नए कोरोना स्ट्रेन पर भारत ने कहा- नए म्यूटेशन का देश में कोई केस नहीं, इससे वैक्सीन पर भी असर नहीं होगा

नई दिल्लीः केंद्र सरकार ने मंगलवार को कहा कि ब्रिटेन में मिले कोरोना के नए स्ट्रेन का फिलहाल देश में कोई केस नहीं है। नीति आयोग के डॉ. वीके पॉल ने बताया कि कोरोना का नया स्ट्रेन काफी तेजी फैलता है। इस म्यूटेशन से मामलों की गंभीरता और फैटेलिटी पर कोई प्रभाव नहीं पड़ेगा। देश में बन रही वैक्सीन को लेकर उन्होंने कहा कि अभी तक हमारे देश दूसरे देशों में बन रही वैक्सीन की क्षमता पर इसका कोई प्रभाव नहीं है। उन्होंने कहा कि कोरोना के नए स्ट्रेन को लेकर चिंता करने की जरूरत नहीं है। इससे दहशत में आने की भी कोई जरूरत नहीं है। अभी के लिए हमें सतर्क रहने की जरूरत है।

देश में अब 3% से भी कम सक्रिय केस
स्वास्‍थ्य मंत्रालय के सचिव राजेश भूषण ने बताया कि करीब साढ़े 5 महीने बाद देश में 3 लाख से कम सक्रिय केस मिले हैं। मौजूदा समय में देश में कुल केसों के सिर्फ 3% ही सक्रिय केस हैं। पिछले 7 हफ्तों रोजाना आने वाले कोरोना के औसत मामलों में भी कमी दर्ज की गई है। उन्होंने बताया कि भारत के 26 राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों में 10 हजार से कम सक्रिय केस बचे हैं। उन्होंने बताया कि देश में रिकवरी रिकवरी रेट 95% से भी ज्यादा है। देश में अब तक 1 करोड़ 75 हजार 422 केस आ चुके हैं। इनमें से 96.35 लाख मरीज ठीक हो चुके हैं और 1.46 लाख की मौत हो चुकी है। अब कुल 2.90 लाख मरीजों का इलाज चल रहा है। उन्होंने बताया कि पिछले 24 घंटे में मिले कोरोना के नए मामलों में से 57% केस सिर्फ 6 राज्यों में मिले हैं। इन राज्यों में मध्यप्रदेश, तमिलनाडु, छत्तीसगढ़, पश्चिम बंगाल, महाराष्ट्र और केरल शामिल हैं।

पिछले 24 घंटे में 61% मौतें भी 6 राज्यों में
भूषण ने बताया कि पिछले 24 घंटे में कोरोना की वजह से हुई मौतों में 61% मौतें भी 6 राज्यों में दर्ज की गईं हैं। इनमें उत्तर प्रदेश, छत्तीसगढ़, दिल्ली, केरल, पश्चिम बंगाल और महाराष्ट्र में रिकॉर्ड की गई। उन्होंने बताया कि 10 लाख की आबादी में देश में सिर्फ 124 मामले सामने आ रहे हैं। यह आंकड़ा दुनिया में 588 है। वहीं, मौतों की बात करें तो देश में 10 लाख की आबादी पर कोरोना की वजह से 2 लोगों की मौत हुई हैं। दुनिया में यह आंकड़ा 10 के करीब है।

वायरस का नया रूप पहले से 70% ज्यादा खतरनाक हो सकता है
वायरस में लगातार म्यूटेशन होता रहता है, यानी इसके गुण बदलते रहते हैं। म्यूटेशन होने से ज्यादातर वेरिएंट खुद ही खत्म हो जाते हैं, लेकिन कभी-कभी यह पहले से कई गुना ज्यादा मजबूत और खतरनाक हो जाता है। यह प्रोसेस इतनी तेजी से होती है कि वैज्ञानिक एक रूप को समझ भी नहीं पाते और दूसरा नया रूप सामने आ जाता है। वैज्ञानिकों को अनुमान है कि कोरोनावायरस को जो नया रूप ब्रिटेन में मिला है वह पहले से 70% ज्यादा खतरनाक हो सकता है।

 

शेयर करें

मुख्य समाचार

गर्भावस्था में ऐसे रहें स्वस्थ 

गर्भस्थ-शिशु का विकास किन-किन अंगों से और किस-किस रूप में प्रभावित होता है, इस विषय पर विश्वसनीय प्रमाणों का अभाव है लेकिन कुछ मनोवैज्ञानिकों ने आगे पढ़ें »

रोगों को दूर रखता है सौंफ

  सौंफ के नाम से तो सभी परिचित हैं। हर रसोई में पाई जाने वाली सौंफ चाय बनाने से लेकर, खाना खाने के बाद मुख शोधक आगे पढ़ें »

ऊपर