तीन तलाक कानून में अभियुक्त को अग्रिम जमानत देने पर रोक नहीं: कोर्ट

नयी दिल्ली: उच्चतम न्यायालय ने स्पष्ट किया कि मुस्लिम महिला (विवाह अधिकार संरक्षण) कानून 2019 के तहत अपराध के अभियुक्त को अग्रिम जमानत देने पर कोई रोक नहीं है। अदालत को अग्रिम जमानत याचिका स्वीकार करने से पहले शिकायतकर्ता महिला का पक्ष भी सुनना होगा। मालूम हो कि इस कानून के तहत मुस्लिमों में एक ही बार में ‘तीन तलाक’ कहकर शादी तोड़ देने की प्रथा दंडनीय अपराध के दायरे में आ गयी है। कानून के प्रावधानों के तहत पत्नी को तीन तलाक कहकर रिश्ता तोड़ देने वाले मुस्लिम पति को तीन साल तक की जेल की सजा हो सकती है। न्यायमूर्ति डी.वाई.चंद्रचूड़ की अध्यक्षता वाले पीठ ने कानून की संबंधित धाराओं और दंड प्रक्रिया संहिता (सीआरपीसी) के प्रावधानों का जिक्र किया जो व्यक्ति की गिरफ्तारी की आशंका होने पर उसे जमानत देने से जुड़े निर्देशों से संबंधित हैं। न्यायमूर्ति इंदु मल्होत्रा और न्यायमूर्ति इंदिरा बनर्जी भी पीठ का हिस्सा थीं। पीठ ने कहा कि कानून की धारा 7(सी) तथा सीआरपीसी की धारा 438 को कायम रखते हुए इस कानून के तहत अपराध के लिए अभियुक्त को अग्रिम जमानत याचिका देने पर कोई रोक नहीं है, हालांकि अदालत को अग्रिम जमानत देने से पहले शिकायतकर्ता विवाहित मुस्लिम महिला की बात भी सुननी होगी।

शेयर करें

मुख्य समाचार

बीएसएफ के 2 अधिकारियों को पुलिस मेडल

कोलकाता : गणतंत्र दिवस के अवसर पर दक्षिण बंगाल फ्रंटियर, सीमा सुरक्षा के 2 अधिकारियों को राष्ट्र की सेवाओं मे अपने उत्कृष्ठ योगदान हेतु सम्मानित आगे पढ़ें »

विश्व मंच पर लोकप्रियता बटोर रहा है दुआरे सरकार व पाड़ाय समाधान

कहा : खाद्य व चिकित्सा की फ्री परिसेवा बंगाल में 78 प्रतिशत लोगों तक पहुंची दुआरे सरकार की परिसेवा कोलकाता : सरकारी परिसवा पाने के लिए दफ्तरों आगे पढ़ें »

ऊपर