कोरोना से लड़ने के लिए रोज पीयें चाय : आईआईटी दिल्ली

नयी दिल्ली : भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान- दिल्ली (आईआईटी-दिल्ली) ने शोध एवं अनुसंधान कर चाय और हरड़ को भी कोरोना से लड़ने से सक्षम पाया है और लोगों को इसका नियमित सेवन करने की सलाह दी है। आईआईटी दिल्ली ने नये शोध में यह खुलासा किया है कि चाय और हरड़ के नाम से जानी जाने वाली हरीतकी को कोरोना संक्रमण के उपचारात्मक विकल्प के रुप में लिया जा सकता है। वैकल्पिक उपचार पद्धति में औषधीय गुणों वाले पौधे महत्वूपर्ण भूमिका अदा करते हैं।

ब्लैक टी, ग्रीन टी और हरीतकी उपयोगी

इसी दिशा में कुसुम स्कूल ऑफ बॉयोलॉजिकल साइंसेज,आईआईटी दिल्ली के प्रोफेसर अशोक कुमार पटेल की अगुवाई में किये गये शोध से यह पता चला कि चाय (ब्लैक और ग्रीन टी) तथा हरीतकी में वायरस रोधी गुण हैं जो कोविड-19 के उपचार में विकल्प के रुप में अपनाये जा सकते हैं। पटेल ने कहा कि दुनिया भर के वैज्ञानिक कोविड-19 के उपचार के लिए शोधरत हैं।

हमने कुल 51 औषधीय पौधों की जांच की

इसी दिशा में हमारी टीम ने औषधीय पौधों का उपयोग किया। हमने लैब में वायरस के एक मुख्य प्रोटीन 3सीएलप्रो प्रोटीज को क्लोन किया। हमने कुल 51 औषधीय पौधों की जांच की। इन- विट्रो एक्सपेरिमेंट में पाया कि ब्लैक टी और ग्रीन टी तथा हरीतकी मुख्य प्रोटीन की गतिविधि को रोक पाने में सक्षम हैं।

मुख्य प्रोटीन को कम करने में बहुत प्रभावी

चाय और हरीतकी में मौजूद गैलोटिनिन वायरस के मुख्य प्रोटीन को कम करने में बहुत प्रभावी है। शोधार्थियों की टीम में पीएचडी छात्र सौरभ उपाध्याय और प्रवीण कुमार त्रिपाठी, पोस्ट डॉक्टरेट डॉ शिवा राघवेंद्र, रिसर्च फेलो मोहित भारद्वाज और मोरारजी देसाई राष्ट्रीय योग केंद, की आयुर्वेदिक वैद्य डॉ मंजू सिंह शामिल हैं।

शेयर करें

मुख्य समाचार

12 अगस्‍त को दुनिया की पहली कोरोना वैक्‍सीन होगी पंजीकृत

वायरस टीके के लिए रूस की जल्दबाजी ने पश्चिम में चिंताएं बढायीं मॉस्को : दुनियाभर में जहां कोरोना वायरस के मामलों में तेजी से बढ़ोतरी हो आगे पढ़ें »

बीसीसीआई का दावा, यूएई में आईपीएल कराने को केंद्र सरकार की हरी झंडी

नयी दिल्ली : भारतीय क्रिकेट बोर्ड (बीसीसीआई) को इस साल इंडियन प्रीमियर लीग (आईपीएल) संयुक्त अरब अमीरात (यूएई) में कराने की मंजूरी मिल गयी है आगे पढ़ें »

ऊपर