दिशा सालियान की मौत के सम्बंध में तरह-तरह की अफवाहें, पिता ने दर्ज करायी शिकायत

कहा-सोशल मीडिया पर ‘आपत्तिजनक’ पोस्ट साझा कर रहे हैं लोग
मुंबई : दिवंगत फिल्म अभिनेता सुशांत सिंह राजपूत की पूर्व प्रबंधक दिशा सालियान की मौत के सम्बंध में तरह-तरह की अफवाहें फैली हुई हैं। अफवाहों को लेकर उनके पिता ने मुंबई पुलिस में शिकायत दर्ज करायी है, जिसकी जांच शुरू कर दी गयी है। दिशा के पिता ने हाल में पुलिस को लिखित शिकायत दी कि लोग सोशल मीडिया पर ‘आपत्तिजनक’ पोस्ट साझा कर रहे हैं, जिससे उनकी दिवंगत बेटी और परिवार की बदनामी हो रही है। दिशा के किसी नेता से सम्पर्क होने या फिल्म बिरादरी के बड़े नामों के साथ पार्टी में शामिल होने, बलात्कार और हत्या की खबरें मीडिया के लोगों द्वारा गढ़ी गयी हैं। मेरे परिवार के प्रति ‘गैर संवेदनशील कृत्यों’ के लिए संबंधित लोगों के खिलाफ कार्रवाई की जाये।
मुंबई के मलाड में एक भवन की 14वीं मंजिल से 8 जून को कथित तौर पर कूदने के कारण दिशा की मौत हो गयी थी। कथित आत्महत्या मामले में दुर्घटनावश मौत का मामला दर्ज किया गया था। सुशांत 14 जून को मुंबई में अपने अपार्टमेंट में मृत पाये गये थे। मालूम हो कि बीते कुछ दिनों से सोशल मीडिया पर लगातार ये खबरें चल रही हैं कि सुशांत और दिशा की मौत में कोई न कोई कनेक्शन जरूर है। इसीलिए लोग अब लोग सुशांत के साथ-साथ दिशा को भी न्याय दिलाने की मांग कर रहे हैं।
दिशा सालियान के पिता ने मुंबई के मालवणी पुलिस स्टेशन में तीन लोगों के खिलाफ दर्ज कराई है। इसमें कहा गया है कि पुनीत वशिष्ठ, संदीप मलान और नमन शर्मा नाम के तीन लोगों ने दिशा की मौत को लेकर कई तरह की अफवाएं फैलाई हैं। अतिरिक्त पुलिस आयुक्त (उत्तरी) दिलीप सावंत ने कहा था कि हमने मौके की और शव की तस्वीरें ली थी। शव निर्वस्त्र नहीं था। दिशा का शव 8 जून को किस अवस्था में बरामद हुआ, इस पर झूठे आरोप लगाये जा रहे हैं।

शेयर करें

मुख्य समाचार

फीस नहीं देने के कारण कोई बोर्ड परीक्षा से वंचित नहीं होगा : हाई कोर्ट

कोलकाता : किसी भी छात्र व छात्रा को बोर्ड की परीक्षा में बैठने से सिर्फ इस आधार पर वंचित नहीं किया जा सकता है कि आगे पढ़ें »

व्यापक सुधारों के अभाव में संयुक्त राष्ट्र पर मंडरा रहा ‘भरोसे की कमी’ का संकट : मोदी

संयुक्त राष्ट्र: प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने कहा कि व्यापक सुधारों के अभाव में संयुक्त राष्ट्र पर ‘भरोसे की कमी का संकट’ मंडरा रहा है। उन्होंने आगे पढ़ें »

ऊपर