। कृषि विभाग के अधिकारियों ने बताया कि टिड्डी दल के नियंत्रण के लिए किसान दो प्रकार के साधन अपना सकते है। किसान टोली बनाकर शोर मचाकर, ध्वनि यंत्र बजा कर, टिड्डी दल को डरा कर भगा सकते हैं। इसके लिए ढोलक, ट्रैक्टर, मोटर साइकल का साईलेंसर, खाली टीन के डब्बे, थाली इत्यादि से ध्वनि पैदा की जा सकती है।
उन्होंने बताया कि टिड्डी दल से फसल बचाने के लिए जिले के ट्रेक्टर स्प्रेयर धारक किसानों से चर्चा कर 20 ट्रेक्टर स्प्रेयर की व्यवस्था की जा रही है। इसके अतिरिक्त सभी छोटे स्प्रेयर वाले किसानों को फसलों के बचाव करने के लिए तैयार रहने के लिए कहा गया है। अधिकारियों ने बताया कि राजनांदगांव जिले में टिड्डी दल के प्रवेश की सम्भावित चेतावनी के अनुसार पेस्टीसाइड और स्प्रेयर की व्यवस्था को लेकर जिले में समन्वय स्थापित करने के लिए निर्देश दिया गया है।
किसानों को सचेत रहना का निर्देश
उन्होंने बताया कि फसलों को नुकसान पहुचाने वाले टिड्डी दल का प्रकोप राजस्थान होते हुए महाराष्ट्र और मध्यप्रदेश राज्य तक पहुंच गया है। छत्तीसगढ़ के सीमावर्ती क्षेत्रों को देखते हुए केन्द्रीय एकीकृत नाशीजीव प्रबंधन केन्द्र के सहायक निदेशक ने सीमावर्ती जिले के कृषि अधिकारियों, कर्मचारियों और किसानों को सचेत रहने के लिए कहा है। अधिकारियों ने बताया कि फसलों और अन्य वृक्षों को टिड्डी दल के प्रकोप से बचाव के लिए किसानों को कीटनाशक मालाथियन, फेनवालरेट, क्विनालफोस, क्लोरोपायरीफोस, डेल्टामेथ्रिन, डिफ्लूबेनजुरान, फिप्रोनिल तथा लामडासाइहलोथ्रिन कीटनाशक का प्रयोग करने का सुझाव दिया गया है।

शेयर करें

मुख्य समाचार

मैं गरीबों की मदद कर रहा था, इमरान के मंत्री छुट्टियां मना रहे थे : अफरीदी

इस्‍लामाबाद : शाहिद अफरीदी ने इशारों में इमरान खान सरकार पर निशाना साधा। अफरीदी के मुताबिक, इमरान सरकार में एकता की कमी है और ये आगे पढ़ें »

अक्टूबर तक फिर रिंग में लौट आयेंगे विजेंदर

नयी दिल्ली : पिछले छह महीने से रिंग से दूर भारत के स्टार मुक्केबाज विजेंदर सिंह को अगले तीन महीने में रिंग में उतरने की आगे पढ़ें »

ऊपर