‘तारीख पर तारीख’ लेने की प्रवृत्ति से बचने की राष्ट्रपति की अपील

नयी दिल्लीः आम लोगों को न्याय मिलने में देरी पर चिंता जताते हुए सुप्रीम कोर्ट एडवोकेट ऑन रिकॉर्ड एसोसिएशन की ओर से आयोजित राष्ट्रीय सम्मेलन के उद्घाटन सत्र में राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने शनिवार को संपूर्ण वकील बिरादरी से ‘तारीख पर तारीख’ लेने की प्रवृत्तियों से बचने की अपील की।
उन्होंने न्याय मिलने में देरी को भारतीय न्यायिक प्रणाली के लिए अभिशाप बताया तथा उम्मीद जतायी कि यह बिरादरी सुनवाई के दौरान बेवजह तारीख पर तारीख लेने की प्रवृत्ति से बचेगी। उन्होंने कहा कि विषम परिस्थितियों में ही सुनवाई स्थगित करने का अनुरोध करना चाहिए। देश की विभिन्न अदालतों में करीब 3.30 करोड़ मुकदमे लंबित हैं, जिनमें 2.84 करोड़ अधीनस्थ अदालतों, 43 लाख उच्च न्यायालयों और 58 हजार सर्वोच्च न्यायालय में लंबित हैं।
उन्होंने मुकदमों के निपटारे में देरी के कारणों के लिए आधारभूत संरचनाओं का अभाव तथा अधीनस्थ अदालतों में रिक्तियों को इसका जिम्मेदार बताया।

शेयर करें

मुख्य समाचार

किडनी की समस्या का आयुर्वेद में है इलाज, पढ़ें

नई दिल्ली : किडनी शरीर का महत्वपूर्ण अंग है और फिल्टर माना जाता हैं, यह हमारे शरीर में मौजूद टॉक्सिन को बाहर निकालने का काम आगे पढ़ें »

germany

जर्मनी के पूर्व राष्ट्रपति के बेटे की चाकू से की हत्या

बर्लिन : जर्मनी के पूर्व राष्ट्रपति रिचर्ड फोन के बेटे की चाकू घोंपकर हत्या कर दी गयी। बर्लिन शहर में एक अस्पताल में घुसकर हमलावर आगे पढ़ें »

ऊपर