एससी का जम्मू कश्मीर में मूल निवासी आरक्षण के खिलाफ याचिका पर सुनवाई से इनकार

SUPREME COURT

नयी दिल्ली : उच्चतम न्यायालय ने सरकारी नौकरियों में केंद्र शासित प्रदेश जम्मू कश्मीर के मूल निवासियों को सौ फीसदी आरक्षण देने वाले कानूनी प्रावधानों को चुनौती देने वाली याचिका पर सुनवाई से बुधवार को इनकार कर दिया। न्यायमूर्ति एल नागेश्वर राव, न्यायमूर्ति हेमंत गुप्ता और न्यायमूर्ति एस रवींद्र भट की पीठ ने लद्दाख के वकील नजुम उल हुडा से कहा कि वह राहत के लिये जम्मू कश्मीर न्यायालय में याचिका दायर करें।
3ए, 5ए, 6, 7 और 8 को रद्द करने की मांग
याचिका में जम्मू कश्मीर सिविल सर्विसेज कानून की धाराओं 3ए, 5ए, 6, 7 और 8 को रद्द करने की मांग की है क्योंकि यह भारत के संविधान के अनुच्छेद 14, 16, 19 और 21 का उल्लंघन हैं। इन धाराओं में सरकारी नौकरियों में केंद्र शासित प्रदेश जम्मू कश्मीर के मूल निवासियों को 100 फीसदी आरक्षण देने का प्रावधान है।
50 फीसदी से अधिक का आरक्षण नहीं
वकील निशांत खत्री के माध्यम से दायर याचिका में कहा गया था कि पिछले साल अगस्त में अनुच्छेद 370 रद्द किए जाने के बाद केंद्र शासित प्रदेश में सभी कानून और उच्चतम न्यायालय के फैसले लागू हैं जो देश के बाकी हिस्सों में प्रभावी हैं। इसमें कहा गया है, ‘अगर निवास के आधार पर केंद्र शासित प्रदेश को कोई भी आरक्षण दिया जाता है तो यह संविधान के अनुच्छेद 16(3) के अनुरूप ही किया जा सकता है।’ याचिका में कहा गया है कि अनुच्छेद 16 के तहत 50 फीसदी से अधिक का आरक्षण नहीं दिया जा सकता।

शेयर करें

मुख्य समाचार

शुरुआती कारोबार में सेंसेक्स 200 अंकों से अधिक गिरा, निफ्टी 11,300 से नीचे आया

मुंबई : नकारात्मक वैश्विक संकेतों के बीच प्रमुख शेयर सूचकांक सेंसेक्स बुधवार को शुरुआती कारोबार के दौरान 200 अंकों से अधिक गिर गया। इस दौरान आगे पढ़ें »

युवाओं को इतिहास के यथार्थ से परिचित कराने की आवश्यकता : नायडू

नयी दिल्ली : उपराष्ट्रपति एम वेंकैया नायडू ने इतिहास के सम्पूर्ण प्रामाणिक यथार्थ को समग्रता में प्रकाश में लाने की आवश्यकता बल देते हुए बुधवार आगे पढ़ें »

ऊपर