किसान प्रदर्शन का सातवां दिन: दिल्ली की सीमाओं पर कड़ी सुरक्षा

हल तलाशने के लिए शाह के घर पर हुई तोमर और गोयल की बैठक, किसानों के साथ अगले दौर की बातचीत कल
नयी दिल्ली: केन्द्र के तीन नये कृषि कानूनों के खिलाफ बुधवार को किसानों के बढ़ते प्रदर्शन के मद्देनजर दिल्ली-उत्तर प्रदेश के गाजीपुर बॉर्डर पर पुलिस सुरक्षा और बड़ा दी गयी है। हजारों किसानों के राष्ट्रीय राजधानी में दाखिल होने के प्रमुख मार्गों पर लगातार सात दिनों से डटे होने के कारण बुधवार को भी यातायात धीमा रहा। ऑफिस जाने वालों को काफी परेशानियों का सामना करना पड़ा। सिंघु और टिकरी हरियाणा-दिल्ली बॉर्डर को पुलिस ने यातायात के लिए अब भी बंद कर रखा है। वहीं शहर के उत्तर प्रदेश से लगने वाले गाजीपुर बॉर्डर पर प्रदर्शन तेज हो गया है। दिल्ली-उत्तर प्रदेश बॉर्डर पर हो रहे प्रदर्शन के कारण राज्य को राष्ट्रीय राजधानी से जोड़ने वाला एक प्रमुख मार्ग बंद है। गौतम बुद्ध नगर के पास किसानों के प्रदर्शन के कारण ‘नोएडा लिंक रोड’ पर चिल्ला बॉर्डर बंद है। लोगों से नोएडा जाने के लिए ‘नोएडा लिंक रोड’ की बजाय एनएच-24 और डीएनडी का इस्तेमाल करने का सुझाव दिया गया है। दिल्ली को गुड़गांव और झज्जर-बहादुरगढ़ से जोड़ने वाले दो अन्य बॉर्डर भी बंद कर दिए गए हैं। यातायात पुलिस ने टिकरी, झाड़ौदा और झटीकरा बॉर्डर को भी हर तरह के यातायात के लिए बंद कर दिया गया है। यातायात को अन्य मार्गों पर परिवर्तित करने की वजह से जाम लग गया है। इस बीच, दिल्ली की सीमाओं पर भारी बल की तैनाती रही और कंक्रीट के अवरोधक अब भी वहां हैं। किसानों के ‘दिल्ली चलो’ प्रदर्शन मार्च के मद्देनजर एहतियाती तौर पर दिल्ली के सीमा बिंदुओं पर वाहनों की तालाशी बढ़ा दी गई है।
मालूम हो कि नये केंद्रीय कृषि कानूनों के खिलाफ प्रदर्शन कर रहे किसान संगठनों की चिंताओं पर गौर करने के लिए एक समिति गठित करने के सरकार के प्रस्ताव को मंगलवार को किसान प्रतिनिधियों ने ठुकरा दिया था। सरकार के वरिष्ठ मंत्रियों और अधिकारियों के साथ मंगलवार को हुई लंबी बैठक का कोई नतीजा नहीं निकला। अब अगली बैठक गुरुवार को होगी है। मालूम हो कि तीन नये कृषि कृषि कानूनों को वापस लेने की मांग को लेकर बड़ी संख्या में किसान दिल्ली से लगी सीमाओं पर करीब एक सप्ताह से प्रदर्शन कर रहे हैं।
बुधवार को दिल्ली से नोएडा में भारतीय किसान परिषद के लोगों को महामाया के पास से पुलिस ने गिरफ्तार किया है। सभी को पुलिस लाइन भेजा गया है। वे नोएडा से डीएनडी के रास्ते दिल्ली जाने की जिद की कर रहे थे। करीब 60 किसान पुलिस लाइन में कैद किये गये। हालांकि नोएडा सेक्टर 14 ए स्थित नोएडा प्रवेश द्वार पर दिल्ली से आने वाले मार्ग को किसानों और पुलिस के बीच हुई सहमति के बाद खोल दिया गया है। सिंघु बॉर्डर पर हजारों किसान धरने पर बैठे हुए हैं। बुधवार दोपहर में किसानों को संबोधित के दौरान आम आदमी पार्टी के पूर्व विधायक जरनैल सिंह ने कृषि कानून की प्रति को फाड़ दिया।
कृषि बिल पर सरकार के साथ वार्ता से पहले बुधवार शाम सिंघु बॉर्डर पर होगी किसान संगठनों की बड़ी बैठक होने वाली है। इस बैठक में सभी किसान संगठनों के पदाधिकारी सरकार के समक्ष उठाए जाने वाले अपने-अपने मुद्दे साझा करेंगे।
वहीं, इस मुद्दे का जल्द हल तलाशने के लिए बुधवार को एक बार फिर केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह के घर पर केंद्रीय कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर और पीयूष गोयल की उपस्थिति में बैठक हुई। इससे पहले मंगलवार को भी केंद्रीय मंत्रियों ने सरकार बैठक के बाद किसानों के साथ चर्चा कर इस मुद्दे को जल्द से जल्द हल करने की कोशिश की थी, जो बेनतीजा रही थी। एक बार फिर इस मुद्दे पर 3 दिसंबर को किसानों और सरकार के बीच चौथे दौर की वार्ता होगी।

शेयर करें

मुख्य समाचार

बॉर्डर पर फिर झड़प, चीन के 20 सैनिक घायल, सिक्किम में भारतीय सैनिकों ने खदेड़ा

नई दिल्ली : पूर्वी लद्दाख में लाइन ऑफ एक्चुअल कंट्रोल (एलएसी) पर तनाव के बीच सिक्किम में भारत और चीन की सेना के बीच झड़प आगे पढ़ें »

पौष्टिक हो सुबह का नाश्ता

रात के भोजन एवं सुबह के नाश्ते के बीच का अंतर 10 से 12 घंटे तक हो जाता है। हमारा शरीर निद्रावस्था में भी ऊर्जा आगे पढ़ें »

ऊपर