टेरर फंडिंग मामले में मसरत, आसिया और शब्बीर को एनआईए ने किया गिरफ्तार

नई दिल्ली : आतंकियों को धन मुहैया कराने (टेरर फंडिंग) के मामले में अलगाववादियों पर राष्ट्रीय जांच एजेंसी (एनआईए) का शिकंजा कसता जा रहा है। इस मामले मी सुनवाई करते हुए दिल्ली की एक अदालत ने मसरत आलम, आसिया अंद्राबी और शब्बीर शाह को दस दिनों के लिये एनआईए की हिरासत में भेजने का आदेश दिया है।

अदालत में तीनों को गिरफ्तार किया

यह मामला वर्ष 2008 के मुंबई आतंकवादी हमले के सरगना और जमात-उद-दावा प्रमुख हाफिज सईद से जुड़ा है। इस संबंध में एक वकील ने बताया कि एनआईए ने विशेष न्यायाधीश राकेश स्याल की अदालत में तीनों को गिरफ्तार किया। बंद कमरे में चल रही सुनवाई के दौरान तीनों को 15 दिनों की हिरासत में लेकर पूछताछ करने की मांग की गई।

आलम को ट्रांजिट रिमांड पर लाया गया
आरोपियों के वकील एम एस खान ने आसिया और शाह के अलग-अलग मामलों में पहले से ही हिरासत होने की बात कही है। उन्होंने कहा कि आलम को ट्रांजिट रिमांड पर जम्मू-कश्मीर से लाया गया था। मालूम हो कि एनआईए ने 2018 में आतंकी सरगना हाफिज सईद और सैयद सलाउद्दीन सहित दस कश्मीरी अलगाववादियों के खिलाफ घाटी में आतंकवादी गतिविधियों के लिये कथित तौर पर धन मुहैया कराने और अलगाववादी गतिविधियों के मामले में आरोपपत्र दायर किया था।

खान ने कहा कि आरोपियों के खिलाफ जिन अपराधों के तहत आरोप पत्र दायर किया गया है उनमें आईपीसी की धारा 120 बी (आपराधिक षड्यंत्र) और गैर कानूनी गतिविधियां (रोकथाम) अधिनियम, 1967 की धाराएं शामिल हैं। वहीं एनआईए के अनुसार टेरर फंडिंग का मामला 30 मई 2017 को दर्ज हुआ था और पहली गिरफ्तारी पिछले साल 24 जुलाई को हुई थी।

शेयर करें

मुख्य समाचार

कोहली और स्मिथ जैसा बनने के करीब है बाबर : मिसबाह

कराची : पाकिस्तान के मुख्य कोच और मुख्य चयनकर्ता मिसबाह उल हक का मानना है कि बाबर आजम का विश्वस्तरीय बल्लेबाज बनना तय है कि आगे पढ़ें »

धोनी को बिरयानी नहीं खिलाई इसिलिए टीम से बाहर हो गया : कैफ

नई दिल्ली : महेंद्र सिंह धोनी की कप्तानी में भारत ने 2007 में टी20 वर्ल्ड कप का खिताब अपने नाम किया था। इस टीम में आगे पढ़ें »

ऊपर