जासूसी करने वाले साॅफ्टवेयर से बचाव के लिए कंपनी ने कहा- जल्द ही अपडेट करें वाट्सएप

नई दिल्लीः वाट्सएप ने जासूसी करने वाले सॉफ्टवेयर से बचाव करने के लिए जल्द ही अपने यूजर्स को एप का नया वर्जन (2.19.139) तुरंत अपडेट करने की अपील की है। कंपनी के मुताबिक, वॉयस मिस्डकॉल के जरिए स्मार्टफोन में एक सॉफ्टवेयर ऑटोमैटिक इंस्टाल हो रहा है। वॉयस मिस्डकॉल के जरिए फोन में वायरस अटैक और डैमेज होने का खतरा है।

कंपनी के मुताबिक, इस बग की जानकारी मई की शुरुआत में ही मिल गई ‌थी। इसके लिए एडवांस्ड साइबर एक्ट जिम्मेदार है। जिसमें वे सभी हॉलमार्क हैं जो किसी प्राइवेट कंपनी में होते है। कंपनी के मुताबिक इस सॉफ्टवेयर के जरिए हैकर फोन को हैक कर सकते है। यूजर्स के फोटो, वीडियो, कॉन्टैक्ट, चैट, कॉल डिटेल के साथ बैंक से जुड़ी जानकारियों का चोरी हो जाने का खतरा बना हुआ है।

वाट्सएप में नए इमोजी जोड़े गए

कंपनी ने अपडेटे वर्जन में नए इमोजी जोड़ने के साथ 155 इमोजी के डिजाइन में बदलाव किया है। वाट्सएप में यूजर की मर्जी के साथ ग्रुप में जोड़ने वाला फीचर भी आ चुका है।

क्या होता है स्पाइवेयर?

स्पाइवेयर, सॉफ्टवेयर कैटेगरी से लिया गया शब्द है। इसका इस्तेमाल किसी यूजर का पर्सनल डेटा चुराने या हैक करने में किया जाता है। स्पाइवेयर के कई सॉफ्टवेयर होते हैं, जिनका इस्तेमाल चोरी छिपे यूजर्स के कम्प्यूटर, लैपटॉप और फोन में किया जाता है। डेटा चोरी के साथ वायरस भेजकर डिवाइस को क्रैश भी किया जा सकता है। स्पाइवेयर के चार प्रकार- कीलॉगर्स, पासवर्ड स्टीलर, इन्फोस्टीलर और बैंकिंग ट्रोजन हैं।


शेयर करें

मुख्य समाचार

सन्मार्ग एक्सक्लूसिव :आर्थिक पैकेज से हर वर्ग को राहत, न अन्न की कमी, न धन की : ठाकुर

 विशेष संवाददाता, कोलकाता : कोविड-19 संकट के आघात से देश और देश की अर्थव्यवस्था को उबारने के लिए केंद्र सरकार हरसंभव कोशिश कर रही है। आगे पढ़ें »

बैडमिंटन : मंत्रालय की गाइडलाइंस के बाद कोर्ट पर उतरे लक्ष्य

नयी दिल्‍ली : स्पोर्ट्स ऑथोरिटी ऑफ इंडिया (साई) की गाइडलाइंस के बाद बेंगलुरु में पादुकोण-द्रविड़ सेंटर ऑफ एक्सीलेंस अकादमी में बैडमिंटन खिलाड़ियों ने प्रैक्टिस शुरू आगे पढ़ें »

ऊपर