जम्मू-कश्मीर में कई पाबंदियों के बीच सीआरपीएफ ने लोगों तक पहुंचाई मदद

श्रीनगरः जम्मू-कश्मीर से हटाए गए अनुच्छेद-370 को लेकर लगभग 40 दिन बीत गए हैं। इससे यहां हालत सामान्य है वहीं कश्मीर घाटी में धीरे-धीरे पाबंदियां हटाई जा रही है। कश्मीर में पूरी तरह से फोन, इंटरनेट या मोबाइल की सुविधा अभी शुरू नहीं हुई है ऐसे में जो लोग बाहर हैं और अपने घर वालों से संपर्क करना चाह रहे हैं उनके लिए केन्द्रीय रिज़र्व पुलिस बल (सीआरपीएफ) मददगार साबित हुई है।

सीआरपीएफ के द्वारा चलाई जा रही ‘मददगार’ मुहिम में 5 अगस्त से अब तक 34 हजार से ज्यादा फोन आए हैं। इनमें अधिकतर फोन अपने रिश्तेदारों का हालचाल जानने के लिए किए गए हैं। इन हजारों कॉल्स में से 1227 केस ऐसे हैं, जहां पर सीआरपीएफ के जवानों ने कॉलर के परिवारजनों को ढूंढा  और  बात करवाई। इसके अलावा हजारों एयर टिकेट, पढ़ाई, पैसा, परीक्षा से जुड़ी समस्याओं को लेकर फोन किया गया। सीआरपीएफ की तरफ से ना सिर्फ लोगों को बात करवाने बल्कि खाना, दवा व अन्य जरूरत की चीजों में भी मदद पहुंचाई गई। हालांकि, मंगलवार को मुहर्रम की वजह से एक बार फिर सख्त रुख अपनाया जा रहा है।

शेयर करें

मुख्य समाचार

लोगों में पीओके की आजादी के लिये ‘जुनून’ है : ठाकुर

जम्मू : केंद्रीय मंत्री अनुराग ठाकुर ने सोमवार को कहा कि जम्मू-कश्मीर के विशेष दर्जे को समाप्त करने के बाद पाकिस्तान के कब्जे वाले कश्मीर आगे पढ़ें »

पिछले पांच-छह साल में बढ़े हैं दलितों पर अत्याचार : प्रशांत भूषण

नयी दिल्ली : भीम आर्मी द्वारा आयोजित संवाददाता सम्मेलन में सामाजिक कार्यकर्ता व वकील प्रशांत भूषण ने सोमवार को आरोप लगाया कि पिछले पांच-छह साल आगे पढ़ें »

ऊपर