जलवायु परिवर्तन से 10 लाख प्रजातियों के विलुप्त होने का खतरा

नयी दिल्ली : जलवायु परिवर्तन के कारण दुनिया में 10 लाख से अधिक प्रजातियों के विलुप्त होने का खतरा उत्पन्न हो गया है। संयुक्त राष्ट्र संघ की एक ताजा रिपोर्ट में कहा गया है कि जलवायु परिवर्तन मानवीय गतिविधियों की तुलना में कही अधिक प्रजातियों को जोखिम में डाल रहा है। इसकी वजह से पौधों और जीव समूह की करीब 25 प्रतिशत प्रजातियां विलुप्त होने के खतरे का सामना कर रही है। यदि इन कारकों से निपटने के लिए प्रयास नहीं हुए तो कुछ ही दशकों में 10 लाख से अधिक प्रजातियां विलुप्त हो सकती है।

पालतू स्तनधारी पशुओं की 6190 में से 559  प्रजातियां विलुप्त

भारतीय कृषि अनुसंधान परिषद की कृषि पत्रिका में प्रकाशित आलेख के अनुसार मूल निवासियों और स्थानीय समुदायों द्वारा प्रयास किये जाने के बावजूद वर्ष 2016 तक पालतू स्तनधारी पशुओं की 6190 में से 559 प्रजातियां विलुप्त हो गयी। इनका उपयोग भोजन और कृषि उत्पादन में किया जाता था। संयुक्त राष्ट्र पर्यावरण कार्यक्रम ने कहा है कि हर साल लगभग 80 लाख टन प्लास्टिक कचरा समुद्र में फेंका जाता है जो 800 से ज्यादा प्रजातियों के लिए खतरा पैदा करता है। इनमें से 15 प्रजातियां विलुप्त होने के कगार पर है। प्लास्टिक के बारीक कण को मछलियां और अन्य जीव खा लेते हैं।

जल में प्लास्टिक प्रदूषण की मात्रा दस गुना बढ़ी

आम लोग जब मछली खाते हैं तो इसका असर उन पर होता है। वर्ष 1980 के बाद जल में प्लास्टिक प्रदूषण की मात्रा दस गुना बढ़ी है। इससे कम से कम 267 जलीय प्रजातियों के लिए खतरा बढ गया है। इनमें 86 प्रतिशत कछुए, 44 प्रतिशत समुद्री पक्षी और 43 प्रतिशत समुद्री स्तनधारी जीव हैं। विश्व में तीन अरब से अधिक लोग अपनी आजीविका के लिए समुद्र और तटीय जैव विविधता पर निर्भर हैं। समुद्र प्रोटीन का भी स्त्रोत है और इससे तीन अरब से अधिक लोगों को प्रोटीन मिलता है। रिपोर्ट के अनुसार लगभग 40 प्रतिशत महासागर प्रदूषण, घटती मछलियों की संख्या और तटीय पर्यावास के क्षय के साथ इंसानी गतिविधियों से बुरी तरह प्रभावित है।

शेयर करें

मुख्य समाचार

त्वचा को बनाएं निखरा-निखरा

- प्रतिदिन त्वचा पर धूल मिट्टी की परत जमती है और इसकी प्रतिदिन हर सफाई करना आवश्यक है, इसलिए सौम्य साबुन से स्नान करें और आगे पढ़ें »

आप की दिल्ली इकाई का होगा पुनर्गठन : गोपाल राय

नयी दिल्ली : आम आदमी पार्टी ने अपनी दिल्ली इकाई का विधानसभा, जिला, वार्ड, मतदान केंद्र और बूथ स्तर पर पुनर्गठन करने का निर्णय लिया आगे पढ़ें »

ऊपर