चारा घोटालाः चौथे मामले में लालू दोषी करार, 21 से 23 मार्च के बीच में होगा सजा का फैसला

पटनाः बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री लालू यादव को कोर्ट ने दुमका मामले में दोषी करार दिया है जबकि पूर्व मुख्यमंत्री जगन्नाथ मिश्र को रिहा कर दिया गया है।
दुमका कोषागार मामले के तहत लालू पर 3 करोड़, 13 लाख रुपये का गबन करने का आरोप था। इस मामले में सजा का एलान 21 मार्च से 23 मार्च के बीच किया जाएगा। कोर्ट ने  बिहार के दूसरे पूर्व मुख्यमंत्री जगन्नाथ मिश्र समेत 12 लोगों को इस मामले में सबूतों के अभाव में बाइज्जत बरी कर दिया। लालू यादव और जगन्नाथ मिश्र तथा अन्य पहले से ही चारा घोटाला के तीन मामलों में दोषी ठहराये जाने के बाद से बिरसा मुंडा जेल में बंद हैं।
12 रिहा, 19 लोगों को सजा
लालू प्रसाद यादव को कोर्ट ने पेश होने के लिए कहा था लेकिन लालू के जेल से कोर्ट पहुंचने से पहले ही उनके खिलाफ फैसला सुना दिया गया। हालांकि, अभी उनकी सजा का ऐलान नहीं किया गया है। कोर्ट से लालू फिर अस्पताल चले गए हैं, जहां तबीयत खराब होने के चलते वह पहले से ही भर्ती हैं। सीबीआई के वकील ने बताया कि दुमका मामले में 12 लोगों को रिहा किया गया है, जबकि लालू समेत 19 आरोपियों को दोषी पाया गया है। हालांकि, अभी सजा का ऐलान नहीं हुआ है। उन्होंने बताया कि कोर्ट ने कहा है कि 21, 22 और 23 मार्च को सजा पर बहस होगी। उन्होंने बताया कि हर दिन 6-6 दोषियों को सजा सुनाई जाएगी। ऐसे में माना जा रहा है कि 22 मार्च को लालू प्रसाद की सजा पर ऐलान हो सकता है।
ये दोषी करार
अजीत कुमार वर्मा, आनंद कुमार सिंह, नंद किशोर, महेंद्र सिंह वेदी, राज कुमार, राजा राम, रघुनंदन प्रसाद, राजेन्द्र कुमार, फूलचंद और सरमेंद्र दास व अन्य को दोषी पाया गया है। जबकि पूर्व मुख्यमंत्री जगन्नाथ मिश्रा के अलावा एमसी सुवर्णो, ध्रुव भगत, अधीप चंद, जगदीश शर्मा, महेश प्रसाद, आरके राणा को बरी कर दिया गया है।

चारा घोटाले में फैसला हमारे खिलाफ, लेकिन हम देश छोड़ने वाले नहीं हैं: राबड़ी देवी
बिहार की पूर्व मुख्यमंत्री राबड़ी देवी ने अपने पति और राष्ट्रीय जनता दल के नेता लालू प्रसाद यादव को चारा घोटाले के मामले में दोषी करार देने पर टिप्पणी की है। राबड़ी देवी ने कहा है कि वह कोर्ट के फैसले का सम्मान करती हैं। बिहार की पूर्व सीएम रहीं राबड़ी ने कहा कि उन्हें कोर्ट से राहत मिलने की उम्मीद थी, लेकिन ऐसा नहीं हुआ। राबड़ी ने कहा कि ऐसा नहीं हुआ, इसलिए वे राहत के लिए उच्च न्यायालय की शरण में जाएंगे। राबड़ी ने इसके साथ ही टिप्पणी की कि भले ही कोर्ट से उनके खिलाफ फैसला आया हो, लेकिन वे देश छोड़ कर नहीं जाने वाले हैं। राबड़ी की टिप्पणी पिछले दिनों के घटनाक्रम को लेकर है। कुछ दिनों पहले पीएनबी में महाघोटाले और फर्जीवाड़े के आरोपी नीरव मोदी और मेहुल चोकसी देश छोड़कर चले गए थे। इन दोनों हीरा व्यापारियों के देश छोड़कर जाने के बाद विपक्षी दल लगातार सत्तारूढ़ दल भाजपा को निशाने पर लिए हुए हैं। वहीं, दूसरी ओर बिहार में लालू प्रसाद यादव समेत राजद के दूसरे नेता अपने खिलाफ सीबीआई समेत दूसरी जांच एजेंसियों की कार्रवाई के पीछे केंद्र में सत्तारूढ़ भाजपा का हाथ बताते रहे हैं। राबड़ी देवी ने अपने पति को चारा घोटाले के एक और मामले में दोषी ठहराए जाने पर टिप्पणी कर अप्रत्यक्ष रूप से भाजपा पर ही निशाना साधा है।

शेयर करें

मुख्य समाचार

एसबीआई बैंक ने एमसीएलआर रेट में 0.10 फीसद कटौती की

नई दिल्ली : आज एसबीआई बैंक ने सभी अवधि के लोन पर एमसीएलआर रेट में 0.10 फीसद कटौती की घोषणा की है, जिसके बाद एक आगे पढ़ें »

उंगलियां चटकाने की आदत बढ़ा सकती है आपकी परेशानी,पढ़ें

नई दिल्ली : बहुत से लोगों को उंगलियां चटकाने की आदत होती है, लेकिन ये शौक आपको गंभीर बीमारी का शिकार बना सकता है। जी आगे पढ़ें »

ऊपर