चुुनाव हारने के बाद पहली बार अमेठी पहुंचे राहुल, कार्यकर्ताओं से की भेंट

लखनऊ : कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी लोकसभा चुनाव में हार के बाद पहली बार अमेठी पहुंचे। कांग्रेसी नेता स्व. डॉ गंगा प्रसाद गुप्ता के निधन पर शोक संवेदना व्यक्त करने के लिए राहुल लखनऊ एयरपोर्ट से होते हुए सड़क के रास्ते गौरीगंज पहुंचे। वहां राहुल ने उनके परिवार से मुलाकात की जिसके बाद उनका काफिला निर्मला शैक्षिक संस्थान की ओर रवाना हो गया। यहां पहुंचकर राहुल ने कांग्रेस पार्टी के कार्यकर्ताओं से भेंट की। इसके बाद एक बैठक भी आयोजित की गई जहां राहुल ने कहा कि अमेठी से अभी उनका रिश्ता टूटा नहीं है। उन्होंने कहा कि वो अमेठी को छोड़ेंगे नहीं, यहांं लगातार आते रहेंगे। साथ ही उन्होंने कहा कि पार्टी की महासचिव प्रियंका वाड्रा भी यहां आएंगी। राहुल ने कार्यकर्ताओं का हौसला बांधते हुए कहा कि हार से निराश नहीं होना चाहिए, सबको मिलकर क्षेत्र में पार्टी को मजबूत करना होगा।

जरूरत पड़ने पर हमेशा खड़े रहेंगे

राहुल अमेठी से तो हार गए लेकिन उन्होंने केरल के वायनाड से जीत हासिल की। अपने अमेठी दौरे पर राहुल ने कहा कि वो अब वायनाड से सांसद है, इसलिए ज्यादा समय उनको वहां देना होगा। लेकिन जब कभी भी अमेठी में पार्टी को उनकी आवश्यकता पड़ेगी वो हमेशा उनके साथ खड़े रहेंगे। कार्यकर्ताओं के साथ राहुल की बैठक समाप्‍त होने के बाद गेट के बाहर बैठक में प्रवेश न मिलने पर नाराज कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने जिलाध्यक्ष योगेंद्र मिश्र के खिलाफ नारेबाजी शुरू की। राहुल के अमेठी पहुंचने के बाद अब स्मृति के साथ जारी सियासी लड़ाई का रुख क्या होगा ये देेखना दिलचस्प रहेेगा।

राहुल के पहुंचने से पहले शुरू हुआ पोस्टर वॉर

अमेठी में राहुल के पहुंचने से पहले ही सियासी दाव शुरू हो गया। राहुल के दौरे से पहले ही अमेठी में जगह-जगह पोस्टर लगा दिए गए जिसमें संजय गांधी अस्पताल को लेकर राहुल गांधी से जवाब मांगा जा रहा था। उस पोस्टर में लिखा है कि ‘न्याय दो न्याय दो, मेरे परिवार को न्याय दो। दोषियों को सजा दो, इस अस्पताल में जिंदगी बचाई नही गंवाई जाती है।’ इन पोस्टरों को लेके सुबह से ही अमेठी में चर्चा हो रही है।

शेयर करें

मुख्य समाचार

लोगों में पीओके की आजादी के लिये ‘जुनून’ है : ठाकुर

जम्मू : केंद्रीय मंत्री अनुराग ठाकुर ने सोमवार को कहा कि जम्मू-कश्मीर के विशेष दर्जे को समाप्त करने के बाद पाकिस्तान के कब्जे वाले कश्मीर आगे पढ़ें »

पिछले पांच-छह साल में बढ़े हैं दलितों पर अत्याचार : प्रशांत भूषण

नयी दिल्ली : भीम आर्मी द्वारा आयोजित संवाददाता सम्मेलन में सामाजिक कार्यकर्ता व वकील प्रशांत भूषण ने सोमवार को आरोप लगाया कि पिछले पांच-छह साल आगे पढ़ें »

ऊपर