किसी भी हालात के लिए तैयार रहें कमांडर : नरवणे

narvane

नयी दिल्ली : थल सेना प्रमुख जनरल नरवणे ने तेजपुर स्थित चौथी कोर मुख्यालय में फील्ड कमांडरों से कहा कि ‘किसी भी हालात’ के लिए तैयार रहें और मोर्चे पर उच्चस्तरीय ऑपरेशनल तैयार को बरकरार रखें। जनरल नरवणे दो दिवसीय दौरे पर तेजपुर पहुंचे थे। इस दौरान उन्होंने अरुणाचल प्रदेश में एलएसी पर भारत की सैन्य तैयारियों का जायजा लिया।वहीं, पूर्वी लद्दाख में चीन से लगती वास्तविक नियंत्रण रेखा (एलएसी) पर करीब 1597 किलोमीटर तक भारतीय सेना की तैनाती रहेगी जब तक की चीनी फौज अपनी पूर्ववर्ती जगहों पर नहीं चली जाती है। सीमा पर चीन की पीपुल्स लिबरेशन आर्मी (पीएलए) के साथ हालात सामान्य करने की दिशा में असफल प्रयास के बाद पूरे मामले से वाकिफ सूत्रों के अनुसार भारत ने कई मौकों पर चीन से कहा है कि द्विपक्षीय संबंधों को सामान्य बनाने के लिए उसे पूर्वी लद्दाख की टकराव वाली जगहों पर 20 अप्रैल से पूर्व की स्थिति में आना होगा, लेकिन चीन ने ऐसा नहीं किया है। चीन पर पलटवार के तहत भारत पहले ही करीब 100 से ज्यादा चीन के मोबाइल ऐप बैन कर चुका है। साथ ही सरकार ने ठेकों में चीन की कंपनियों को रोकने के लिए नियम भी बदल दिए हैं।
पीएलए नहीं हटी तो संबंध और खराब होंगे
अगर राष्ट्रपति शी जिनपिंग के नेतृत्व में पीएलए वास्तविक नियंत्रण रेखा (एलएसी) से न हटते हुए पहले की स्थिति बहाल नहीं करती है तो भारत और चीन के बीच संबंधों में और तनाव आयेगा हालांकि चीन अब भी इस उम्मीद में है कि भारत घरेलू दबाव में आकर गतिरोध को समाप्त कर देगा।
सेना प्रमुख ने तैयारियों का जायजा लिया
इस बीच थल सेना प्रमुख जनरल नरवणे ने तेजपुर स्थित चौथी कोर मुख्यालय में फील्ड कमांडरों से कहा कि कि किसी भी हालात के लिए तैयार रहें और मोर्चे पर उच्चस्तरीय ऑपरेशनल तैयार को बरकरार रखें। जनरल नरवणे दो दिवसीय दौरे पर तेजपुर पहुंचे थे। इस दौरान उन्होंने अरुणाचल प्रदेश में एलएसी पर भारत की सैन्य तैयारियों का जायजा लिया।

शेयर करें

मुख्य समाचार

मेरी मातृभाषा गुजराती है और हिंदी मेरी मौसी है : आरजे वशिष्ठ

कोलकाताः "कोलकाता से मेरा नाता काफी पुराना है। सिटी ऑफ जॉय कहे जाने वाले इस शहर का नाम ही इतना प्यारा है तो इस जगह आगे पढ़ें »

मरीज था वेंटिलेटर पर, मिनरल वाटर का भी बनाया बिल

सन्मार्ग संवाददाता कोलकाताः ढाकुरिया स्थित एक निजी हॉस्पिटल में भर्ती 74 साल के मरीज के परिजनों ने वेस्ट बंगाल क्लिनिकल इस्टेब्लिशमेंट रेग्युलेटरी कमिशन में अधिक बिल आगे पढ़ें »

ऊपर