जदयू को बिहार समेत अन्य राज्यों में भी सम्मानजनक सीटें चाहिए

पटनाः लोकसभा चुनाव में अभी देरी है। लेकिन सीटों के बंटवारे को लेकर अभी उठापटक जारी है। ऐसे में जदयू भला पीछे कैसे रह सकती है। लोकसभा चुनाव में जदयू को तालमेल में केवल बिहार ही नहीं, बल्कि अन्य राज्यों में भी सम्मानजनक संख्या में सीटें चाहिए कहकर नई तान छेड़ दी है।
बिहार ही नहीं अन्य राज्यों में भी चाहिए सम्मानजनक सीटें
पार्टी के प्रधान राष्ट्रीय महासचिव केसी त्यागी ने शनिवार को कहा कि झारखंड, राजस्थान, कर्नाटक, उत्तर प्रदेश और मध्य प्रदेश में भी हमें सीटें चाहिए।उन्होंने कहा कि जदयू के राष्ट्रीय अध्यक्ष नीतीश कुमार के चेहरे का एनडीए को अधिक से अधिक लाभ उठाना चाहिए। नीतीश कुमार के नाम पर बिहार ही नहीं, बिहार के बाहर भी लोग एनडीए को वोट करेंगे। एनडीए के लिए प्रचार करने को उन्हें बिहार से बाहर भी बुलाया जाए।
नीतीश का चेहरा राष्ट्रीय स्तर पर इस्तेमाल किया जाना चाहिए
त्यागी ने कहा कि झारखंड, राजस्थान, कर्नाटक, उत्तर प्रदेश और मध्य प्रदेश ऐसे राज्य हैं जहां समाजवादियों का प्रभाव रहा है। जदयू इन राज्यों में एनडीए की ओर से अपना प्रत्याशी उतारेगा तो अंतत: एनडीए को ही लाभ होगा। उन्होंने कहा कि एनडीए के समक्ष 2019 लोकसभा चुनाव की जो चुनौती है उसका सामना करने के लिए नीतीश कुमार के चेहरे का बिहार के बाहर राष्ट्रीय स्तर पर इस्तेमाल किया जाना चाहिए।
बता दें कि इससे पहले सीटों के बंटवारे और बिहार में राजग के चेहरे को लेकर भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) व जनता दल यूनाइटेड (जदयू) में तकरार हुई। भाजपा के अधिक सीटों पर दावे के बाद जदयू प्रवक्ता संजय सिंह ने कहा कि अगर भाजपा को सहयोगी पार्टियों की ज़रूरत नहीं है तो वह अकेले ही सभी 40 लोकसभा सीटों पर चुनाव लड़े। जदयू अकेले चुनाव लड़ने को लेकर आश्‍वस्‍त है। हालांकि, उन्‍होंने यह भी कहा कि सीट बंटवारे का यह मसला बड़े नेता मिल-बैठकर सुलझा लेंगे।
जदयू 2015 के गत विधानसभा चुनाव के नतीजों को सीट बंटवारे का आधार बनाना चाहता है। गत विधानसभा चुनाव में बिहार की 243 सीटों में जदयू को 71 सीटें मिलीं थीं। तब भाजपा को 53 और लोजपा व रालोसपा को क्रमश: दो-दो सीटें मिलीं थीं। उस चुनाव में जदयू राष्‍ट्रीय जनता दल (राजद) तथा कांग्रेस के साथ महागठबंधन में था। बाद में वह राजग में शामिल हो गया।

शेयर करें

मुख्य समाचार

2 साल पहले बनी पानी टंकी ताश के पत्ते की तरह ढही

16 गांवों में होती थी पानी सप्लाई सन्मार्ग संवाददाता बांकुड़ा : निर्माण के तीन वर्ष पूरा होने से पहले ही ताश के पत्ते की तरह पीएचई की आगे पढ़ें »

असली ‘टुकड़े – टुकड़े गैंग’ है सत्ताधारी पार्टी : थरूर

सन्मार्ग संवाददाता कोलकाता : कांग्रेस सांसद शशि थरूर ने बुधवार को कहा कि विकास का कोई एजेंडा नहीं होने के चलते भारतीय जनता पार्टी अब एक आगे पढ़ें »

ऊपर