दिल्ली में 4 से 15 नवम्बर तक सम-विषम योजना लागू : केजरीवाल

दिल्ली में अब यह गैरजरूरी, रिंग रोड बनाने के बाद प्रदूषण कम हुआ : गडकरी
नयी दिल्ली : मुख्यमंत्री अरविन्द केजरीवाल ने शुक्रवार को कहा कि राजधानी दिल्ली में 4 से 15 नवम्बर तक सम-विषम योजना लागू की जायेगी ताकि उस दौरान वायु प्रदूषण से निपटा जा सके। केजरीवाल ने कहा कि जाड़े के दौरान पड़ोसी राज्यों में पराली जलाने से होने वाले वायु प्रदूषण के उच्च स्तर से निपटने के लिए यह कदम उठाया जा रहा है। केजरीवाल ने इस प्रदूषण से निपटने के लिए सात सूत्री कार्य योजना का उल्लेख किया, इसके तहत लोगों को मास्क बांटे जायेंगे। सड़कों की सफाई मशीनों की मदद से होगी, पेड़ लगाये जायेंगे और शहर में प्रदूषण से सबसे ज्यादा प्रभावित 12 जगहों के लिए विशेष योजना भी इसमें शामिल है। इस योजना के तहत एक दिन ऐसे वाहन चलेंगे जिनकी नम्बर प्लेट के नम्बरों की आखिरी संख्या सम होगी तथा अगले दिन वह वाहन चलेंगे, जिनकी नम्बर प्लेट के नम्बरों की आखिरी संख्या विषम होगी।
उधर,केंद्रीय सड़क परिवहन और राजमार्ग मंत्री नितिन गडकरी ने प्रदूषण को नियंत्रित करने के लिए दिल्ली में आड-ईवन योजना को गैर जरूरी करार दिया है। केजरीवाल के इस फैसले पर गडकरी ने मीडिया से बातचीत में कहा कि दिल्ली में केंद्र सरकार के रिंग रोड बनाने के बाद से राजधानी के प्रदूषण में बहुत कमी आयी है। अगले दो वर्ष के दौरान हमारी योजनाओं से दिल्ली प्रदूषण मुक्त शहर हो जायेगा। केन्द्र सरकार ने हरियाणा और राजस्थान से उत्तर प्रदेश और उत्तराखंड जैसे प्रदेशों को आने-जाने वाले वाहनों के दिल्ली में प्रवेश नहीं करने को ध्यान में रखकर ईस्टर्न और वेस्टर्न पेरिफेरल एक्सप्रेस वे का निर्माण किया है। इस एक्सप्रेस वे के बन जाने से ऐसे वाहन जिन्हें दूसरे राज्यों में जाना होता है, उन्हें दिल्ली में प्रवेश की जरूरत नहीं पड़ती और इसकी वजह से राजधानी में प्रदूषण काफी कम हुआ है।

शेयर करें

मुख्य समाचार

मूडीज इन्वेस्टर्स ने बैंकिंग सेक्टर के लिए अनुमान स्थिर से नेगेटिव किया

नई दिल्ली : देश में कोरोना के प्रसार को देखते हुए मूडीज इन्वेस्टर्स ने भारतीय बैंकिंग सिस्टम के लिए अपने अनुमान को स्थिर से बदल आगे पढ़ें »

पीएम केयर्स फंड में दो साल का वेतन देंगे गौतम गंभीर

नयी दिल्ली : क्रिकेटर से राजनीतिज्ञ बने गौतम गंभीर ने गुरुवार को कोविड-19 महामारी से बचाव के लिये सांसद के तौर पर अपना दो साल आगे पढ़ें »

ऊपर