डब्ल्यूएचओ के कार्यकारी बोर्ड के अध्यक्ष बने डॉ. हर्षवर्द्धन

नयी दिल्ली : केंद्रीय स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्री डॉ. हर्षवर्द्धन शुक्रवार को विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) के कार्यकारी बोर्ड के वर्ष 2020-21 के लिए अध्यक्ष बन गये। कार्यकारी बोर्ड के 147वें सत्र की एक वर्चुअल बैठक में उन्हें निर्वाचित किया गया। वह जापान के हीरोकि नाकातानी का स्थान लेंगे। डॉ. हर्षवर्द्धन ने कहा कि यह भारत और हर देशवासी के लिए गौरव का विषय है। डॉ. हर्षवर्द्धन ने कोविड-19 पर भारत के अनुभवों को भी साझा करते हुए कहा कि भारत की मृत्यु दर केवल 3 प्रतिशत है और 135 करोड़ की आबादी वाले देश में मात्र एक लाख मामले हैं। हमारे रोगियों की स्वस्थ होने की दर 40 प्रतिशत से अधिक है और मामले दोगुना होने की दर 13 दिन है।उन्होंने कोविड-19 को एक बड़ी माननीय त्रासदी मानते हुए कहा कि अगले दो दशकों में कई चुनौतियां आ सकती हैं और इनसे निपटने के लिए साझी कार्रवाई की आवश्यकता होगी क्योंकि इनके पीछे साझा खतरा है। वैश्विक संसाधनों का पूल बनाकर एक-दूसरे का पूरक बनने के लिए मिलकर सहयोग करने, रोगों के कारण होने वाली मौतों में कमी लाने का एक अधिक प्रभावशाली और आक्रामक खाका तैयार करने से रोगों का उन्मूलन किया जा सकता है। दवाओं व वैक्सीन की वैश्विक कमी के समाधान व सुधारों की जरूरत पूरी करने के लिए एक नया खाका बनाने की आवश्यकता है। डॉ.हर्षवर्द्धन ने कहा कि कोरोना जैसी महामारी ने स्वास्थ्य सेवाओं की व्यवस्था की मजबूती और तैयारियों की अनदेखी से होने वाले परिणामों से पूरी तरह अवगत करा दिया है। वैश्विक संकट के ऐसे समय में जोखिम प्रबंधन और जोखिम में कमी लाने दोनों स्थितियों के लिए जनस्वास्थ्य के हितों को पुन: ऊर्जावान बनाने और निवेश करने के लिए वैश्विक भागीदारी को और मजबूत बनाने की आवश्यकता होगी।
दो संस्थाओं से संचालन
डब्ल्यूएचओ का शासन-प्रशासन द वर्ल्ड हेल्थ असेंबली और एग्जिक्युटिव बोर्ड से संचालित होता है। बोर्ड में 34 सदस्य होते हैं। ये स्वास्थ्य क्षेत्र के जानकार होते हैं। सदस्यों को तीन साल के लिए निर्वाचित किया जाता है। हेल्थ असेंबली डब्ल्यूएचओ के सारे फैसले लेती है और संयुक्त राष्ट्र के सभी 194 देश इसके सदस्य होते हैं। एग्जिक्युटिव बोर्ड का मुख्य काम हेल्थ असेंबली के फैसलों को लागू करना और उसे सलाह देना है। ये हैं छह क्षेत्रीय ब्लॉकडब्ल्यूएचओ ने सदस्य देशों को छह क्षेत्रीय समूहों में बांट रखा है- अफ्रीकी क्षेत्र, अमेरिकी क्षेत्र, दक्षिण एशियाई क्षेत्र, यूरोपीय क्षेत्र, पूर्वी भूमध्यसागरीय क्षेत्र और पश्चिमी प्रशांत सागरीय क्षेत्र। इन क्षेत्रों के प्रतिनिधि एक-एक वर्ष के लिए एग्जिक्युटिव बोर्ड के चेयरमैन का पद संभालते हैं।

शेयर करें

मुख्य समाचार

सन्मार्ग एक्सक्लूसिव :आर्थिक पैकेज से हर वर्ग को राहत, न अन्न की कमी, न धन की : ठाकुर

 विशेष संवाददाता, कोलकाता : कोविड-19 संकट के आघात से देश और देश की अर्थव्यवस्था को उबारने के लिए केंद्र सरकार हरसंभव कोशिश कर रही है। आगे पढ़ें »

जार्ज फ्लायड की मौत पर आईसीसी ने कहा, विविधता के बिना क्रिकेट कुछ नहीं

दुबई : अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट परिषद (आईसीसी) ने शुक्रवार को कहा कि ‘क्रिकेट विविधता के बिना कुछ भी नहीं है।’ उसने यह बयान अफ्रीकी मूल के आगे पढ़ें »

टेस्ट मैच में लागू होगा कोरोना सब्स्टीट्यूट, जल्द मिलेगी आईसीसी की मंजूरी

विश्व पर्यावरण दिवस विशेष : तीन दशक से पर्यावरण-जंगल की रक्षा कर रहे रामगढ़ के वीरू महतो

स्थिति ठीक होने पर ही टूर्नामेंट्स हो, आज यूएस ओपन होता है तो मैं नहीं खेलूंगा : नडाल

ट्रेडिंग के आखिरी के घंटों में गंवाया लाभ, निफ्टी 0.32% और सेंसेक्स 128.84 अंक नीचे हुआ बंद

आईडब्ल्यूएफ से मुआवजे की मांग करेंगी भारोत्तोलक संजीता चानू

दर्शकों के बिना कैसे होगा विश्व कप, उचित समय का इंतजार करे आईसीसी : अकरम

बंगाल में तूफान से भी तेज हुई कोरोना मामलों की गति, अब तक के सबसे अधिक आए मामले

पश्चिम बंगाल में बेरोजगारी की दर देश की तुलना में कम: सीएमआईई आंकड़े

एसबीआई ने 2019-20 की चौथी तिमाही में 3,581 करोड़ रुपये का शुद्ध लाभ दर्ज किया

ऊपर