पंजाब के किसानों ने कृषि बिल के खिलाफ छेड़ा 3 दिन का ‘रेल रोको’ आंदोलन

चंडीगढ़: तीन अहम पर विवादास्पद कृषि विधेयकों के राज्यसभा में पारित हुए जाने के खिलाफ, पंजाब के किसानों ने गुरुवार को अपना विरोध प्रदर्शन तेज कर दिया है। विधेयकों को वापस लेने की मांग करते हुए किसानों ने राज्य में तीन दिनों का ‘रेल रोको’ आंदोलन छेड़ दिया है। उन्होंने तय किया है कि 24 सितंबर से 26 सितंबर तक अमृतसर और फिरोजपुर जिलों के किसान रेलवे पटरी पर बैठ कर धरना देंगे।

इस आंदोलन का खामिआजा दिल्ली से पंजाब जतायात करने वाली रेल गाड़ियां को आज भुगतना पड़ा। इतना ही नहीं, किसानों ने 25 सितंबर (शुक्रवार) को राज्यव्यापी बंद का भी एलान कर दिया है जिसके बाद फिरोजपुर रेल मंडल ने कल चलने वाली 14 ट्रेनें रद्द कर दी हैं। किसानों ने चेतावनी देते हुए कहा है कि मांग न पूरी किए जाने पर यह विरोध-प्रदर्शन 1 अक्टूबर से अनिश्चितकालीन बंद का रूप ले लेगा। किसानों को चिंता सता रही है कि अगर एक बार मंडी के बाहर खरीद शुरू हो गई तो उन्हें न्यूनतम समर्थन मूल्य प्रणाली से ​मिले मुनाफे से हाथ धोना पड़ सकता है।

रेल परिचालन सेवा हुई रद्द

अमृतसर के ग्रामीण इलाकों में किसान समेत बच्चे-बूढ़े, सभी आज सुबह में ही नजदीकी रेलवे पटरी पर बैठ कर संसद में पारित विधेयकों के प्रति अपनी अस्वीकृति व्यक्त कर रहे हैं। एक किसान ने दृढ़ता के साथ कहा, ‘अगर हम इन कानूनों को स्वीकार नहीं करना चाहते तो जमीन पर सरकार इसे लागू कैसे कर सकती है? हम लड़ते रहेंगे।’

किसानों के आंदोलन मद्देनज़र रेलवे ने 24 से 26 सितंबर तक पंजाब में रेल परिचालन रद्द करते हुए यात्री व मालगाड़ी को पंजाब जाने से बाधित कर दिया है। रेल गाड़ियां केवल अम्बाला कैंट, सहारनपुर और दिल्ली स्टेशन पर रोक दी जाएंगी। अम्बाला-लुधियाना व अम्बाला-चंडीगढ़ रेलमार्ग भी बंद कर दिए गए हैं। बता दें कि सरकार ने अप्रत्याशित हंगामे के बीच ध्वनिमत से तीनों कृषि विधेयकों को पारित किया था। देश में चावल और गेहूं के प्रमुख उत्पादक राज्य – पंजाब और हरियाणा – के किसान, इन बिलों का विरोध कर रहे हैं।

शेयर करें

मुख्य समाचार

अक्टूबर के मुकाबले नवंबर के जीएसटी संग्रह में मामूली गिरावट

नई दिल्ली : सरकार का माल एवं सेवा कर (जीएसटी) संग्रह नवंबर में 1.04 लाख करोड़ रुपये रहा है। वित्त मंत्रालय ने मंगलवार को बयान आगे पढ़ें »

चंदा कोचर को बॉम्बे हाईकोर्ट के बाद अब सुप्रीम कोर्ट से भी झटका

नई दिल्लीः आईसीआईसीआई बैंक के पूर्व मुख्य कार्यकारी अधिकारी और प्रबंध निदेशक चंदा कोचर को सुप्रीम कोर्ट से एक और झटका मिला। उच्चतम न्यायालय ने आगे पढ़ें »

ऊपर