जावेद अख्तर ने कहा- बुर्के से पहले घूंघट पर प्रतिबंध लगाए केंद्र सरकार

भोपाल : बॉलीवुड के मशहूर गीतकार जावेद अख्तर ने बुर्के और घूंघट को लेकर विवादित बयान दिया है। उन्होंने कहा कि सरकार बुर्के के साथ-साथ राजस्थान में घूंघट पर भी प्रतिबंध लगाए। जावेद अख्तर गुरुवार को भोपाल पहुंचे थे। यहां उन्होंने विभिन्न राजनीतिक मुद्दों पर मीडिया के साथ बातचीत की। इस दौरान उन्होंने भोपाल से भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) उम्मीदवार साध्वी प्रज्ञा पर भी निशाना साधा। उन्होंने कहा कि, लोग गलत करके भी खुद को सही साबित करने पर तुले हुए हैं। यह भी कहा कि भाजपा ने साध्वी प्रज्ञा को चुनाव मैदान में उतारकर खुद अपनी हार स्वीकार कर ली।

बुर्के पर नहीं चेहरा ढंकने पर लगा प्रतिबंध

भारत में श्रीलंका की तरह बुर्के पर बैन की हो रही मांग को लेकर अख्तर ने कहा कि श्रीलंका में बुर्के पर प्रतिबंध नहीं लगा, बल्कि चेहरा ढंकने पर प्रतिबंध लगा है। भारत सरकार बुर्के पर प्र‌तिबंध लगाने से राजस्‍थान में घूंघट पर रोक लगाये।

2019 का चुनाव देश के लिए महत्वपूर्ण

इस दौरान जावेद अख्तर ने कहा कि भोपाल में मेरा साढ़े चार साल का समय बीता है, मेरा रोम-रोम यहां का कर्जदार है। इस दौरान उन्होंने कहा कि 2019 का चुनाव देश के लिए महत्वपूर्ण है। जिस रास्ते पर भी देश जाएगा वह बहुत लंबा है। यह चुनाव तय करेगा कि मुल्क किस रास्ते पर जाएगा।

भाजपा ने स्वीकार की हार

उन्होंने कहा कि प्रज्ञा सिंह को भाजपा ने चुनाव मैदान में उतारकर हार स्वीकार कर ली। साध्वी के श्राप से एक देशभक्त शहीद हो सकता है तो उन्हें ऐसा श्राप हाफिज सईद और दूसरे आतंकियों को भी देना चाहिए। दरअसल, प्रज्ञा ने मुंबई हमले में शहीद हेमंत करकरे को लेकर विवादित बयान दिया था। इस पर चुनाव अयोग ने उन पर 72 घंटे का प्रतिबंध भी लगाया है।

मोदी शाह दोनों पसंद नहीं

जावेद अख्तर ने कहा, ‘मैं राहुल गांधी को प्रधानमंत्री के रूप में नहीं देखता और ‘चौकीदार चोर है’ जैसी भाषा का समर्थन नहीं करता। प्रधानमंत्री मोदी और पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह दोनों ही पसंद नहीं। इस बार भाजपा की सरकार नहीं बन रही।’ इसके साथ ही, जावेद अख्तर ने कहा कि देश में राष्ट्रपति चुनाव नहीं हो रहा है जो किसी एक आदमी के नाम पर वोट मांगा जा रहा है। यहां सांसदों के लिए चुनाव हो रहा है। लोग अपना सांसद चुनेंगे, न की मोदी और राहुल को।

ऐसे कई मोदी आए और गए

जावेद ने कहा कि मैं न भाजपा का हूं न कांग्रेस का। मेरे बाप दादा कालापानी में मरे हैं। मुझे कोई देशभक्ति नहीं सझाए। ऐसे कई मोदी आए और गए। हिंदुस्तान है और हमेशा रहेगा। उनके पास कुछ नहीं बचा था तो वो प्रज्ञा के जरिये खुलकर अपने असल रूप में आ गए हैं। आप प्रज्ञा को चुनाव लड़वाएंगे और ये उम्मीद करेंगे लोग उसे वोट दें। क्या यही मिली थी भोपाल के लिए। प्रज्ञा को खड़ा करना ये बताता है कि आप भोपाल के लोगों को कितना तुच्छ समझते हैं। रावण जब सीता हरण के लिए आया था तो वो साधु बनकर आया।

शेयर करें

मुख्य समाचार

वनडे क्रिकेट में किसी भी स्थान पर बल्लेबाजी को तैयार : रहाणे

नयी दिल्ली : भारतीय बल्लेबाज अजिंक्य रहाणे ने कहा कि उनकी अंतररात्मा की आवाज है कि वह एकदिवसीय प्रारूप में राष्ट्रीय टीम में वापसी करेंगे। आगे पढ़ें »

जरूरतमंद पूर्व खिलाड़ियों की मदद करती रहेगी सरकार : रीजिजू

नयी दिल्ली : खेलमंत्री किरेन रीजिजू ने शनिवार को कहा कि मंत्रालय जरूरतमंद पूर्व खिलाड़ियों की आर्थिक मदद करता रहेगा क्योंकि देश के लिये खेलते आगे पढ़ें »

ऊपर