जम्मू-कश्मीर में सरकारी नौकरियां अब हुई मूल निवासियों के लिए आरक्षित

नयी दिल्ली : केंद्र सरकार ने अपने तीन दिन पुराने आदेश में संशोधन करते हुए जम्मू-कश्मीर में सभी नौकरियां केंद्रशासित प्रदेश के मूल निवासियों के लिए आरक्षित कर दी हैं। जम्मू-कश्मीर के मूल निवासी वे लोग माने जाएंगे जो वहां कम से कम 15 साल से रह रहे हैं। मूल निवासियों के लिए नियम बनाते हुए, बुधवार को सरकार ने समूह चार तक के लिए ही नौकरियों में आरक्षण का प्रावधान किया था। हालांकि, स्थानीय राजनीतिक दलों की ओर से तीखी प्रतिक्रिया मिलने के बाद शुक्रवार रात एक संशोधित गजट अधिसूचना जारी की गई जिसमें सभी सरकारी पदों को केंद्रशासित प्रदेश के मूल निवासियों के लिए आरक्षित कर दिया गया। यह अधिसूचना -जम्मू कश्मीर पुनर्गठन (राज्य कानूनों का अनुकूलन) आदेश-2020 शीर्षक से जारी की गई।
जम्मू-कश्मीर केंद्रशासित प्रदेश का मूल निवासी हो
संशोधित अधिसूचना में कहा गया है, ‘कोई भी व्यक्ति जम्मू-कश्मीर केंद्रशासित प्रदेश के तहत किसी भी पद पर नियुक्ति के लिए निहित अर्हताओं को पूरा करता हो, वह जम्मू-कश्मीर केंद्रशासित प्रदेश का मूल निवासी होना चाहिए।’ अधिसूचना के एक हिस्से संशोधित जम्मू-कश्मीर सिविल सेवा (विकेंद्रीकरण एवं नियुक्ति) कानून में कहा गया, ‘जम्मू-कश्मीर केंद्रशासित प्रदेश का मूल निवासी नहीं होने पर कोई भी व्यक्ति किसी पद पर नियुक्ति का पात्र नहीं होगा।’ एक अप्रैल की अधिसूचना में, सरकारी नौकरियों को केवल समूह चार तक के लिए आरक्षित किया गया था।

शेयर करें

मुख्य समाचार

बंगाल में आयी कोरोना वायरस संक्रमण की बाढ़

कोलकाता : बंगाल में कोरोना वायरस संक्रमण के पिछले 24 घंटे में 435 नये मामले दर्ज किये गये है। इस दौरान मरने वालों की संख्या आगे पढ़ें »

बॉयकॉट ने बीबीसी की स्पेशल टेस्ट कॉमेंट्री टीम छोड़ी

लंदन : इंग्लैंड के पूर्व कप्तान जैफरी बॉयकॉट ने कोरोना की वजह से बीबीसी की स्पेशल टेस्ट कॉमेंट्री टीम छोड़ दी है। वे 14 साल आगे पढ़ें »

एशिया कप में खेलना सपने सच होने जैसा : कप्तान आशा लता

बड़ी कामयाबी : होम्योपैथी दवा के हमले से ढेर हुआ कोराेना, 42 संक्रमित मरीज हुए स्वस्थ

इंसानियत हुई तार-तार : गर्भवती हथिनी के बाद अब गर्भवती गाय को खिलाया विस्फोटक, देशभर में आक्रोश

मिथिला की बेटी मधु माधवी का प्रतिष्ठित जेम्स वॉट मेडल के लिए हुआ चयन

पाक ने की नापाक हरकत, जम्मू में अंतरराष्ट्रीय सीमा के पास चौकियों पर की अकारण गोलीबारी

SUPREME COURT

क्या निजी अस्पताल कोरोना मरीजों का फ्री इलाज करने को तैयार हैं : सुप्रीम कोर्ट

बड़ा कदम : निजी अस्पतालों का कोरोना इलाज शुल्क 15 हजार रुपये अधिकतम सीमा हुआ तय

50 हजार पेड़ लगायेगी कोलकाता पुलिस : सीपी

ऊपर